महेंद्र सिंह धोनी का जीवन परिचय | Mahendra Singh Dhoni Biography in Hindi

महेंद्र सिंह धोनी का जीवन परिचय, क्रिकेट करियर और निजी जीवन | Mahendra Singh Dhoni Biography, Birthday, Career, Personal Life and Records

भारत में वैसे तो कई खेल खेले जाते हैं लेकिन क्रिकेट को अन्य खेलों से ज्यादा पसंद किया जाता है. भारत में कई महान क्रिकेट खिलाड़ियों ने जन्म लेकर भारतीय क्रिकेट को बुलंदियों तक पहुँचाया है. महेंद्र सिंह धोनी उन्हीं महान खिलाड़ियों में से एक है. इन्हें एम.एस.धोनी के नाम से भी जाना जाता है. चलिए जानते है उनकी पूरी जीवनी.

महेंद्र सिंह धोनी का जन्म और शुरूआती जीवन(Mahendra Singh Dhoni Birthday and Intial Life)

महेंद्र सिंह धोनी का जन्म रांची, झारखण्ड (तब बिहार) में 7 जुलाई 1981 को हुआ था. महेंद्र सिंह धोनी के पिता का नाम पान सिंह धोनी एवं इनकी माता का नाम देवकी धोनी है. एम.एस. धोनी का एक बड़ा भाई और एक बहन भी है. धोनी के भाई का नाम नरेन्द्र सिंह धोनी तथा बहन का नाम जयंती है. धोनी एक मध्यमवर्गी परिवार से थे. उन्होंने अपनी शुरुआती शिक्षा रांची के जवाहर विद्या मंदिर स्कूल से पूर्ण की. धोनी के पिता एक स्टील बनाने वाली कंपनी में काम करते थे.

धोनी को बचपन से ही क्रिकेट के बजाए फुटबॉल पसंद था पर, इनके कोच ठाकुर दिग्विजय सिंह ने इन्हें क्रिकेट खेलने के लिए प्रेरित किया. धोनी को फुटबॉल टीम में एक गोलकीपर के तौर पर खेलते थे. यही देखकर कोच ने उन्हें क्रिकेट में एक विकेट कीपर के तौर पर खेलने को कहा. धोनी ने अपने माता पिता की सहमती लेकर क्रिकेट खेलना शुरू किया. 2001-2003 में धोनी पहली बार कमांडो क्रिकेट क्लब की ओर से खेले वहां पर उनकी विकेट कीपिंग को देखकर सभी ने उनकी सराहना की. 2003 में धोनी ने खड़कपुर रेलवे स्टेशन पर ट्रेन टिकट चेकर के तौर पर भी काम किया.

महेंद्र सिंह धोनी का प्रोफेशनल करियर (Mahendra Singh Dhoni Professional Career)

धोनी ने अपने प्रोफेशनल क्रिकेट करियर की शुरुआत सन 1998 में बिहार अंडर-19 टीम से की. 1999-2000 में धोनी ने बिहार रणजी टीम में खेलकर अपना पदार्पण किया. देवधर ट्रॉफी, दिलीप ट्रॉफी और इंडिया “ए” में केन्या टूर में किये गए प्रदर्शन की बदौलत उन पर राष्ट्रीय टीम चयन समीति ने ध्यान दिया.

सन 2004 में एक टीम चयन समीति के बैठक में सौरव गांगुली से पुछा गया था कि टीम में विकेट कीपर किसे बनायेंगे? तब सौरव गांगुली ने कहा था कि “मैं एम.एस.धोनी को विकेट कीपर बनाना चहुँगा”. 2004 में धोनी ने बांग्लादेश के खिलाफ चिट्टगाँव में अंतर्राष्ट्रीय पदार्पण किया तब से लेकर अब तक महेंद्र सिंह धोनी क्रिकेट में एक बहुत लम्बा सफ़र तय कर चुके है.

