दीवारों पर लाल रंग से स्वास्थ्य पर पढने वाला प्रभाव | Impact of Red Color Walls in Hindi

लाल रंग का घर परिवार पर पड़ने वाला प्रभाव और इसे कहाँ इस्तेमाल करना चाहिए | Impact of Red Color Walls in Hindi | Deewaron par Lal Rang Ka Prabhav

दीवारों पर रंगों की प्रथा बहुत पुरानी है और इसके लिए दीपावली का समय भी निर्धारित किया गया है. वैसे दीवारों पर रंगों को इसलिए लगाया जाता है क्योंकि साफ़-सफाई रहे और कीड़ों-मकोड़ों से सुरक्षित रह सके साथ ही घर व प्रतिष्ठान की सुन्दरता भी बनी रहे. दीवारों का रंग घर की रौनक में चार चाँद लगा देता है. जितने अच्छे रंग होंगे घर भी उतना ही सुन्दर लगता है. इसलिए कहा जाता है कि घर को समय-समय पर रंगवाना चाहिए और साफ़ रखना चाहिए. यह बात सिर्फ घर के लिए ही नहीं बल्कि दुकानों और कार्य स्थल के लिए भी लागू होती है, अगर आप हर स्थान साफ़ रखेंगे तो आपको सकारात्मक उर्जा का प्रवाह होगा.

दीवारों के लिए उपयुक्त रंग (Colors Suitable for Walls)

वैसे तो आप दीवारों पर किसी भी रंग को लगवा सकते हैं, वह आपकी पसंद पर निर्भर करता है. लेकिन अगर आपको सुख शांति और सकारात्मक उर्जा चाहिए तो इन रंगों का इस्तेमाल करें.

  • सफ़ेद
  • हल्का गुलाबी
  • हल्का हरा
  • आसमानी
  • बादामी
  • हल्का पीला
  • पर्पल

हल्के रंग दीवारों को खुबसूरत भी बनाते हैं, और सकारात्मक उर्जा प्रवाह भी करते हैं इसलिए इन रंगों का उपयोग दीवारों के लिए करें.

दीवारों पर इन रंगों के उपयोग से बचें (Colors Not Suitable for Walls)

  • काला
  • हरा
  • नीला
  • लाल

यह रंग अशुभ माने जाते हैं वैसे हरा और लाल रंग शुभ रंगों में आता है, लेकिन यह रंग घर की दीवारों के लिए शुभ नहीं है. इसलिए इन रंगों से बचें. नीला और काला रंग तो कभी भी दीवारों के लिए उपयोग में नहीं लाना चाहिए इससे नकारात्मक उर्जा का प्रवाह बहुत ज्यादा होता है एवं जीवन में कठिनाइयाँ आने लगती है.

लाल रंग का उपयोग दीवारों के लिए क्यों न करे (Why Red Color is not Suitable for Walls)

यहाँ हम देखेंगे, कि लाल रंग का उपयोग दीवारों को रंगने के लिए क्यों न करें, इसके क्या नुकसान है. अगर आपको लाल रंग से बहुत लगाव है और आप इस रंग से दीवारों को रंगना चाहते हैं तो सारी दीवारों को लाल रंग से न रंगें. इसके साथ आप किसी और कलर का भी उपयोग करें जिससे दीवारों की सुन्दरता और अधिक हो जाये. वास्तु के हिसाब से दीवारों के लिए लाल रंग शुभ नहीं होता, ग्रहों की दृष्टि से तो लाल रंग अच्छा माना जाता है, लेकिन यह रंग खतरे का प्रतीक भी होता है. इसलिए आपने कई जगह देखा होगा, “लाल मतलब खतरा”. और लाल रंग को वास्तु और दीवारों के लिए शुभ नहीं मानते.

लाल रंग मनुष्य को उत्तेजित करता है और उर्जा को ख़त्म करता है, घर की दीवारों, किचन, शयनकक्ष के लिए तो लाल रंग बिलकुल भी शुभ नहीं है, तो भूल कर भी लाल रंग का उपयोग यहाँ न करें. किचन की दीवारों पर लाल रंग लगाने से सेहत पर बुरा असर होता है, इसी प्रकार अगर शयनकक्ष में लाल दीवारें हों तो उसका आपकी व्यक्तिगत जीवन पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है, जो किसी भी द्रष्टि से ठीक नहीं है.

