राष्ट्र प्रेम पर अनुच्छेद लेखन | Article Writing on Patriotism in Hindi

छात्रों के लिए राष्ट्र प्रेम पर अनुच्छेद लेखन | Article Writing on Patriotism/Nationalism in Hindi | Rashtra Prem Par Paragraph

हम जब अपने देश की समस्या या उससे जुड़े हुए मुद्दों के बारे में अनुच्छेद लिखते है, तो वे देश एवं संस्कृति संबंधी अनुच्छेद की शैली में आते है. “राष्ट्र प्रेम” अनुच्छेद के अंदर हमने अपने देश के प्रति प्यार और राष्ट्र से संबंधी जानकारी लिखी है एवं इस तरह के अनुच्छेद अक्सर हिंदी परीक्षा में “देश प्रेम” या “राष्ट्र भक्ति” आदि के विषय के नाम पर पूछ लिए जाते है. यह तीनो विषय पढ़ने में अलग-अलग हो मगर इन सभी का अर्थ एक ही होता है.

राष्ट्र प्रेम

संकेत बिन्दु – (1) मातृभूमि से लगाव (2) मातृभूमि माँ के समान (3) समर्पण (4) बलिदान

राष्ट्र प्रेम अर्थात् देश से प्यार. देश की प्राकृतिक और भौतिक, मानव निर्मित हर वस्तु से प्यार जिस माँ ने हमें जन्म दिया और पालन-पोषण कर बड़ा किया है उनके प्रति प्यार और समर्पण होता है उसी प्रकार जिस देश में जन्म लिए, जिसकी मिट्टी में खेलकर बड़े हुए जिसकी उपज और पेड़-पौधों से पोषित हुए उस देश से हमारा प्यार और समर्पण नितांत जरूरी है. देश प्रेम की भावना अन्य भावनाओं से सर्वोपरि है. यही वजह है कि हम अपने देश की रक्षा और सुरक्षा में सर्वस्व न्योछावर कर देते हैं. दुश्मनों से मातृभूमि की रक्षा के लिए देश के वीर जवान अपने प्राणों की आहुति देते हैं. गुलामी के दौर में भी हमारे देश के वीर व वीरांगनाओं महात्मा गाँधी, बालगंगाधर तिलक, सुभाषचन्द्र बोस, लक्ष्मीबाई, तात्या टोपे, अहिल्या बाई आदि ने अपना तन-मन-धन अर्पण कर देश के प्रति सच्ची देशभक्ति दिखाई. देश प्रेम को मैथिलीशरण गुप्त ने इन पंक्तियों द्वारा व्यक्त किया है.

अनुच्छेद लिखने की रीति

हम अगर इन बातों का ध्यान रखे तो हम अनुच्छेद को बिल्कुल सटीकता से लिख सकते है.

  • किसी भी विषय पर अगर हमें अनुच्छेद लिखना है, तो हमें उस विषय की जानकारी होना अति आवश्क है.
  • चुने हुए विषय पर लिखने से पहले चिन्तन-मनन करे ताकि मूल भाव भली-भाँति स्पष्ट हो सके.
  • विषय को प्रस्तुत करने की शैली अथवा पद्धति तय होनी चाहिए.
  • लिखते समय सरल भाषा का प्रयोग करे एवं ध्यान रखे की विषय के अनुकूल होनी चाहिए.
  • मुहावरे और लोकोक्तियों आदि का प्रयोग करके भाषा को सुंदर एवं व्यावहारिक बनाने का प्रयास करे.
  • अनुच्छेद लिखते समय मात्राओं की गलती एवं कटा-पिटी ना हो इस बात को हमेशा याद रखे.

Leave a Comment

error: Content is protected !!