अपने क्रिकेटिंग करीयर में धोनी ने 90 टेस्ट में 4876 रन बनाये. टेस्ट में उनकी सबसे बड़ी पारी चेन्नई में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ आई, इस पारी में धोनी ने 224 रन बनाये. टेस्ट में धोनी ने स्टंप के पीछे 256 कैच और 38 स्टम्पिंग की है.

वन-डे इंटरनेशनल में धोनी ने 347 मैचों में 10773 रन बनाये. धोनी ने अपने करियर की सर्वश्रेष्ठ वन-डे पारी श्रीलंका के खिलाफ 2005 में जयपुर के सवाई मानसिंह स्टेडियम में खेली, इस पारी में धोनी ने 183 रन की पारी खेली. वन डे में धोनी ने विकेट कीपिंग करते हुए 318 कैच पकड़े और 120 स्टम्पिंग की.

धोनी के नाम पर इंटरनेशनल क्रिकेट में सबसे तेज़ स्टम्पिंग का रिकॉर्ड भी है उन्होंने मिशेल मार्श की 0.76 सेकंड में स्टंपिंग की थी. अपनी बैटिंग, कीपिंग और फिनिशिंग के लिए धोनी विश्व जगत में मशहूर है. उन्होंने भारत के लिए हर आई.सी.सी. ट्रॉफी जीती, 2007 का टी-20 वर्ल्ड कप, 2011 का वन-डे वर्ल्ड कप, 2013 की चैंपियंस ट्राफी.

  • धोनी ने एक वन डे पारी में 10 छक्के मारे है, उनकी यह पारी सबसे ज्यादा छक्को के मामले में छठे स्थान पर आती है.
  • एम.एस. ने वन-डे में 183 रन बनाकर एडम गिलक्रिस्ट का विकेट कीपर के तौर पर सबसे ज्यादा रन बनाने का रिकॉर्ड तोडा था.
  • भारतीय विकेट कीपर के द्वारा विकेट के पीछे सबसे ज्यादा शिकार करने का रिकॉर्ड भी धोनी के नाम ही है.
  • धोनी की कप्तानी में भारत अपने सर्वोच्च स्कोर 726 तक पंहुची थी.
  • धोनी एकमात्र कप्तान है जिन्होंने वन-डे में सातवें स्थान पर बैटिंग करते हुए शतक मारा था.
  • धोनी भारत के पहले विकेट कीपर है जिन्होंने टेस्ट में 4000 रन का आंकड़ा पार करा था. अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट के तीनों प्रारूपों को मिलाकर धोनी ने सर्वाधिक मैचों की कप्तानी की है.
  • धोनी की कप्तानी में भारत ने 199 वन-डे मैंचो में से 110 में जीत हासिल की है, टी-20 में 72 में से 41 में और टेस्ट में 60 में से 27 में भारतीय टीम ने जीत हासिल की है.
  • धोनी ने कप्तान के तौर पर सबसे ज्यादा टूर्नामेंट के फाइनल में जीत हासिल की है.
  • ये पहले भारतीय विकेट-कीपर है जिसने 300 वनडे कैच खेले है और विश्व के चौथे विकेट-कीपर है जिसने यह उपलब्धि हासिल की है.
  • वनडे में 200 छक्के मारने वाले पहले भारतीय और विश्व में पांचवें खिलाड़ी महेंद्र सिंह धोनी है.
  • 6 वें नंबर पर बल्लेबाजी करते हुए वनडे करियर इतिहास में अधिकांश रन बनाने वाले खिलाड़ी का रिकॉर्ड भी इन्हीं के नाम है.
  • सिर्फ एक बल्लेबाज़ जिसने नंबर 7 की पोजीशन या उससे कम पर बल्लेबाजी  वाले केवल एकदिवसीय क्रिकेट में एक से अधिक शतक बनाने वाले खिलाड़ी (धोनी ने 7 वें स्थान पर 2 शतक लगाए हैं )

इसे भी पढ़े : हार्दिक पंड्या का जीवन परिचय

महेंद्र सिंह धोनी की पर्सनल लाइफ (Mahendra Singh Dhoni Personal Life)

धोनी के पर्सनल लाइफ में कई ऐसे लोग है जो कि उनके बचपन के दोस्त है. उनके किसी एक दोस्त ने ही उन्हें हेलीकाप्टर शॉट खेलना सिखाया. धोनी को अंतरराष्ट्रीय पदार्पण के बाद एक प्रियंका नाम लड़की से प्यार हुआ था कुछ समय की रिलेशनशिप के बाद प्रियंका की एक कार एक्सीडेंट में मौत हो गयी थी.

