प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का जीवन परिचय | PM Narendra Modi Biography in Hindi

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की जीवनी, राजनीतिक जीवन | PM Narendra Modi Biography (Birth, Education, Caste), Political Career in Hindi

नरेन्द्र मोदी भारत गणराज्य के 15वें और वर्तमान प्रधानमंत्री हैं. उनको भारत की जनता ने साल 2014 और 2019 में देश के प्रधानमंत्री के रूप में चुना गया हैं. साल 2014 और 2019 में भाजपा की पूर्ण बहुमत के साथ जीत हुई थी और नरेन्द्र मोदी प्रधानमंत्री बने थे. नरेन्द्र मोदी के पास भारत के प्रधानमंत्री पद से पहले गुजरात के मुख्यमंत्री का पद था. नरेन्द्र मोदी युवा अवस्था में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रचारक भी रह चुके है.

बिंदु(Points) जानकारी (Information)
नाम(Name) नरेन्द्र मोदी
पद (Post) भारत के प्रधानमंत्री
जन्म(Birth) 17 सितम्बर 1950
जन्म स्थान (Birth Place) वडनगर
पिता का नाम(Father Name) दामोदर दास
धर्मं (Religion) हिन्दू
जाति(Caste) ओबीसी

नरेन्द्र मोदी का जन्म और परिवार (Narendra Modi Birth and Family)

भारत के माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी का जन्म गुजरात के वडनगर में 17 सितम्बर 1950 में हुआ था. नरेन्द्र मोदी अपने माता-पिता के तीसरे पुत्र है. नरेन्द्र मोदी के पिता का नाम दामोदर दास मोदी और माता का नाम हीराबेन मोदी था. मोदी के 3 भाई है. सोमभाई मोदी, प्रहलाद मोदी और पंकज मोदी. मोदी जी की एक बहन भी है, उनकी बहन का नाम वसंतिबेन मोदी है.

PM Narendra Modi Biography in Hindi
 Narendra Modi and Family

नरेन्द्र मोदी की शिक्षा (Narendra Modi Education)

नरेन्द्र मोदी की प्रारंभिक शिक्षा वडनगर में ही हुई थी. मोदी जी के शिक्षकों के अनुसार मोदी जी सामान्य छात्र ही थे. लेकिन उनकी वाद विवाद में रुचि ज्यादा थी. वे अपनी कक्षा के सबसे बढ़िया वक्ता थे. 1967 में मोदी ने अपनी स्कूल की शिक्षा पूरी की. मोदी जी ने उसी समय के दौरान अपने बड़े भाई सोमभाई मोदी के साथ चाय बेचना शुरू किया. कुछ समय बाद मोदी जी ने घर छोड़ दिया था. घर छोड़ने के बाद मोदी जी उत्तर भारत के कई राज्यों में घूमने और हिन्दू संस्कृति की जान-पहचान करने गए. 4 सालों तक भारत के उत्तर-पूर्वी राज्यों में भ्रमण करने के बाद मोदी जी 1971 में वापस गुजरात लौटे. गुजरात आने के बाद मोदी जी ने अहमदाबाद में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रचारक भी बने. सन् 1978 में मोदी जी ने दिल्ली विश्वविद्यालय से राजनीतिक विज्ञान में ग्रेजुएशन किया. सन् 1983 में मोदी ने गुजरात विश्वविद्यालय से राजनीति विज्ञान में ही मास्टर की डिग्री भी प्राप्त की.

PM Narendra Modi Biography in Hindi
Young PM Narendra Modi

शुरूआती राजनीतिक जीवन (Narendra Modi Intial Political Career)

नरेन्द्र मोदी को स्कूल के समय से ही वाद-विवाद में बहुत रुचि थी. वे राजनीति में बचपन से ही नहीं जाना चाहते थे. जब वे 13-14 साल के थे तब राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से जुड़ गए थे. 1964 के भारत-पाकिस्तान युद्ध के समय वे अकेले ही थे जो रेलवे स्टेशन पर रुक कर सेना के जवानों के लिए खाना पहुंचाते थे.

