पासपोर्ट के लिए आवेदन करना अब पहले से सुविधाजनक

लोगों के शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य के लिए यात्रा अच्छी होती है ।लोग ब्रेक, काम, छुट्टियों और अन्य कारणों से  यात्रा करना पसंद करते है, पर तब तक की ये यात्रा सुविधाजनक हो । अब रिमोट काम करने की अवधारणा भी है , जहां कर्मचारी दुनिया के एक हिस्से में एक कंपनी के लिए काम दुनिया के किसे अन्य हिस्से के कार्यालय में बैठ काम कर सकते है।

पिछली शताब्दियों में लोगों को भूमि और समुद्र की महान दूरी पर जहाज या रेल से यात्रा करना पड़ता था, कई बार फिर कभी घर देखना नसीब न होता था । आज, यात्रा हर किसी के लिए काफी सुविधाजनक हो चुकी है। आप दुन्या के किसे भी हिस्से में एक दिन के समय में पहोच सकते है। आप आसानी से प्लेन में सफर कर सकते है, जिसके लिए दो मुख्या दस्तावेजों की आवश्यकता होती है एक आपका व्यक्तिगत पासपोर्ट और दूसरा उस देश का वीजा होना।

प्रत्येक व्यक्ति के पास अपना पासपोर्ट होना चाहिए, पासपोर्ट प्लेन में सफर करने के लिए अनिवार्य होता है ।पासपोर्ट को पहचान प्रमाण के रूप में भी देखा जाता है क्योंकि पासपोर्ट बनाने के लिए व्यक्तिगत विवरण, स्कैन ,और बायोमेट्रिक जानकारी, पुलिस और दस्तावेजी सत्यापन की जानकारी की आवश्यकता होती है। पासपोर्ट के लिए विभिन्न जांचों और उपायों के साथ, कई दस्तावेजों को भरना होता है,सत्यापन और सामग्री की जाँच भी जरुरी होती है , यह पूरी प्रक्रिया काफी समय लेने वाली हो सकती है। हालांकि कुछदेशों में एक तेज़ प्रक्रिया है, तो कुछ लोगो के लिए पासपोर्ट बनाने की प्रक्रिया काफी कठिन भी मालूम पड़ती है ।

यह पूरी प्रक्रिया अब तेज कर दी गई है और इसे ऑनलाइन ले लिया गया है। हालाँकि, कुछ चीज़ो के लिए व्यक्ति को पासपोर्ट कार्यालय की यात्रा करनी पड़ सकती है ।

पासपोर्ट आवेदन प्रक्रिया के प्रणाली में क्या सुधार हुआ है ?

1. पहले पासपोर्ट आवेदन के लिए आवेदक को फॉर्म भरने के लिए पासपोर्ट कार्यालय की यात्रा करनी पड़ती थी ।फिर उन्हें फॉर्म भरने के लिए और सहायक दस्तावेज इकट्ठा करने के लिए घर वापस जाना पड़ता था । अब, सभी पासपोर्ट आवेदन फॉर्म ऑनलाइन उपलब्ध हैं, जिसे लोग घर बैठे जब चाहे डाउनलोड कर सकते है । वे घर बैठे ही जरुरी सहायक दस्तावेजों को भी इकट्ठा कर के रख सकते है । यह पूरी यात्रा को बचाता है, जो कुछ लोगों के लिए महत्वपूर्ण है जो पासपोर्ट कार्यालय के करीब न रहते हो ।

2. आम तौर पर, सभी दस्तावेजों को पासपोर्ट कार्यालय में जमा करना होता था और कार्यालय के कर्मचारी आपके दस्तावेजों को सत्यापित करने के बाद आपको फिर से वापस आने की तिथि बता देते थे । अब, पूरी प्रक्रिया उनके अंत में होती है, आपके दस्तावेज जमा करने के बाद, वे आपको वापस आने के लिए एक तारीख देते हैं। चूँकि ये सत्यापन व्यक्तिगत रूप से नहीं होते हैं और पुलिस विभाग से जुड़कर किए जाते हैं, पुलिस प्रक्रिया के इन् चरण को संभालती है।पासपोर्ट कार्यालय उंगलियों के निशान और अन्य बायोमेट्रिक जानकारी भी संभालता हैसमय, जिससे आवेदक की एक और यात्रा बचती है।

3. आपको अपनी उंगलियों के निशान, बायोमेट्रिक जानकारी स्कैन करने और अपनी तस्वीर क्लिक करने के लिए पासपोर्ट कार्यालय जाना ही पड़ता है ।दुर्भाग्य से, इसके बारे में कोई दो तरीके नहीं हैं और आपको इसे प्राप्त करने के लिए उनके कार्यालय में जाना ही होता है । कई सुरक्षा कारण और खतरों के वजह से इसे व्यक्तिगत रूप से नियंत्रित करना संभव नहीं है ।

4. अब आपको अपना पासपोर्ट कलेक्ट करने के लिए कार्यालय जाने की जरुरत नहीं है । वे इसे इंडिया पोस्ट के माध्यम से आवेदक का पासपोर्ट भेजते हैं और आप इसे अपने पते पर प्राप्त करते हैं, जो पता आपने पासपोर्ट बनाते वक़्त दिया हो । आपको सिर्फ हस्ताक्षर कर अपना पासपोर्ट लेना होता है, हस्ताक्षर कर आप यह सुनिचित्त करते है की आपको पासपोर्ट मिल चूका है ।

5. दस्तावेजो की मूल प्रति जमा करने की कोई आवश्यकता नहीं होती, क्युकी स्कैन की गए प्रतियो से काम चल जाता है । पासपोर्ट आवेदन पत्र के माध्यम से जाते समय, सुनिश्चित करें कि सभी स्कैन किए गए दस्तावेज़ हैं प्रस्तुत स्पष्ट और पढ़ने योग्य है । कार्यालय में वे आपसे हार्ड कॉपी के लिए पूछ सकते हैं जब आप अपने फिंगरप्रिंट और अन्य जानकारी प्रदान करने के लिए उनके कार्यालय में हो । हालांकि, प्रक्रिया आप स्कैन के साथ प्रक्रिया शुरू करें ताकि आप समय बचा सके ।जाहिर है, हम इस समय पूरी तरह से ऑनलाइन सिस्टम की ओर नहीं बढ़ सकते हैं लेकिन भविष्य में जरूर पहोच सकते है । कुल मिलाकर, नई प्रणाली एक बहुत अधिक सुविधाजनक और एक विशाल छलांग है एक सही दिशा में ।

यह जानकारी ऑनलाइन पासपोर्ट आवेदन द्वारा एकत्रित की गई है।

Leave a Comment

error: Content is protected !!