बूझो तो जाने पहेली क्र. 124 का उत्तर | logical and Common Sense Question in Hindi with Answer | Puzzle No. 124

बूझो तो जाने पहेली क्र. 124 का उत्तर
 logical and Common Sense Question in Hindi with Answer

पहेली क्र. 124

logical and Common Sense Question in Hindi with Answer


यह पहेली आपको थोड़ा असमंजस में डाल सकती है किन्तु आपको इसका उत्तर खोजने में बड़ी मशक्कत अवश्य करना पड़ेगी. आइये हम इसे हल करते है. इस पहेली को सुलझाने के लिए आपको इसे बिना जल्दबाजी और ध्यान लगाकर देखना होगा.

Common Sense Questions in Hindi With Answers

जब आप इस पहेली को ध्यान से पढेंगे तब आप इसे समझ पाएँगे और सुलझा पाएँगे, आइये हम इस पहेली को सुलझाने में आपकी मदद करते है.

पहले पहेली ध्यान से देखते है.
logical and Common Sense Question in Hindi with Answer

Mind Question in Hindi with Answer

एक बदमाश प्लेन हाईजेक करता है, जिसमे ढेर सारा सोना था. उसने सारा सोना लूट लिया और ग्यारह पेराशूट की मांग की. प्लेन के लोगो ने उसे सारा सोना और ग्यारह पेराशूट दे दिया. चूँकि सभी यात्रियों ने उसे देख लिया था इसलिए उसने सभी को मार दिया और फिर प्लेन से निचे कूद गया. अब सवाल ये बनता है कि जब उसे सबको मारना ही था तो उसने ग्यारह पेराशूट की मांग क्यों की ?

यदि आपका उत्तर हमारे उत्तर से अलग है तो हमें अपना उत्तर कमेंट बॉक्स में जरुर बताएं.

Paheli Question and answer in Hindi


उत्तर : वह जनता था कि यदि वो पायलट से एक पेराशूट की मांग करता है तो उसे प्लेन के कर्मी गलत पेराशूट दे सकते है. इसलिए उसने ग्यारह पेराशूट की मांग की ताकि प्लेन के कर्मी ये सोचें कि वह किसी को बंधक बनाकर निचे कूदेगा और इसीलिए प्लेन के कर्मी उसे ख़राब पेराशूट नहीं देंगे.

Funny Tricky Questions and Answers in Hindi

दोस्तों इस पहेली से सम्बंधित किसी भी सवाल के लिए हमें कमेंट बॉक्स में बताएं, और इसी तरह की पहेलियों से जुड़ने के लिए हमारी वेबसाइट दिल से देशी से हमेशा जुड़े रहे.
धन्यवाद !

2 thoughts on “बूझो तो जाने पहेली क्र. 124 का उत्तर | logical and Common Sense Question in Hindi with Answer | Puzzle No. 124”

  1. 11पैराशूट क्यों 2या4 की मांग पर भी उसे सही पैराशूट मिल सकता था।

    Reply
  2. यात्री हवाई जहाज में पेरा शूट नहीं रखे जाते क्योंकि
    अनुभवी से अनुभवी पैराशूटर भी15000 फ़ीटकी ऊंचाई से छलांग लगता है पर पैसेंजर एयरलाइनर30000 से 35000 फ़ीटकी ऊंचाई पर उड़ते है। इतनी ऊंचाई पर ऑक्सीजन विरल होती है और बहुत ठंड होती है। कोई अगर कूद गया तो ऑक्सीजन की कमी से बेहोश हो सकता है और तापमान शून्य से कई डिग्री नीचे होगा तो जीवित रहना भी मुश्किल है।
    मानिये कि सबके लिए प्लेन में ejectable सीट लगा भी दी और सारी तकनीकी ज़रूरतें पूरी कर दी गई। अब प्लेन भारी होगा उसमे जगह कम होगी। जगह कम हुई तो टिकट के दाम बढ़ेंगे। अंत मे आपको नुकसान होगा।

    अगर, उसने सारे यात्रियों को मार दिया तो उसका बचना भी लगभग नामुमकिन है।क्योंकि वह यात्रियों को बंधक बना कर उसके बदले में बच कर निकल सकता है।

    Reply

Leave a Comment

error: Content is protected !!