कुलदीप यादव का जीवन परिचय | Kuldeep Yadav Biography in Hindi

क्रिकेटर कुलदीप यादव की जीवनी, जन्म, परिवार
Kuldeep Yadav Biography, Age, Career, Family, Education, Net Worth, Caste, Parents In Hindi

कुलदीप यादव भारतीय टीम के खिलाड़ी है, जो कि घरेलू मैचों में उत्तरप्रदेश के लिए भी खेलते है. वह बाएं हाथ से बल्लेबाजी और बाएं हाथ से रिस्ट स्पिन गेंदबाजी करते है. उन्होंने अंतर्राष्ट्रीय खेलो में अंडर-19 और भारतीय-ए  टीम की ओर से अपना शानदार प्रदर्शन दिया है. उनको आईपीएल 2022 में दिल्ली कैपिटल्स को अपनी टीम में शामिल करने के लिए 2.5 करोड़ रूपए खर्च करने पड़े थे.

जन्म और परिचय

कुलदीप यादव का जन्म 14 दिसम्बर 1994 को उत्तरप्रदेश के छोटे से गाँव उन्नाव में हुआ था. उनके पिता राम सिंह यादव ईंट के भट्टे के मालिक है. वह उनके समय में कॉलेज लेवल तक क्रिकेट खेल चुके है, लेकिन वह हायर लेवल तक क्रिकेट नहीं खेल सके. कुलदीप के चाचा राज्य स्तर तक क्रिकेट खेल चुके चुके है. उनकी माँ उषा यादव एक गृहिणी  है. कुलदीप ने स्कूल की पढ़ाई करम देवी मेमोरियल एकेडमी, कानपुर से पूरी की है. उनका परिवार अपना पुश्तेनी घर छोड़कर कानपुर में चला गया था ताकि कुलदीप एक बेहतरीन खिलाड़ी बन सके. वहां पर उन्होंने रोवर्स क्लब एकेडमी, कानपुर के कोच कपिल देव पांडे से क्रिकेट में प्रशिक्षण लिया.

पूरा नामकुलदीप यादव
जन्म14 दिसम्बर 1994
जन्म स्थानउन्नाव, उत्तर प्रदेश, भारत
उम्र (2022 में)28 साल
बल्लेबाजी के शैलीबाएं हाथ से
गेंदबाजी की शैलीबाएं हाथ से स्पिन गेंदबाजी
घरेलू टीमउत्तरप्रदेश
पिता का नामराम सिंह यादव
माता का नामउषा यादव
कोच का नामकपिल देव पांडे
एकेडमीरोवर्स क्लब एकेडमी, कानपुर
स्कूलकरम देवी मेमोरियल एकेडमी, कानपुर
अंतर्राष्ट्रीय टीमभारतीय अंडर-19
भारतीय-ए
वनडे
टेस्ट मैच
ऊंचाई5’ 6” फीट
वजन61 किलो
आँखों का रंगगहरा भूरा
बालो का रंगकाला

क्रिकेट करियर

कुलदीप का वजन बचपन में काफी ज्यादा था. जिस कारण उनके चाचा उन्हें मैदान पर दौड़ लगवाते थे. इसी दौरान उनका झुकाव क्रिकेट की ओर होने लगा. उनको बाकि बच्चो की तरह बल्लेबाजी नहीं पसंद थी, वह तेज गेंदबाजी करना पसंद करते थे. क्रिकेट के लिए उनके पिता ने हमेशा से साथ दिया. उनकी पिता भी क्रिकेटर बनाना चाहते थे लेकिन वह बन नहीं सके.

कुलदीप जब  क्रिकेट क्लब गए तब कोच ने उनके पिता ओर उनको देखते हुए कहा कि तुम्हारी हाइट 5’ 6” फीट से ज्यादा नहीं बड़ेगी. इस लिए तुम तेज गेंदबाजी नहीं बल्कि स्पिन गेंदबाजी करो. यह पहली बार था जब किसी ने उनको कम आंका था. कोच ने उनको स्पिन गेंदबाजी करने को कहा. कोच कुलदीप की चाइनामैन स्पिन गेंदबाजी देखकर स्तब्ध रह गए. चाइनामैन गेंदबाजी 100 लोगों में से सिर्फ 1 ही फेक सकता हैं. नार्मल स्पिन उगली से करते है, और चाइनामैन हतेलियो की मदद से फेकी जाती है. उनके कोच समझ चुके थे की यह एक अनूठा टेलेंट है.

