महाराणा प्रताप का प्रसिध्द नीलवर्ण घोडा चेतक उनका अत्यंत प्रिय घोड़ा था. महाराणा प्रताप के समक्ष अरबी नस्ल के तीन घोड़े एक अरब व्यापारी लेकर आया जिनके नाम चेतक, त्राटक एवं अटक थे. प्रताप ने घोड़ो का परिक्षण किया जिसमे चेतक और त्राटक सफल हुए. महाराणा ने चेतक को अपने पास रख लिया और त्राटक छोटे भाई को दे दिया.

maharana-pratap-brave-horse-chetak

मंदिर से जुड़े फोटो देखने के लिए नेक्स्ट पर क्लिक करें..

http://dilsedeshi.com/wp-content/uploads/2016/08/maharana-pratap-brave-horse-chetak5.jpghttp://dilsedeshi.com/wp-content/uploads/2016/08/maharana-pratap-brave-horse-chetak5-150x150.jpgदिल से देशीइतिहासराष्ट्र सर्वोपरि