मेनका गाँधी का जीवन परिचय | Maneka Gandhi Biography in Hindi

बीजेपी नेता और संजय गाँधी की पत्नी मेनका गाँधी का जीवन परिचय | Maneka Gandhi Biography (Birth, Education and Marriage), Political Career, Post and Books in Hindi

बीजेपी की वरिष्ठ और कद्दावर नेता मेनका गाँधी बहुत ही लोकप्रिय शख्सियत हैं. उनके राजनीतिक जीवन से तो सभी अवगत हैं. लेकिन उनकी निजी जिंदगी के बारे में बहुत ही कम लोगों को पता हैं. मेनका गाँधी देश के सबसे बड़े राजनीतिक घराने अर्थात गाँधी परिवार की बहु है. वर्तमान मोदी सरकार में मेनका गाँधी केन्द्रीय कैबिनेट मंत्री हैं. वे पर्यावरण और पशु प्रेमी होने के साथ ही उन्होंने शब्द साधन, कानून और प्राणियों के कल्याण पर बहुत सारी किताबे लिखी है.

मेनका गाँधी का परिचय (Maneka Gandhi Biography)

मेनका गाँधी का जन्म 26 अगस्त 1956 को दिल्ली के एक आर्मी परिवार में हुआ था. इनके पिता का नाम तारलोचनसिंह आनंद था. जो कि आर्मी में लेफ्टिनेंट कर्नल के पद पर थे. इनकी माता का नाम अम्तेश्वर आनंद था. मेनका गाँधी ने प्रारंभिक शिक्षा लारेंस स्कूल से पूरी की. इसके बाद इन्होने लेडी श्रीराम कॉलेज से अपना स्नातक पूर्ण किया. उसके बाद ही उन्होंने दिल्ली के जवाहलाल नेहरु यूनिवर्सिटी से जर्मन भाषा की पढाई की. शुरू से मेनका गाँधी को मॉडलिंग का शौक था. इन्होने अपने करियर की शुरूआत मॉडल के रूप में की थी. बॉम्बे डाइंग के लिए मेनका ने एक ऐड किया था. मेनका गाँधी की संजीव गाँधी से मुलाकात 17 वर्ष की उम्र में हुई थी. उसके एक साल बाद ही 23 सितम्बर 1974 को मेनका गाँधी का विवाह संजय गाँधी से हो गया था. उन्होंने वर्ष 1980 में एक लड़के को जन्म दिया था जिसका नाम वरुण गाँधी हैं.

Maneka Gandhi Biography in Hindi
Maneka Gandhi with Husband Sanjay Gandhi

मेनका गाँधी का राजनितिक करियर (Maneka Gandhi Political Career)

देश में आपातकाल के समय संजय गाँधी का राजनितिक करियर शुरू हुआ. इसी के साथ ही मेनका गाँधी का भी भारतीय राजनीती में प्रवेश हुआ. मेनका अक्सर संजय गाँधी के साथ कांग्रेस की रेलियों और कार्यक्रमों में भाग लिया करती थी. आपातकाल के बाद वर्ष 1977 में कांग्रेस पार्टी को हार का सामना करना पड़ा था. कांग्रेस की छवि को सुधारने के लिए मेनका गाँधी ने अपनी मैगजीन सूर्य में उस वक्त की तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के साक्षात्कार के लेख प्रकाशित किए. जिससे काफी हद तक कांग्रेस की छवि में सुधार हुआ था.

23 जून 1980 को संजय गाँधी की प्लेन क्रेश होने के कारण आकस्मिक मृत्यु हो गई. जब यह सब हादसा हुआ तब इनके बेटे वरुण गाँधी सिर्फ तीन महीने के थे. संजय की मृत्यु के बाद ही गाँधी परिवार में इंदिरा और मेनका के बीच विवाद शुरू हो गया. जिसके बाद वर्ष 1981 में मेनका गाँधी परिवार से हमेशा के लिए अलग हो गयी. जिसके बाद मेनका गाँधी ने संजय विचार मंच की स्थापना की और अगले ही चुनाव में सीटे हासिल की. जिसके बाद वर्ष 1988 में मेनका गाँधी ने अपनी पार्टी का विलय जनता दल में कर दिया. इस दौरान मेनका गाँधी को जनता दल का महासचिव बनाया गया था. इस पार्टी ने वर्ष 1998 में पहला चुनाव जीता.

