बी आर अम्बेडकर के बारे में 9 ऐसे तथ्य जिन्हें बहुत कम लोग जानते है.

[nextpage title=”Next Page”]

अधिकांश भारतीय बी आर अम्बेडकर को भारतीय संविधान के पितामह के रूप में जानते है और अनुसूचित जाति वाले लोगो के अधिकारों के लिए लड़ने वाला एक योद्धा. तब भी इस महान राजनेता के बारे में लोग बहुत कम जानते है. जबकि उनके समकालीनों के बारे में ज्यादा लिखा गया है. नेहरू से लेकिन अम्बेडकर के जीवन के बारे में बहुत कम सुना हुआ है. यहाँ पर ऐसे कुछ तथ्य जिन्हें बहुत सुना गया उनकी जानकारी दी जाएगी जिनसे आपके ज्ञान में बढ़ोतरी ही होगी. .
तुम्हारे और मेरे उद्धारकर्ता
भारतीय श्रम सम्मेलन के 7वें सत्र में, अम्बेडकर जी ने भारत में काम अवधि को 14 घंटे से 8 घंटे कर दिया. अगर ऐसा नही होता तो आज हम सबका काम करने का औसत समय सुबह 9 बजे से शुरू हो कर रात 11 बजे तक होता. हमे उनका धन्यवाद तहे दिल से करना चाहिए .
जबरदस्त दूरदर्शिता
जिस तरह से 1955 में अम्बेडकर ने बेहतर शासन के लिए मध्य प्रदेश और बिहार के विभाजन का सुझाव दिया था. 45 साल बाद राज्यों का बंटवारा किया और छत्तीसगढ़ और झारखंड के गठन के लिए अग्रणी हुए.
completely change your perception about Dr B. R. Ambedkar15
शिक्षक ने उनके उपनाम को बदला
अम्बेडकर का मूल नाम अम्बावाडेकर था, लेकिन उनके शिक्षक ने (जो इस प्रभावशाली बच्चे से बहुत खुश थे )उनका उपनाम अम्बवादेकर से अम्बेडकर स्कूल के दस्तावेजो में रख दिया. अम्बेडकर स्वयं उन शिक्षक का उपनाम था.
completely change your perception about Dr B. R. Ambedkar1

अगले पेज पर जाएँ..

[/nextpage]

[nextpage title=”Next Page”]अर्थव्यवस्था के लिए जादूगर
सन 1935 में अम्बेडकर ने रिज़र्व बैंक ऑफ़ इंडिया की स्थापना में भी एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई. उनकी किताब ‘The Problem of the Rupee – Its Origin and Its Solution’ व्यापक रूप से भारतीय रिजर्व बैंक के गठन के दौरान करने के लिए भेजा गया था.
एक अच्छे इंजिनियर
अम्बेडकर ने भारत में बड़े बांध प्रौद्योगिकी की घोषणा करने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई. उन्होंने दामोदर, हीराकुंड और सोन नदी बांध परियोजनाओं की स्थापना में योगदान दिया.
completely change your perception about Dr B. R. Ambedkar
पाठ्यपुस्तक के रूप में आत्मकथा
अम्बेडकर की आत्मकथा, जो उन्होंने 1935-36 के दौरान लिखा था ‘वेटिंग फॉर वीसा ‘, कोलंबिया विश्वविद्यालय में एक पुस्तक के रूप में प्रयोग कि जाती है.
completely change your perception about Dr B. R. Ambedkar12

अगले पेज पर जाएँ..

[/nextpage]

[nextpage title=”Next Page”]रोजगार एजेंसी के रचयिता
अम्बेडकर राष्ट्रीय रोजगार कार्यालय एजेंसी के गठन में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी, जो हमें बताता है कि उनमे भविष्य आने वाले संकट को पहले से जान लेने की क्षमता थी।
completely change your perception about Dr B. R. Ambedkar123
वास्तव में एक राजनेता थे
एक महान राजनेता होने के बावजूद, अम्बेडकर एक बहुत ही सफल राजनीतिज्ञ नहीं थे, शायद इसलिए क्योंकि उनके लिए भारत क्षुद्र राजनीति से ऊपर था. अम्बेडकर ने उत्तरी बम्बई से 1952 में लोकसभा चुनाव लड़ा और कांग्रेस उम्मीदवार नारायण कज्रोलकर को खो दिया है.
completely change your perception about Dr B. R. Ambedkar124
370 धारा के विरोधी
अम्बेडकर ने भारतीय संविधान के अनुच्छेद 370 का विरोध किया, जो जम्मू-कश्मीर को विशेष दर्जा देता है.

[/nextpage]

दिल से देशी

राष्ट्र सर्वोपरि