अपनी युवा अवस्था में नरेन्द्र मोदी अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद् से जुड़े. वहां रह कर मोदी जी ने कई वर्ष विद्यार्थी स्तर पर ही देश की सेवा की. इसके बाद मोदी जी अटल बिहारी बाजपेयी के नेतृत्व में भाजपा से जुड़े. शंकर लाल वाघेला के साथ नरेन्द्र मोदी ने गुजरात में पार्टी को ऊंचे स्तर पर पहुँचाया.

90 के दशक में भाजपा के लिए अटल जी उभरते हुए विपक्षी नेता साबित हो रहे थे. भाजपा को राष्ट्रीय स्तर पर पहचान मिल रही थी. सन् 1995 में गुजरात में भाजपा सत्ता में आई. सत्ता में आने के बाद नरेन्द्र मोदी को सोमनाथ से लेकर अयोध्या तक की रथ यात्रा की ज़िम्मेदारी दी गयी थी. यात्रा निर्विघ्न सफल रही. इस यात्रा के कुछ समय बाद ही कन्याकुमारी से लेकर कश्मीर तक की यात्रा भी निकाली गयी. इन दोनों यात्रा में नरेन्द्र मोदी ने अहम भूमिका निभाई थी. इससे पहले 1995 के गुजरात चुनाव की रणनीति तैयार करने में मोदी जी का सबसे बड़ा हाथ था. जैसे ही भाजपा ने 1995 का गुजरात चुनाव जीता वैसे ही नरेन्द्र मोदी को पार्टी का महामंत्री बना दिया गया. यहाँ से मोदी जी का दिल्ली का सफ़र शरू हुआ. दिल्ली जाते ही मोदी जी को अटल बिहारी बाजपेयी की सरकार में रहते हुए हरयाणा और हिमाचल प्रदेश का कार्यभार मिला. यहाँ पर मोदी जी ने भाजपा का प्रचार किया.

PM Narendra Modi Biography in Hindi

गुजरात के मुख्यमंत्री (Narendra Modi as Chief Minister of Gujarat)

सन् 2001 में केशुभाई पटेल भाजपा की ओर से गुजरात के मुख्यमंत्री थे. उनके नेतृत्व में भाजपा गाँधीनगर के उप-चुनाव हार गयी थी. गाँधी नगर की सीट पर लालकृष्ण आडवाणी थे. लालकृष्ण आडवाणी ने चुनाव हारने के बाद गुजरात के तत्कालीन मुख्यमंत्री केशुभाई पटेल को मुख्यमंत्री पद से हटा कर नरेन्द्र मोदी को मुख्यमंत्री बनाया था. मुख्यमंत्री बनने के बाद 2002 तक उन्होंने सिर्फ छोटी सरकारी संस्थाओं को मज़बूत बनाने के लिए काम किया. उनके सर पर 2002 के चुनावों का भी बोझ था. मुख्यमंत्री बनने से पहले मोदी जी के पास किसी भी प्रकार का प्रशासनिक अनुभव नहीं था. इसीलिए पार्टी उन्हें शुरु में उप-मुख्यमंत्री बनाना चाहती थी. लेकिन मोदी जी ने इसके लिए मना कर दिया था उन्होंने अटल जी और लालकृष्ण अडवानी को कहा था कि या तो आप मुझे गुजरात की पूरी ज़िम्मेदारी दीजीये या कुछ भी मत दीजीये.

अपने दुसरे कार्यकाल में मोदी जी ने गुजरात के आर्थिक विकास पर ज्यादा ध्यान दिया. इस कारण गुजरात भारत का सबसे बड़ा उद्योग क्षेत्र बन गया था. मोदी जी ने गुजरात में कई तकनीकी और वित्तीय योजनायें स्थापित की. 2007 में गुजरात में हुए वाइब्रेंट गुजरात समिट में मोदी जी ने 6 लाख करोड़ का निवेश कराया. 2007 में मोदी जी ने गुजरात के मुख्यमंत्री के रूप में 2063 दिन पूरे किये थे और मोदी जी ने गुजरात के मुख्यमंत्री के पद पर सबसे ज्यादा समय रहने का रिकॉर्ड भी अपने नाम दर्ज किया.