जनता दल की सरकार में मेनका गाँधी ने पर्यावरण मंत्री का दायित्व निभाया था. जिसके बाद उन्होंने वर्ष 1996 में पीलीभीत से चुनाव लड़ा और उसमे उन्हें जीत भी मिली. 1999 में मेनका गाँधी ने बीजेपी को समर्थन दिया था. बीजेपी की सरकार में मेनका को सामाजिक न्याय एवं सक्षमीकरण का मंत्री बनाया गया था. अपने कार्यकाल के दौरान उन्होंने बहुत अच्छे कार्य किये. मेनका ने बच्चों को गोद लेने के कानून में सुधार किया. जिसका उद्देश्य बच्चों को गोद लेना आसान करना था. जिसके बाद वर्ष 2004 में मेनका गाँधी बीजेपी में शामिल हो गयी. उन्होंने फिर एक बार पीलीभीत से चुनाव लड़ा और वहां से एक बार लोकसभा के लिए चुनी गई. मेनका अपने बेटे के लिए भी राजनितिक पृष्ठभूमि तैयार कर चुकी थी. जिसके बाद 2009 में मेनका गाँधी के बेटे वरुण गाँधी ने पीलीभीत लोकसभा से चुनाव लड़ा और वे अभी इस सीट से सांसद हैं.

मेनका गाँधी द्वारा निर्वहन किये गए राजनितिक दायित्व (Maneka Gandhi Political Post)

वर्ष पद
1988-89 महासचिव, जनता दल (ज.द)
1989 9वीं लोक सभा के लिए निर्वाचित
1989-91 केन्‍द्रीय राज्‍य मंत्री (स्‍वत्रंत प्रभार), पर्यावरण और वन
जनवरी-अप्रैल 1990 केन्‍द्रीय राज्‍य मंत्री (स्‍वत्रंत प्रभार) कार्यक्रम क्रिर्यान्‍वयन
1996 11वीं लोक सभा के लिए पुन: निर्वाचित (दूसरा कार्यकाल)
1996-97 सदस्‍य, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी, पर्यावरण और वन संबंधी स्‍थायी समिति
1998-99 12वीं लोक सभा के लिए पुन: निर्वाचित (तीसरा कार्यकाल)
1998-99 केन्‍द्रीय राज्‍य मंत्री (स्‍वत्रंत प्रभार) सामाजिक न्‍याय और अधिकारिता
1999 13वीं लोक सभा के लिए पुन: निर्वाचित (चौथा कार्यकाल)
13 अक्‍टूबर 1999- 1 सितम्‍बर 2001 केन्‍द्रीय राज्‍य मंत्री ( स्‍वत्रंत प्रभार) सामाजिक न्याय और अधिकारिता
1 सितम्‍बर 2001- 18 नवम्‍बर 2001 केन्‍द्रीय राज्‍य मंत्री, संस्‍कृति आैर पशु देखभाल का अतिरिक्‍त प्रभार (स्‍वंत्रत प्रभार)
18 नवम्‍बर 2001- 30 जून 2002 केन्‍द्रीय राज्‍य मंत्री (स्‍वत्रंत प्रभार) कार्यक्रम क्रिर्यान्‍वयन और सांख्‍यिकी तथा पशु देखभाल का अतिरिक्‍त प्रभार
2002-2004 सदस्‍य, विदेश मामलों संबंधी स्‍थायी समिति
2004 14वीं लोक सभा के लिए पुन: निर्वाचित (पाचंवा कार्यकाल)
सदस्‍य, स्‍वास्‍थ्‍य और परिवार कल्‍याण संबंधी स्‍थायी समिति
सदस्‍य, परामर्शदात्री समिति, पर्यावरण और वन मंत्रालय
5 अगस्‍त 2007 सदस्‍य, स्‍वास्‍थ्‍य और परिवार कल्‍याण संबंधी स्‍थायी समिति
2009 15वीं लोक सभा के लिए पुन: निर्वाचित (छठा कार्यकाल)
31 अगस्‍त. 2009 सदस्‍य, रेल संबंधी स्‍थायी समिति
23 सितम्‍बर 2009 सभापति, सरकारी आश्‍वासनों संबंधी समिति
19 अक्‍टूबर 2009 सदस्‍य, सामान्‍य प्रयोजनों संबंधी समिति
मई 2014 16वीं लोक सभा के लिए पुन: निर्वाचित (सातवां कार्यकाल)
27 मई 2014 से अब तक केन्‍द्रीय केबिनेट मंत्री, महिला और बाल विकास