फिल्म एम.एस.धोनी में बताया गया है कि धोनी और साक्षी एक होटल में मिले थे. असल में यह सच नहीं है. सच यह है कि धोनी के पापा और साक्षी के पापा दोनों ही एक ही कंपनी में काम करते थे. हैरानी की बात तो ये है कि साक्षी और धोनी एक ही स्कूल में भी पढ़े हुए है पर जिस समय धोनी स्कूल जाना बंद किया था, उसी समय साक्षी ने स्कूल में दाखिला लिया था. जिससे धोनी स्कूल में साक्षी को मिल नहीं पाए. कुछ समय बाद साक्षी का परिवार रांची छोड़कर देहरादून चला गया था. देहरादून में साक्षी के दादा-दादी पहले से ही रहते थे.

जब 2007 नवम्बर-दिसम्बर में धोनी का सिलेक्शन टीम इंडिया में पाकिस्तान के खिलाफ होने वाली सीरीज में हुआ था, तब टीम कोलकाता में पकिस्तान के खिलाफ मैच खेल रही थी. धोनी की मुलाक़ात कोलकाता में ही साक्षी से हुई थी. उस समय भारतीय टीम एक होटल में ठहरी थी जहां पर साक्षी की मुलाक़ात धोनी से हुई. साक्षी को धोनी के सामने परिचित करने वाली युद्ध जीत दत्ता होटल की मेनेजर थी. जिस दिन धोनी और साक्षी मिले वो दिन साक्षी का होटल इंटर्नशिप का आखिरी दिन था, इसलिए साक्षी होटल छोड़ कर जा चुकी थी. उसके बाद धोनी ने मेनेजर से साक्षी का नम्बर ले कर उनसे संपर्क करने की कोशिश की. जब धोनी ने उन्हें पहली बार मेसेज किया, तब साक्षी को लगा की कोई उनसे मज़ाक कर रहा है.  बाद में जब उन्हें पता चला कि ये असल में धोनी ही है और भारतीय टीम के कप्तान बन चुके है, तब वे अपने आप पर भरोसा नहीं कर पा रही थी कि भारतीय टीम के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने उन्हें मेसेज किये है.

साक्षी को 2-3 महीने तक मनाने के बाद धोनी और साक्षी दोनों एक दुसरे को डेट करने लग गए और फिर साल 2010 में दोनों ने शादी कर ली. धोनी की एक बेटी है ज़ीवा जो की अभी 5 साल की है

Mahendra Singh Dhoni Retirement

महेंद्र सिंह धोनी ने लोगो को उस दिन चौंका दिया जिस दिन उन्होंने अपने अंतराष्ट्रीय क्रिकेटिंग करियर से संन्यास लेने की घोषणा की. वह था 15 अगस्त 2020 का दिन, इस दिन महेंद्र सिंह धोनी ने अपने 16 साल के इतने लम्बे क्रिकेटिंग करियर से हमेशा के लिए सन्यास ले लिया. इस घोषणा के साथ सोशल मीडिया पर उनके करोड़ो प्रशंसको ने अपना दुःख भी व्यक्त किया और कई बड़े-बड़े लोगो ने उन्हें आने वाले समय के लिए शुभकामनाएँ भी दी.

इसे भी पढ़े : जानिए रोहित शर्मा की पूरी जीवनी
इसे भी पढ़े : स्मृति मंधाना का जीवन परिचय

टीम

  • इंडिया
  • चेन्नई सुपर किंग्स
  • राइजिंग पुणे सुपरजाइंट्स

4 thoughts on “महेंद्र सिंह धोनी का जीवन परिचय | Mahendra Singh Dhoni Biography in Hindi”

Leave a Comment