2007 में गुजरात की जनता ने मोदी जी को लगातार तीसरी बार मुख्यमंत्री चुना. इस जीत के बाद मोदी जी ने अपने कार्यकाल में कृषि के क्षेत्र में ज्यादा विकास किया. कच्छ, सौराष्ट्र और उत्तरी गुजरात में पानी के सप्लाई के कारण ही ये संभव हो पाया था. इन सभी प्रोजेक्ट्स के साथ ही मोदी जी ने किसानों को फार्म भी उपलब्ध कराये. 2008 में मोदी सरकार इंफ्रास्ट्रक्चर के क्षेत्र में 5,000,00 से ज्यादा प्रोजेक्ट पर सफल काम किया. इनमे से 1,13,738 बांध थे. 2010 में 112 में से 60 तहसीलों में पानी पहुँचाया गया था. गुजरात के इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ था. मोदी जी ने गुजरात का मुख्यमंत्री रहते हुए ग्रामीण क्षेत्रों में बिजली पहुंचाई जिससे किसानों को कृषि में मदद मिली. 2012 की शुरुआत में मोदी जी ने सद्भावना मिशन चलाया. इस योजना ने राज्य के मुसलामानों पर अच्छा प्रभाव डाला. मोदी जी ने उस समय केंद्र की गतिविधियों पर भी ध्यान दिया. और देश की भलाई के लिए अपनी राय भी दिया करते थे. लेकिन उनका ध्यान गुजरात के विकास से नहीं हटा. जब बम्बई में 26/11 के आतंकी हमले हुए थे तब मोदी जी ने गुजरात के समुद्री तट की सुरक्षा भी दुगनी कर दी थी.

मोदी जी अपने चुनावी क्षेत्र मणिनगर से भी लगातार चौथी बार बहुत ही बड़े अंतर से चुनाव जीता और गुजरात के मुख्यमंत्री का चुनाव भी जीता. लेकिन उनका ये कार्यकाल सिर्फ 2 साल(2012-2014) का ही था. इस छोटे से कार्यकाल में मोदी जी ने गुजरात के उज्वल भविष्य के लिए कई महत्वपूर्ण निर्णय लिए और गुजरात के समृद्ध भविष्य की नीव रखी.

गुजरात दंगे

फरवरी 2002 में गुजरात में साम्प्रदायिक हिंसा भड़क गयी थी. गोधरा के पास ट्रेन से जा रहे तीर्थ यात्रियों को कुछ मुसलामानों ने ट्रेन के साथ ही जला कर मार दिया था. इस घटना को गोधरा काण्ड के नाम से जाना जाता है. गोधरा काण्ड के बाद पूरे गुजरात में मुस्लिम विरोधी हिन्सा शुरू हो गयी. इन दंगों के कारण पूरे गुजरात में 2000 से ज्यादा लोगों की जान गयी थी. दंगाइयों पर काबू पाने के लिए सरकार ने कई शहरों में कर्फ्यू लगा दिया था.

इन दंगों में मीडिया और विपक्ष ने मोदी सरकार पर आरोप लगाना शुरू कर दिए. कई सालों बाद 2009 में सुप्रीम कोर्ट ने विशेष इन्वेस्टीगेशन टीम का गठन किया. उस इन्वेस्टीगेशन टीम ने 2010 में रिपोर्ट पेश की jismenजिसमें मोदी जी और उनकी सरकार के खिलाफ कोई सबूत नहीं मिले. लेकिन 2013 में उस इन्वेस्टीगेशन टीम पर विपक्ष ने आरोप लगाए कि उन्होंने मोदी जी के खिलाफ सबूत छुपाए या मिटाए थे. इस घटना के बाद मीडिया ने भाजपा पर मोदी जी को हटाने का दबाव बनाया. पर भाजपा ने मोदी जी को नहीं हटाया और अगले चुनाव में भाजपा ने 182 में से 127 सीटों पर जीत हासिल की. इस जीत के साथ मोदी जी ने अपने सभी आलोचकों के मुंह बंद कर दिए.

