कैसे रहे हमेशा जवान, स्वस्थ रहने के नुस्के| how to live healthy| how we made healthy our self

आज हम आपके लिए कुछ ऐसा लाये है जो आपकी की सारी शारीरिक परेशानियों को ख़त्म कर देगा. यदि आप भी थोड़ा कमजोर महसूस करते है लाख दवाईयां खाने के बाद भी आपको आपकी समस्या से निजात नहीं मिली है तो चिंता मत कीजिये क्योंकि आज हम आपको कुछ ऐसी चीजे बताने वाले है जिनसे आपको इन समस्यायों से हमेशा के लिए निजात मिल जाएगी.

जैसा की आप जानते है जब भी किसी से कहो की हेल्थ को बढाना है या ताकत बढ़ानी है तो व्यक्ति हमे हमेशा मांस, मच्छी खाने की सलाह देता है, पर बाज़ार में मांस के अलावा भी ऐसी चीज है जो इनसे सस्ती भी है और शरीर को ताकतवर भी बनाती है. जी हाँ दोस्तों हम बात कर रहे है चने की. चना आपको स्वस्थ ही नहीं बल्कि बलवान भी बनता है. जो लोग काफी मेहनत करते है उनके लिए चना बहुत ही फायदेमंद चीज है जो उनके शरीर को और बलवान बनानता है.

how to live healthy,how we made healthy our self

चना खाने में भी स्वादिष्ट होता है. चना उन चीजो की गिनती में आता है जिनके लिए कहा जाता है चीज एक और फायदे अनेक. यदि आप रोजाना चने का सेवन करते है तो आपकी कई बिमारिय ठीक हो सकती है. आयुर्वेद में भी चने को स्वास्थवर्धक बताया गया है. चुकी चने में कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन, केल्शियम, आयरन, और बहुत सारे विटामिंस पाए जाते है इसलिए ये बीमारियों से लड़ने में बहुत मददगार होता है.

The benefits of eat grams

चने खाने के ढेरो फायदे(chane khan ke fayade)

how to live healthy,how we made healthy our self

1. अस्थमा रोग में(Asthma) :

अस्थमा से पीडि़त इंसान को चने के आटे का हलवा खाना चाहिए। इस उपाय से अस्थमा रोग ठीक होता है.

2. पीलिया के रोग में(Jaundice) :

पीलिया की बीमारी में चने की 100 ग्राम दाल में दो गिलास पानी डालकर अच्छे से चनों को कुछ घंटों के लिए भिगो लें और दाल से पानी को अलग कर लें अब उस दाल में 100 ग्राम गुड़ मिलाकर 4 से 5 दिन तक रोगी को देते रहें. पीलिया से लाभ जरूरी मिलेगा। पीलिया रोग में रोगी को चने की दाल का सेवन करना चाहिए.

3. डायबिटीज के मरीजों के लिए(diabetes):

चना ताकतवर होता है. यह शरीर में ज्यादा मात्रा में ग्लूकोज को कम करता है जिससे डायबिटीज के मरीजों को फायदा मिलता है. इसलिए अंकुरित चनों को सेवन डायबिटीज के रोगियों को सुबह-सुबह करना चाहिए.

4. हड्डियां मजबूत(Bones) :

काले चनों में सारे विटामिन्स और क्लोरोफिल के साथ फास्फोरस आदि मिनरल्स होते हैं जिन्हें खाने से शरीर की कई सारी बीमारिया खत्म हो जाती है. काले चनों से आप अपनी हड्डियां भी मजबूत कर सकते है बस काले चनों को रातभर भिगोकर रख लें और हर दिन सुबह दो मुट्ठी खाएं, इसे खाने से कुछ ही दिनों में र्फक दिखने लगेगा.

how to live healthy,how we made healthy our self

5. हेल्दी त्वचा (Healthy skin) :

अगर आप बुढ़ापे में भी जवान दिखना चाहते है तो चना आपके लिए एक अच्छा ऑप्शन है. चने में ऐसे गुण होते है जो हमारी त्वचा को खूबसूरत बनाने में हमारी मदद करता है बस चने को चबा चबाकर खाने से त्वचा हेल्दी और ग्लोइंग होती है.

6. शारीरिक शक्ति (Physical Power) :

अक्सर देखा जाता है की इंसान जब बूढ़ा हो जाता है तो उसके अंदर की शारीरिक शक्ति भी कम हो जाती है और फिर मनुष्य काम करने में जल्दी थक जाता है लेकिन अगर आप अपने बुढ़ापे में ताकतवर रहना चाहते है तो चना अपने लिए काफी फायदेमंद हो सकता है. अगर आप सुस्त हैं या बहुत जल्दी थक जाते है तो काले चने का सेवन करे. काला चना आपके अंदर पूरे दिन ऊर्जावान बनाए रखेगा.

7. चने का सत्तू (Chane ka sattu) :

चने का सत्तू भी सेहत के लिए बेहद फायदेमंद औषघि है। शरीर की क्षमता और ताकत को बढ़ाने के लिए गर्मीयों में आप चने के सत्तू में नींबू और नमक मिलकार पी सकते हैं. यह भूख को भी शांत रखता है.

how to live healthy,how we made healthy our self

8. शरीर की गंदगी साफ करना (Body odor) :

काला चना शरीर के अंदर की गंदगी को अच्छे से साफ करता है। जिससे डायबिटीज, एनीमिया आदि की परेशानियां दूर होती हैं. और यह बुखार आदि में भी राहत देता है.

9. मूत्र संबंधी रोग (Urological Diseases) :

मूत्र से संबंधित किसी भी रोग में भुने हुए चनों का सवेन करना चाहिए। इससे बार-बार पेशाब आने की दिक्कत दूर होती है। भुने हुए चनों में गुड मिलाकर खाने से यूरीन की किसी भी तरह समस्या में राहत मिलती है.

how to live healthy,how we made healthy our self
तो दोस्तों चने को अपने खान-पान में जरुर इस्तेमाल करे ताकि आपको भविष्य में ऐसी कोई भी समस्या से सामना न करना पड़े. आप अंकुरित चनो का इस्तेमाल अपनी रोजमर्रा की जिंदगी में भी कर सकते है.

आपको हमारी ये जानकारी केसी लगी हमें जरुर बताएयेगा. ताकि हम इसी तरह की जानकारी आपके लिए हमेशा लाते रहे.

धन्यवाद.

Kailash Vaishnav

Kailash Vaishnav

Hello, this is Er. Kailash Vaishnav some time i write my experiences as a Blog. So keep Reading and Ask Question if you have about this Article.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *