चाणक्य नीति – हमें ऐसे स्थान पर रहना चाहिए जहाँ हो ये पांच प्रमुख बातें..

[nextpage title=”nextpage”]जब हम कहीं पर निवास करते हैं अथवा अपना घर बनाते है तो हमें कुछ बातों का ध्यान रखना पड़ता है. आचार्य चाणक्य ने भी पांच ऐसे स्थान बताये है जो हमारे निवास स्थान के लिए उपयुक्त होते है. आचार्य चाणक्य ने कहा है कि जिस स्थान पर हम निवास करते हैं वहां पर पांच बातें होना चाहिए, तो वह स्थान निवास के लिए सर्वश्रेष्ठ होता है.

आचार्य चाणक्य के अनुसार-

धनिक: श्रोत्रियो राजा नदी वैद्यस्तु पंचम:
पंच यत्र न विद्यन्ते तत्र दिवसं वसेत्

1. जहाँ कोई धनी रहता होwhich place is good for home
आचार्य चाणक्य के अनुसार हमें ऐसे स्थान पर रहना चाहिए जहाँ कोई धनी व्यक्ति रहता हो, क्योंकि जहाँ पर धनी व्यक्ति रहता हो, वहां निश्चित ही व्यवसाय में बढ़ोतरी होती है. जहाँ पर धनी व्यक्ति रहता हैं वहां पर आसपास रहने वाले लोगों को भी रोजगार प्राप्त हो सकता है.
इसे भी पढ़ें: चाणक्य नीति- पुरुषों को ये 4 बातें कभी भी किसी को बतानी नहीं चाहिए
2. वह जहाँ कोई ज्ञानी रहता होwhich place is good for home
आचार्य चाणक्य के अनुसार निवास करने योग्य दूसरा स्थान वह है जहाँ पर कोई ज्ञानी पुरुष निवास करता है. क्योंकि किसी ऐसे स्थान पर जहाँ कोई ज्ञानी और वेदों को जानने वाला व्यक्ति हो, वहां रहने से हमें धर्म लाभ प्राप्त हो सकता है. और ऐसे स्थान पर रहने से हमारा ध्यान पाप की ओर नहीं जायेगा.

अगले पेज पर जाने के लिए Next पर क्लिक करें

[/nextpage]

[nextpage title=”nextpage”]3. वह जहाँ कोई शासकीय अधिकारी रहता होwhich place is good for home
चाणक्य के अनुसार किसी भी व्यक्ति के निवास करने योग्य तीसरा स्थान वह है जहाँ पर कोई भी शासकीय अधिकारी अथवा प्रशासनिक व्यक्ति निवास करता हो, क्योंकि ऐसे स्थान पर रहने से हमें कई लाभ प्राप्त हो सकते है जो शासन की योजनाओं से सम्बन्धित हो.

4. वह जहाँ नदी बहती होwhich place is good for home
आचार्य चाणक्य के अनुसार किसी भी व्यक्ति के निवास करने योग्य चौथा स्थान वह है जिस स्थान के आसपास कोई नदी स्थित हो, क्योंकि जिस स्थान पर नदी बहती है वहां पानी की प्रचूर मात्रा में उपलब्धता होती है. नदी वाले स्थान पर रहने से हमें समस्त प्राकृतिक वस्तुओं का उपभोग करने का सौभाग्य प्राप्त हो सकता है.

5. जहाँ वैद्य रहता होwhich place is good for home
आचार्य चाणक्य के अनुसार किसी भी व्यक्ति के निवास करने योग्य पांचवा स्थान वह है जिस स्थान पर कोई वैद्य निवास करता हो. क्योंकि ऐसा स्थान जहाँ पर कोई वैद्य निवास करता है, उस स्थान पर रहने से हमें बीमारियों से तुरंत राहत मिल सकती है क्योंकि हम छोटी सी बीमारी भी होने पर तुरंत वैद्य को दिखा सकते है.

अत: हमें कहीं पर भी निवास करने से पहले आचार्य चाणक्य द्वारा बताई गई इन पांच बातों का ध्यान रखना चाहिए. जिससे हमारा जीवन सुखमय होगा.
इसे भी पढ़ें: चाणक्य नीति – इन 4 कामों को करने के बाद नहाना जरूरी होता है. जानिए क्यों?[/nextpage]