PM Narendra Modi Biography in Hindi

प्रधानमंत्री पद के लिए तैयारी (PM Narendra Modi Election Campaign)

2014 के लोकसभा चुनाव में मोदी ने पूरे देश भर में 430 से ज्यादा रैलियां की. ये रैलियां देश के पच्चीस राज्यों में आयोजित की गयी थी. 2014 के चुनावों में मोदी प्रधानमंत्री पद के सबसे बड़े उम्मीदार थे. भाजपा की जीत पूरी तरह से नरेन्द्र मोदी पर ही निर्भर थी. क्योंकि उस चुनाव में मोदी जी को उस क्षेत्र से भी वोट मिले जहाँ पर से भाजपा को सांसद आने की उम्मीद नहीं थी. पूरे देश के सामने मोदी जी ने जो गुजरात मॉडल तैयार किया था. उसे देख कर हर कोई यही चाहता था की मोदी जी ही देश के प्रधानमंत्री बने. चुनावों की तैयारी के दौरान ही उन्होने एक कार्यक्रम चाय पे चर्चा के माध्यम से आम लोगों की समस्याएँ सुनी और उनके सवालों के जवाब भी दिए. मोदी जी ने कई राज्यों में तो 8 या 10 रैलियां ही की लेकिन इन राज्यों में भी भाजपा को बहुत से सांसद मिले और भाजपा ने 2014 के चुनाव में एक ऐतिहासिक जीत दर्ज की.

PM Narendra Modi Biography in Hindi

प्रधानमंत्री के रूप में कार्यकाल (Period as a Prime Minister of Narendra Modi)

26 मई 2014 को नरेन्द्र मोदी ने भारत के प्रधानमंत्री पद की शपथ ली. शपथ लेते समय मोदी जी ने कई बड़े वादे किये थे इन वादों में मुद्रास्फीति की दर कम करना, जी.डी.पी. का नवीनकरण और विदेश से काला धन लाना प्रमुख थे. मोदी जी के कार्यकाल के 100 दिन जैसे ही पूरे वैसे ही उन्होंने जनता से बात की और उन्हें देश की उपलब्धियां बताई. और जनता के लिए आने वाली योजनाओं के बारे में बताया. उन 100 दिनों के बाद मोदी जी के कई कामों की सराहना नहीं हुई क्योंकि 100 दिनों में ही देश की शकल नहीं बदली जाती. मोदी जी उस समय विपक्ष के निशाने पर थे. जैसे-जैसे मोदी जी का कार्यकाल बढ़ते जा रहा था वैसे-वैसे नरेन्द्र मोदी जी के आलोचक भी बढ़ रहे थे. लेकिन मोदी जी के द्वारा चलाई गयी कई स्कीम विपक्ष के नेताओं को भी पसंद आई कई बड़े विपक्षी नेताओं ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की तारीफ भी की है. इन स्कीमों में सबसे सफल स्वच्छ भारत अभियान रहा. स्वच्छ भारत अभियान चलाने के बाद देश में सफाई का स्तर फर्श से अर्श पर चला गया है. स्वच्छ भारत अभियान ने भारत की छवि विश्व भर में सुधार दी है.

PM Narendra Modi Biography in Hindi

प्रधानमंत्री नरेद्र मोदी द्वारा शुरू की गयी योजनाएं (PM Narendra Modi Schemes)

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अपने कार्यकाल के दौरान कई योजनाएं चलाई ये योजनायें निम्नानुसार हैं:-

प्रधानमंत्री जन-धन योजना, स्वच्छ भारत अभियान, प्रधानमंत्री उज्ज्वल योजना, प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना, फसल बीमा योजना, मुद्रा बैंक योजना, प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना, मेक इन इंडिया, गरीब कल्याण योजना, इ-बस्ता, सुकन्या सम्रद्धि योजना, पढ़े भारत-बढे भारत, ग्रामीण कौशल योजना, नई मंजील योजना, स्टैंडअप योजना, अटल पेंशन योजना, प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना, प्रधानमंत्री आवास योजना और डिजीटल इंडिया और आयुष्मान भारत योजना .

नरेन्द्र मोदी के सुविचार (PM Narendra Modi Quotes)

#1
हमारे पूर्वज सांपों के साथ खेलते थे,
और आज हम माउस के साथ खेलते हैं.

#2
मैं एक छोटा आदमी हॅूं,
जो छोटे लोगों के लिये कुछ बड़ा करना चाहता हॅूं.

#3
हम वादे नहीं,
इरादे लेकर आये हैं.

#4
एक गरीब परिवार का बेटा आज तुम्हारे
सामने खड़ा है, यही प्रजातंत्र की ताकत है.

#5
यदि मैं नगर निगम (Municipality)
का भी अध्यक्ष होता तो भी उतनी ही मेहनत से
काम करता जितना पी.एम होते हुए करता हॅूं.

#6
यदि 125 करोड़ लोग एक साथ काम करें
तो भारत 125 करोड़ कदम आगे बढ़ जायेगा.

#7
मैं एक ऐसा भारत बनाऊंगा,
जहाँ सारे अमेरीकन्‍स भारत को,
वीसा लेने लाइन में खड़े होगें.

#8
मुझे देश के लिए मरने का
मौका तो नहीं मिला पर देश की
सेवा करने का मौका ज़रूर मिला है.

#9
मैं आपसे वादा करता हॅूं की,
यदि आप 12 घंटे काम करोंगे,
तो मैं 13 घंटे काम करूंगा,
यदि आप 14 घंटे काम करोगे,
तो मैं 15 घंटे काम करूंगा!
क्योंकि मैं कोई प्रधान मंत्री नहीं,
बल्कि प्रधान सेवक हॅूं.

#10
माना कि अंधेरा घना है,
लेकिन दीया जलाना कहॉं माना है.

#11
राजनीति में कोई पूर्ण विराम नहीं होता.

#12
कड़ी मेहनत कभी थकान नहीं लाती , वह संतोष लाती है.

#13
केवल वो जो निरंतर चलते रहते हैं बदले में मीठा फल पाते हैं.
सूरज की अटलता को देखो- गतिशील और लगातार चलने वाला , कभी ठहरने वाला नहीं ….इसलिए बढ़ते रहो.

#14
मन कोई समस्या नहीं होती, समस्या तो आप की मानसिकता होती है.
मेरे लिए राजनीति महत्वाकांक्षा नहीं है, बल्कि एक मिशन है.

#15
हमारे देश की सेना बात नही करती रणक्षेत्र में अपना पराक्रम दिखाती है.

नरेन्द्र मोदी कविता (PM Narendra Modi Poems)

जिन क्षणों में मुझे तुम्हारे होने का अहसास हुआ है
मेरे दिमाग के शांत हिमालयी जंगल में
एक वन अग्नि धधक रही है
गंभीरता से उठती हुई
जब मैं अपनी आंखें तुम पर रखता हूं
मेरे मस्तिष्क की आंख में एक पूर्ण चंद्रमा उदय होता है
और मैं संपूर्ण पुष्पित चंदन के वृक्ष से झरती महक से भर जाता हूं
और तब जब आखिरी बार हम मिले थे
मेरे होने का पोर-पोर एक अतुलनीय महक से भर गया था
हमारे अलगाव ने
मेरे जीवन के आनंद के सभी शिखरों को पिघला दिया था
जो मेरे देह को झुलसाती है और
मेरे सपनों को राख में बदल देती है.

इसे भी पढ़े :

Leave a Comment