डॉ. मोहन अवस्थी का जीवन परिचय | Mohan Avasthi Biography Hindi

Mohan Avasthi Biography Hindi डॉ. मोहन अवस्थी आज के युग के एक प्रख्यात कवि हैं. इनका जन्म 29 जनवरी को पिपरगाँव, फर्रुखाबाद में हुआ हैं.

एक महान चरित्र के धनी डॉ. मोहन अवस्थी ने अपना कर्मस्थली इलाहाबाद को चुना.

नाम :- डॉ. मोहन अवस्थी
जन्म :- 29 जनवरी 1929
जन्म स्थान:- पिपर गाँव, फर्रुखाबाद(उत्तरप्रदेश)

व्यक्तित्व (Mohan Avasthi Biography Hindi)

डॉ. मोहन अवस्थी का व्यक्तिव बहुत ही सरल हैं. यदि आसान शब्दों मे कहे तो वो न तो चाँद के समान ललाट वाले हैं और न ही कामदेव के समान सुन्दरता लिए हैं वो एक सामान्य से दिखने वाले इंसान हैं जिनका कद लंबा, और छरहरा हैं. उनका शरीर दुबला हैं. उनके व्यक्तित्व को धनी बनाती हैं. उनके हाथ की कलम उनका मस्तिष्क जो हमेशा लोकहित के विचारों में तल्लीन रहता हैं. मन मे ईस्वर का ध्यान, असीम संतोष की प्रवति, दया, भावकुता परदुख की गहन अनभूति, उदार स्वभाव आपके चरित्र को उच्च स्तर का बनाता हैं. आप एक गंभीर प्रवृति के इंसान हैं और अंतरमुखी स्वभाव के धारक हैं. Mohan Avasthi Biography Hindi

प्रारंभिक जीवन और शिक्षा (Mohan Avasthi Intial Life and Education)

आपकी प्रारंभिक शिक्षा पिपरगाँव मे हुई. अपने सन 1942 में वर्नाक्यूलर फाइनल परीक्षा उत्तीर्ण की. हाई स्कूल पास करने के बाद अपने एक अमेरिकी कंपनी में असिस्टेंट मैनेजर के रूप में कार्य किया.

आपने डिस्ट्रिक्ट बोर्ड के एकाउंट विभाग में असिस्टेंस कॉउंटेंट के रूप में कार्य किया. इंटरमीडिएट व्यक्तिगत परीक्षार्थी के रूप में बी.एन.एस.डी. कॉलेज कानपुर से प्रथम श्रेणी में पास किया.

इसके बाद आगरा विश्वविद्यालय से सम्बंधित एम.डी. कॉलेज कानपुर से आपने स्नातक परीक्षा द्वतीय श्रेणी में पास किया.

वर्ष 1951 से 1953 तक अध्यापक के तौर पर कार्य किया. 1954 में इलाहाबाद विश्वविद्यालय में एम.ए. प्रथम वर्ष में दाखिला लिया लेकिन हिंदी से अधिक लगाव के कारण अपने यह बीच मे छोड़ दिया.

अंततः 1956 में अपने एम.ए. (हिंदी) में करते हुए विश्वविद्यालय में प्रथम स्थान प्राप्त किया और अपने अपनी मंजिल को हासिल किया.

1958 में डी.फील. की उपाधि हासिल कर इलाहाबाद विश्वविद्यालय में प्राध्यापक हुए.

1984 में आपने डी.लिट. की उपाधि हासिल की और अंततः 1989 में आप अपने सेवाभार से मुक्त हुए.

इसे भी देखें : जयशंकर प्रसाद का जीवन परिचय

साहित्य में योगदान (Mohan Avasthi Intial Life and Education)

डॉ. अवस्थी की काव्य कृतियाँ अभिशप्त महारथी और अग्निगन्ध बहुत ही प्रसिद्ध हैं.

इसके अलावा काव्य साहित्य में बाल कविता “देखभाल कर चलो”,”चाबीदार खिलौने”, “एक हमारा देश”, “हुआ उजाला”, “हलचल के पंख” और अनुगीत आदि प्रमुख रचनाएँ हैं.

इसका अलावा आपका गद्य साहित्य योगदान में भी हैं.

इसे भी देखें : महेंद्र सूरी का जीवन परिचय

आधुनिक हिंदी

काव्य शिल्प

यह एक शोध प्रबंध हैं. जिसमे 1900 से 1940 तक के काव्य ग्रंथ का विवेचन हैं.

निराला और तुलसीदास काव्य

इसमे निराला के तुलसी काव्य की व्याख्या की हुई हैं. इसके अलावा “समीक्षण और प्रशिक्षण”, “देश के गौरव” आदि प्रमुख हैं.

सम्मान एवं उपाधियाँ (Mohan Avasthi Honours)

डॉ. अवस्थी ने हिंदी साहित्य की लगभग हर एक विधा में अपना योगदान दिया हैं. लेकिन विशेषतः वह काव्य साहित्य में योगदान के लिए जाने जाते हैं.

अपनी कई उल्लेखनीय रचनाओं के कारण डॉ. अवस्थी के मनोनीत सम्मानों से नवाज़े गए

जो कि कुछ प्रमुख इस प्रकार हैं

1. 1972 में अखिल भारतीय हिन्दी सेवी संस्थान इलाहाबाद द्वारा ‘साहित्यारथी’ उपाधि.

2. 1994 में हिन्दी साहित्य सम्मेलन प्रयाग द्वारा ‘साहित्य सारस्वत’ उपाधि.

3. 1996 में अमेरिकन बायोग्राफिकल द्वारा ‘मैन आॅफ द ईयर’ सम्मान.

4. 1996 में हिन्दी साहित्य सम्मेलन प्रयाग द्वारा ‘विद्या वाचस्पति’ उपाधि.

5. 1996 में अरुणिमा संस्था प्रयाग द्वारा ‘साहित्य सुधाकर’ उपाधि.

इसे भी देखें : विशाल करवाल का जीवन परिचय

Leave a Comment

error: Content is protected !!