अगर आप लाल रंग को सफ़ेद या नीले रंग के साथ उपयोग करते हैं तो लाल रंग का प्रभाव कम हो जाता है, और नकारात्मक उर्जा कम होती है. इसलिए अगर आपको लाल रंग अत्यधिक पसंद है तो नीले या सफ़ेद रंग के साथ इसका उपयोग करें.

लाल रंग का उपयोग कहाँ करें (Where Red Color Can be Used)

लाल रंग का उपयोग ऑफिस की दीवारों पर किया जा सकता है, लेकिन फिर भी आप पूरा लाल रंग न करें किसी और लाल रंग के साथ किसी हल्के रंग को कंट्रास्ट में ही प्रयोग करें. नहीं तो ऑफिस में वाद-विवाद वाला माहौल बन सकता है.

इसी प्रकार कहा जाता है कि कभी भी लाल रंग के तौलिये का प्रयोग कर सकते हैं. अगर कपड़ों की बात आती है तो लाल रंग शुभ होता है लेकिन दीवारों के रंग की बात आती है, तो यह उत्तेजित रंगों में से एक है अथवा इसे खतरे का निशान भी कहा जा सकता है.

लाल रंग का उपयोग किन चीज़ों के लिए फायदेमंद है:

  • कपडे
  • प्यार
  • शो पीस
  • बेडशीट
  • पूजा

इन सब चीज़ों में लाल रंग को प्रयोग किया जाता है.

लाल रंग दीवारों पर प्रयोग न करने का मुख्य कारण (Impact of Red Color on Health)

यहाँ लाल रंग दीवारों पर प्रयोग न करने के कुछ मुख्य कारण है जैसे:

  • उत्तेजकता बढाता है.
  • वास्तु के हिसाब से सही नहीं है.
  • बीमारी को लाता है.
  • नकारात्मक उर्जा का कारक है.
  • वाद – विवाद का कारक है.
  • खतरे का प्रतीक है.

ऐसे कई और भी कारण हैं जिससे लाल रंग को दीवारों पर रंगना शुभ नहीं माना जाता. आप अगर लाल रंग को दीवारों पर करवाना कहते हैं तो इसके साथ किसी हलके रंग को प्रयोग करके ही इसे दीवारों पर रंगवाएं. जिससे आपको किसी नुकसान और परेशानियों का सामना नहीं करना पड़े.

चीन में लाल रंग को शुभ माना जाता है और सफ़ेद रंग को मृत्यु का प्रतीक माना जाता है. ऐसे ही अलग-अलग देशों की धारणाएं, लाल और कई रंगों को लेकर अलग – अलग हैं. लेकिन अब नए समय में कोई इन बातों पर इतना विचार नहीं करता, लेकिन वास्तु के हिसाब से इन पर विचार करना चाहिए. हो सकता है हमारी एक गलती का नुकसान हमें बहुत ज्यादा हो, तो क्यों न हम पहले ही इनसे बचें और सावधानियां लें.

इस विषय पर चर्चा करने का विशेष कारण यह है, कि आप किसी भी गंभीर परेशानी या नुकसान से बचें. इसके अलावा आप किसी अच्छे वास्तु ज्ञाता से भी इस बारे में विस्तार पूर्वक बात कर सकते हैं. क्योंकि अगर आप दीवारों को रंग कराने का विचार कर रहे हैं और आपके मन में लाल रंग को लेकर ज्यादा उत्सुकता है, तो एक बार इस पर विचार करें. आपका नया घर, आपका ऑफिस, और उन पर किया गया रंग आपके जीवन में खुशियाँ लाना चाहिए न की दुःख और परेशानी. इसलिए सोचें समझे और फिर कोई सकारात्मक रंग को चयन करें. कभी-कभी हम इन सब बातों पर ध्यान नहीं देते फिर बाद में सोचते हैं कि काश हमने पहले इस बात पर विचार किया होता. आप लाल रंग दीवारों पर करवाने से पहले किसी अच्छे वास्तु शास्त्री की सलाह अवश्य लें.

इसे भी पढ़े :

मित्र आपको यह लेख कैसा लगा हमें कमेंट करके अवश्य बताएं.

Leave a Comment

error: Content is protected !!