मेनका गांधी को मिले हुए पुरस्कार (Maneka Gandhi Awards)

  • सुप्रीम मास्टर चिंग है इंटरनेशनल एसोसिएशन की तरफ़ से शाइनिंग वर्ल्ड कम्पैशन अवार्ड जिसके साथ 20,000 डॉलर का चेक था।
  • महिला सक्षमीकरण और बालकल्याण के कार्य के लिए ह्यूमन एचीवर अवार्ड।
  • रुक्मिणी देवी अरुन्दले एनिमल वेलफेयर अवार्ड
  • 1992 में आरएसपीसीए की तरफ़ से लार्ड एर्स्किने अवार्ड
  • 1994 का वर्ष का पर्यावरण कार्यकर्ता और शाकाहारी पुरस्कार
  • 1996 में प्राणी मित्र पुरस्कार
  • 1996 में पर्यावरण के कार्य के लिए महाराणा मेवार फाउंडेशन अवार्ड
  • 1997 में मार्चिंग एनिमल वेलफेयर एंड सेल्लिंग प्राइज, स्विट्ज़रलैंड
  • 1999 में वेणु मेनोन एनिमल अलायिज फाउंडेशन लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड
  • 1999 में सत्य, अहिंसा और शाकाहार के कार्य के लिए भगवान महावीर फाउंडेशन अवार्ड
  • 1999 में देवालीबेन चैरिटेबल ट्रस्ट अवार्ड
  • 2001 में इंटरनेशनल विमेंस एसोसिएशन वुमन ऑफ़ द इयर अवार्ड, चेन्नई
  • 2001 में पर्यावरण और प्राणी कल्याण के कार्य के लिए दीनानाथ मंगेशकर आदिशक्ति पुरस्कार
  • 2008 में ए. एस. जी. जयकर अवार्ड

Maneka Gandhi Biography in Hindi

मेनका गाँधी द्वारा प्रकाशित पुस्तकें (Maneka Gandhi Published Books)

  1. संजय गांधी
  2. द रेनबो एण्‍ड अदर स्‍टोरीज
  3. 1001 एनिमल क्‍विज
  4. पेंगुइन बुक ऑफ हिन्‍दु नेम्‍स
  5. कम्‍प्‍लीट बुक ऑफ पारसी एण्‍ड मुस्लिम नेम्‍स
  6. ब्रहमाज
  7. हेड्स एण्‍ड टेल्‍स
  8. एनिमल लॉज ऑफ इंडिया
  9. फस्‍
  10. अपने कुत्ते के लिए प्राकृतिक स्वास्थ्य
  11. बुद्धिमान और अद्भुत पशु वर्णमाला क्विज
  12. मछली क्विज
  13. बर्ड प्रश्नोत्तरी
  14. कीट प्रश्नोत्तरी

इसे भी पढ़े :

Ujjawal Dagdhi

Ujjawal Dagdhi

उज्जवल दग्दी दिल से देशी वेबसाइट के मुख्य लेखकों में से एक हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *