कनाड़ा की नागरिकता होने के बावजूद अक्षय कुमार का दिल हर पल हिंदुस्तान के लिए धड़कता है.

बॉलीवुड के खिलाडी अक्षय कुमार की सराहना करने का आज एक और कारण मिल गया है, अक्षय कुमार ने निर्भया कांड के बाद आदित्य ठाकरे के साथ मिलकर मुंबई में वूमन सेल्फ डिफेन्स सेण्टर की स्थापना की.

इस संगठन का मकसद महिलाओं को मार्शल आर्ट की ट्रेंनिंग देना है, जिससे महिलाएं स्वयं अपनी रक्षा कर सके.

आज इस खबर पर चर्चा करने का एक कारण यह है कि वूमन सेल्फ डिफेन्स सेण्टर की स्टूडेंट ने अपनी बहादुरी से एक छेड़छाड़ करने वाले शख्स को सबक सिखाया.

मुंबई की रहने वाली श्रेया का कहना है कि अपने कॉलेज के एक प्रोजेक्ट के लिए इंटर्न के तौर पर काम कर लौट रही थी, रास्ते में वेटर के ड्रेस में एक व्यक्ति उसके बहुत करीब आ गया और उस पर झपट पड़ा, श्रेया अपने एक हाथ से उसे मारने लगी और दुसरे हाथ से अपने मम्मी को फ़ोन करने लगी, वह आदमी श्रेया से फ़ोन छुड़ाने लगा.

कुछ देर बाद श्रेया ने उसके बाल पकड़ कर उसके मुह पर मुक्के मारने शुरू किये जैसा की उसने अपनी सेल्फ डिफेन्स क्लास में सिखा था. थोड़ी ही देर में वह आदमी उसे छोड़ने की विनती करने लगा. बाद में कुछ लोग मदद के लिए आगे आये और पुलिस भी आ गयी.

अक्षय कुमार अभी लन्दन में है और वह इस घटना के बाद श्रेया से बहुत प्रभावित है इसलिए वह लन्दन से लोटने के बाद उसे सम्मानित करने की योजना बना रहे है.

वाकई अक्षय कुमार रियल लाइफ में भी हीरो है, उन्हें खिलाडी यूँ ही नहीं कहा जाता.

akshay kumar nationality

error: Content is protected !!