गाडगे महाराज का जीवन परिचय | Gadge Maharaj Biography in Hindi

संत गाडगे महाराज की जीवनी, परिवार, कहानी और समाज सुधार के कार्य | Gadge Maharaj Biography, Family, Work for Indian Society and Story in Hindi

गाडगे महाराज (Gadge Maharaj), जिन्हें लोकप्रिय रूप से संत गाडगे महाराज या गाडगे बाबा कहा जाता था. एक संत और समाज सुधारक थे. व्यापक रूप से महाराष्ट्र के सबसे बड़े समाज सुधारकों में से एक के रूप में माना जाता है, उन्होंने कई सुधार किए हैं. गाँवों का विकास और उनकी दृष्टि अभी भी देश भर के कई दान संगठनों, शासकों और राजनेताओं को प्रेरित करती है. उनके नाम पर कॉलेज और स्कूल सहित कई संस्थान शुरू किए गए हैं. उनके बाद भारत सरकार द्वारा स्वच्छता और पानी के लिए राष्ट्रीय पुरस्कार की घोषणा की गई. उनके सम्मान में अमरावती विश्वविद्यालय का नाम भी रखा गया है. उनके सम्मान में महाराष्ट्र सरकार द्वारा ‘संत गाडगेबाबा ग्राम स्वछता अभियान’ शुरू किया गया था.

बिंदु (Points) जानकारी (Information)
नाम (Name) संत गाडगे महाराज और गाडगे बाबा
वास्तविक नाम (Real Name) देविदास डेबुजी जानोरकर
पिता का नाम (Father Name) झिंगरजी जानोरकर
माता का नाम (Mother Name) सखुबाई
जन्म दिनांक (Birth Date) 23 फरवरी 1876
जन्म स्थान (Birth Place) शेंडगाव, महाराष्ट्र
पेशा (Profession) आध्यात्मिक गुरु
मृत्यु दिनांक (Death) 20 दिसम्बर 1956
मृत्यु स्थान (Death Place) अमरावती

संत गाडगे महाराज की जीवनी (Gadge Maharaj Biography)

उनका असली नाम देवीदास डेबुजी जानोरकर है. उनका जन्म महाराष्ट्र के अमरावती जिले के शेडगाँव गाँव में एक धोबी परिवार में हुआ था. वह अपने नाना के घर मुर्तीज़ापुर तालुक के दापुरी में पले-बढे थे. बचपन में उन्हें खेती और मवेशियों में दिलचस्पी थी. उन्होंने 1892 में शादी की और उनके तीन बच्चे थे. अपनी बेटी के नामकरण समारोह के दौरान, उन्होंने पारंपरिक शराब के बजाय मीठे के साथ शुद्ध शाकाहारी भोजन परोसा. उन्होंने 1 फरवरी 1905 को एक संत के रूप में अपने जीवन को आगे बढ़ाने के लिए अपने परिवार को छोड़ने से पहले अपने गाँव में एक स्वयंसेवक के रूप में काम किया.

वह अपना ट्रेडमार्क झाड़ू लेकर चलते थे और टोपी पहनते थे. जब भी वह किसी गाँव में पहुँचते थे तो वह गाँव की नालियाँ और सड़कें साफ करते थे और अगर ग्रामीणों द्वारा पैसा दिया जाता है, तो वह इसका इस्तेमाल समाज के लिए कुछ अच्छा करने के लिए करते थे. गाडगे महाराज ने कई शैक्षणिक संस्थानों, धर्मशालाओं, अस्पतालों और पशु आश्रयों को उनके द्वारा प्राप्त धन के साथ शुरू किया है. उन्होंने कीर्तन के रूप में भी कक्षाएं संचालित कीं, ज्यादातर कबीर के दोहे समाज को नैतिक सबक देते हैं. उन्होंने लोगों से सरल जीवन जीने, धार्मिक उद्देश्यों के लिए पशु वध को रोकने और शराब के खिलाफ अभियान चलाने का अनुरोध किया. उन्होंने गरीबों को कड़ी मेहनत, सरल जीवन और निस्वार्थ सेवा का उपदेश दिया. उन्होंने अनाथों और विकलांगों के लिए धार्मिक स्थानों और घरों में धार्मिक स्कूल भी स्थापित किए. 20 दिसंबर, 1956 को अमरावती जाते समय महाराज की मृत्यु हो गई.

Loading...

इसे भी पढ़े :

Leave a Comment