कुलदीप कोच के माना करने पर भी तेज गेंदबाजी करना चाहते थे. कोच ने उनको बोल दिया की क्रिकेट खेलना है, तो स्पिन ही करनी पड़ेगी. कोच ने उनको इस स्पिन के बेसिक तो सिखा दिए, लेकिन उच्च स्तर पर रिस्ट स्पिन करना अगली चुनौती थी, तब मात्र शेन वॉर्न ही ऐसे खिलाड़ी थे जो कि रिस्त  स्पिन गेंदबाजी करते थे. कुलदीप रोजाना 5-6 घंटे का प्रशिक्षण लिया करते थे.

क्लब में जब अंडर-12 मैच था तब कोच ने कुलदीप को भी टीम में लिया था. तब काफी लोगों ने कोच से कुलदीप के बारे में कहा कि “यह लड़का अभी छोटा है, आप इसकी जगह किसी ओर को खिला लीजिए” तब कोच ने कहा की मैच के बाद देखना कौन छोटा है और कौन बड़ा. कुलदीप ने उस दौरान 6 विकेट हासिल किये. कुलदीप इतने श्रेष्ठ गेंदबाजी करते थे कि वह 13 साल की आयु में अपने से 10-12 साल बड़े खिलाड़ियों के साथ मैच खेलते थे. 2008 में जब वह अंडर-15 के ट्रायल्स देने गए,  तब उनको वहां के एक यू.पी खिलाड़ी ने बाएं हाथ से फिंगर स्पिन गेंदबाजी करने को बोला, तब कुलदीप ने रिस्ट स्पिन करने की बजाए फिंगर स्पिन गेंद फेकी ओर वह ट्रायल्स में सिलेक्ट नहीं हो सके.

उस दौरान ही कुलदीप के पिता का कार एक्सीडेंट हो गया था और ईंट भट्टा में रखी लाखो की ईंट बारिश के कारण मिट्टी बन चुकी थी. काफी नुकसान होने के कारण उनके परिवार को घर बेचकर एक किराए के घर में रहना पड़ा. कुलदीप काफी दुखी हुए तब उनको कोच, परिवार और दोस्तों ने समझाया की यहाँ जिंदगी ख़त्म नहीं होती है यह तो बस अभी शुरुवात है. 2 साल के बाद कुलदीप के जीवन में फिर से खुशियां आई जब उनका चयन उत्तरप्रदेश अंडर-17 टीम में हुआ. जिसके बाद वह हर एक टूर्नामेंट में अपना शानदार प्रदर्शन देने लगे, जिसके चलते उनको 2012 में भारतीय अंडर-19 टीम में चुना गया और उस ही साल उनको आईपीएल में डेब्यू करने का मौका मिला.

साल 2019 में कुलदीप अंतरराष्ट्रीय मैच में 2 हैट्रिक अपने नाम करने वाले पहले भारतीय गेंदबाज थे और वह भारत के सबसे तेज स्पिन गेंदबाज है. उन्होंने वनडे में 58 पारी में 100 से भी जादा विकेट अपने नाम किये है. उन्होंने फर्स्ट क्लास, टी-20 और लिस्ट-ए में अपनी गेंदबाजी से 100 से भी ज्यादा विकेट लिए है.

फॉर्मेटमैचविकेटरन
टेस्ट मैच72654
टी-20 आई244143
वनडे66109123
फर्स्ट क्लास33123866
टी-20116123172
लिस्ट-ए 76143196
यह डाटा 23 जुलाई 2022 तक का है.

आईपीएल करियर

कुलदीप को आईपीएल 2012 में मुंबई इंडियन ने अपने साथ 10 लाख के बेस प्राइस पर शामिल किया था तब उनको एक भी मैच में खेलने का मौका नहीं मिला था. उनको आईपीएल 2013 में किसी भी टीम ने अपने साथ शामिल नहीं किया था और साल 2014 में, कुलदीप को कोलकाता नाइट राइडर्स ने अपने साथ जोड़ा लेकिन उनको उस साल भी आईपीएल में खेलने का मौका नहीं मिला. उनको अपना पहला मैच खेलने का मौका कोलकाता नाइट राइडर्स की ओर से साल 2016 में मिला. उनको साल 2018 से 2021 तक कोलकाता नाइट राइडर्स ने 5.80 करोड़ में अपने टीम में खिलाया था.  उनको साल 2022 में दिल्ली कैपिटल्स ने 2 करोड़ में अपने साथ शामिल किया.

सालमैचविकेटरन
2016360
2017121220
2018161712
20199412
20205113
2022142148
यह डाटा 20222 तक का है.

अगर आपके पास कुलदीप यादव से जुड़ी हुई और कोई जानकारी है, तो हमे कमेंट जरुर करे.

Leave a Comment

error: Content is protected !!