शादी में जाने के लिए स्कूल में छुट्टी के लिए पत्र | School Application of Marriage in Hindi

बड़े भाई की शादी में जाने के लिए स्कूल में छुट्टी के लिए पत्र | School Application of Elder Brother’s Marriage in Hindi

विद्यालय एक स्थान हैं जो बच्चों में आध्यात्मिक क्षमता को जागृत करता हैं. हर छात्र को प्रतिदिन विद्यालय जाना अनिवार्य होता हैं लेकिन कभी-कभी कुछ निजी कारणों की वजह से हम विद्यालय जाने में असमर्थ हो जाते हैं. विद्यालय में हमारी अनुपस्थिति का पूर्वाज्ञात हो इसीलिए आवेदन देना जरुरी होता हैं. आवेदन लिखने में किसी की प्रकार की दिक्कत छात्र हो ना हो इसके लिए हम आपके लिए एक पत्र का उदाहरण लाये हैं. इसमें आप अपनी निजी जानकारी के बदलकर अपने स्कूल में जमा कर सकते हैं.

शादी के लिए स्कूल में छुट्टी के लिए प्रार्थना पत्र (School Application of Marriage in Hindi)

दिनांक

27 जुलाई 2020

प्रति,

श्रीमन/श्रीमती प्रधानचार्य महोदय

जवाहरलाल शिक्षा मंदिर स्कूल

देवास, मध्यप्रदेश

विषय : भाई की शादी में जाने के लिए छुट्टी के लिए प्रार्थना पत्र

सेवा में,

निवेदन हैं कि मैं आपके विद्यालय की छठी कक्षा विद्यार्थी हूँ. अगले माह मेरे बड़े भाई की शादी उदयपुर शहर में होने जा रही हैं. इस दौरान मैं छ: दिन 8 अगस्त से 14 अगस्त तक विद्यालय आने में असमर्थ रहूँगा. कृपया आपसे विनती हैं कि आप मुझे छुट्टी देने की कृपा करे. मैं आपकी कृपा के लिए आभारी रहूंगा.

धन्यवाद

आपका आज्ञाकारी,

गौतम शर्मा

कक्षा छठी (ब)

रोल नंबर 34

ध्यान देने योग्य आवश्य बाते

पत्र प्लेन पेपर पर लिखें : पत्र को हमेशा प्लेन पेपर को लिखा होना चाहिए, किसी भी प्रकार की अन्य जानकारी पत्र के साथ ना लिखी हुई हो. इसके अलावा पत्र को पूरे पेज पर लिखा होना चाहिए, एक पेज को दो हिस्सों में करके ना लिखे.

गलती ना हो : कई बार छात्र पत्र लिखते समय कई गलतियाँ कर देते हैं. इसीलिए जरुरी हैं कि पत्र में किसी भी प्रकार की गलत जानकारी शामिल ना हो.

विषय की स्पष्टता : पत्र लिखते समय हमारा विषय स्पष्ट होना चाहिए. उसमे समझाने में कोई दिक्कत नहीं होनी चाहिए. छात्रों को कई बार ऐसे कामों के लिए भी छुट्टी लेनी पड़ती है जिसका कारण वे बता नहीं सकते तो वहां छात्र आवश्यक कार्य हेतु अवकाश आवेदन पत्र लिख सकते हैं लेकिन कारण बताने पर छुट्टी मिलने के अवसर बढ़ जाते हैं.

लेखन की सुन्दरता : पत्र की लेखन कला का भी आवदेन प्राप्तकर्ता के सामने प्रभाव पड़ता हैं. लेखन जिनता सुन्दर और मात्रा की गलतियों के बिना होगा उनता उन्नत रहेगा.

धन्यवाद. आपको यह पत्र कैसा लगा? हमें कमेंट बॉक्स में अवश्य बताएं. और यदि आप किसी अन्य विषय पर भी पत्र चाहते है.

Leave a Comment

error: Content is protected !!