परेश रावल का जीवन परिचय | Paresh Rawal Biography in Hindi

परेश रावल की जीवनी, फ़िल्में, करियर, राजनीतिक जीवन और प्राप्त सम्मान | Paresh Rawal Biography, Films, Career, Political Life and Awards in Hindi

परेश रावल एक भारतीय फिल्म अभिनेता हैं. जिन्होंने मुख्य रूप से हिंदी, गुजराती, तेलुगु, अंग्रेजी और मराठी फिल्मों में काम किया हैं. वह 2014 की लोकसभा के सांसद भी रह चुके हैं. उन्होंने अपने करियर की शुरुआत वर्ष 1986 में आई फिल्म “अर्जुन” से की थी. वह अब तक सैकड़ों फिल्मों का हिस्सा रह चुके हैं और कई सारे सम्मान जैसे पद्मश्री, राष्ट्रीय फिल्म पुरुस्कार और फिल्मफेयर अवार्ड्स उनके नाम हैं.

बिंदु (Points)जानकारी (Information)
नाम (Name)परेश रावल
जन्म (Date of Birth)30 मई 1950
जन्म स्थान (Birth Place)मुंबई, महाराष्ट्र
पिता का नाम (Father Name)दह्यालाल रावल
माता का नाम (Mother Name)ज्ञात नहीं
शिक्षा (Education)सिविल इंजिनियर
पेशा (Profession)अभिनेता, पूर्व सांसद
पहली फिल्म (First Film)अर्जुन (1985)
पत्नी का नाम (Wife Name)स्वरूप सम्पत
बेटों के नाम (Son Name)आदित्य और अनिरुद्ध

परेश रावल का जन्म और प्रारंभिक जीवन (Paresh Rawal Birth and Early Life)

परेश रावल का जन्म 30 मई 1950 को मुंबई, भारत में हुआ है. वह एक गुजराती ब्राह्मण परिवार से ताल्लुक रखते हैं. परेशा बहुत छोटे थे जब उनके पिता दह्यालाल रावल मुंबई शिफ्ट हो गए. परेश ने अपनी पढाई मुंबई से ही पूरी की.

निजी जीवन और परिवार (Personal Life and Family)

परेश रावल एक प्रसिद्ध अभिनेता के रूप में जाने जाते है. उनके द्वारा कई फिल्मे की गई है. इनका विवाह अभिनेत्री और मिस इंडिया बनी स्वरूप सम्पत के साथ हुआ. इनके दो बच्चे आदित्य और अनिरुद्ध हैं. आदित्य रावल भी अपने पिता की तरह अभिनेता बनाना चाहते हैं और फिल्म “बमफाड़” के जरिये फिल्मों में अपना डेब्यू करने जा रहे हैं.

अपनी शिक्षा उन्होंने नरसी मोनजी कॉलेज ऑफ़ कॉमर्स एंड इकोनॉमिक्स से ली. परेश रावल बॉलीवुड इंडस्ट्री में सबसे बहुमुखी और शानदार अभिनेता है. इनकी रूचि क्रिकेट में बहुत है कई मैचो में इनको देखा गया है.

Paresh Rawal Biography Hindi
Paresh Rawal Family

परेश रावल का करियर (Paresh Rawal Career)

परेश रावल ने 1985 में अर्जुन की सहायक भूमिका में अपनी शुरुआत की. यह 1986 की ब्लॉकबस्टर फिल्म थी जिसने उन्हें महान अभिनेता के रूप में स्थापित किया. वह 1980 और 1990 के दशक में 100 से अधिक फिल्मों में दिखाई दिए, मुख्यतः खलनायक के रूप में, राजा अंकल, राम लखन, दाउद, बाजी और बहुत सारे किरदार निभाए. 1990 के दशक में, उन्होंने पंथ कॉमेडी अंदाज़ अपना अपना में भी अभिनय किया, जिसमें उन्होंने दोहरी भूमिका निभाई. परेश रावल को दर्शकों और आलोचकों दोनों द्वारा 2000 के बॉलीवुड पंथ क्लासिक हेरा फेरी तक एक चरित्र अभिनेता के रूप में माना जाता था.

जिसके बाद उन्होंने मुख्य अभिनेता या मुख्य नायक के रूप में कई हिंदी मुख्यधारा की फिल्मों में अभिनय किया. परेश ने फिल्म हेरा फेरी में मंदबुद्धि, उद्दाम और दयालु मराठी जमींदार बाबूराव गणपतराव आप्टे का किरदार निभाया. वह राजू (अक्षय कुमार) और श्याम (सुनील शेट्टी) को अपने घर में मेहमान के रूप में लेता है. फिल्म को मिली बड़ी राष्ट्रव्यापी सफलता का एक महत्वपूर्ण कारण उनका अभिनय था. अपने प्रदर्शन के लिए, उन्होंने सर्वश्रेष्ठ हास्य अभिनेता का फिल्मफेयर पुरस्कार जीता. उन्होंने फिल्म फिर हेरा फेरी (2006) की अगली कड़ी में बाबूराव के रूप में अपनी भूमिका दोहराई, जो सफल भी रही.

उन्होंने तेलुगु बॉक्स ऑफिस पर हिट फिल्मों में अपनी खलनायक की भूमिकाओं के लिए व्यापक पहचान प्राप्त की है जैसे कि कषाना कषम (1991), मनी (1993), मनी मनी (1995), गोविंदा गोविंदा (1994), रिक्शावोडु (1995), बावगारु बगुननारा (1998), शंकर दादा एम.बी.बी.एस. (2004), और टीन मार (2011). हिंदी सिनेमा में उनकी अन्य उल्लेखनीय कृतियाँ नाम (1986), शिवा (1990), मोहरा (1994), तमन्ना (1996) हैं, जिसमें उन्होंने ऐतराज़ (2004), टेबल नंबर 21 (2013) की एक बेहतरीन किरदार की भूमिका निभाई और जिला गाजियाबाद (2013) आदि में अभिनय किया.

Paresh Rawal Biography Hindi

फिर उन्होंने अंदाज़ अपना अपना (1994), चाची 420 (1997), हेरा फेरी (2000), नायक (2001), आंखें (2002), आवारा पागल दीवाना (2002), हंगामा (2003) जैसी हिट फिल्मों में काम किया। , हुचुल (2004), दीवाने हुई पागल (2005), गरम मसाला (2005), फिर हेरा फेरी (2006), गोलमाल: फन अनलिमिटेड (2006), भागम भाग (2006), भूल भुलैया (2007), वेलकम (2007) , ओए लकी! लकी ओए! (2001), आतिथि तुम कब जाओगे? (2010), ओएमजी – ओह माय गॉड! (2012), वेलकम बैक (2015), उरी और टाइगर ज़िंदा है (2017). उनकी नवीनतम फिल्म संजू वर्ष की सबसे प्रत्याशित फिल्म है जो संजय दत्त की बायोपिक है. जिसमे परेश रावल ने सुनील दत्त की भूमिका निभाई है.

राजनीतिक करियर (Paresh Rawal Political Career)

परेश रावल ने लोकसभा चुनाव 2014 में बीजेपी ज्वाइन कर ली. अहमदाबाद (पूर्व) निर्वाचन क्षेत्र से भारतीय जनता पार्टी के सांसद (सांसद) के रूप में जीते. जिसके बाद उन्हें 2019 में भी चुनाव लड़ने का न्योता मिला लेकिन उन्होंने लोकसभा 2019 का चुनाव लड़ने से मना कर दिया. जिसकी वजह उन्होंने राजनीति को पर्याप्त समय नहीं देना बताई.

रावल ने भले ही चुनाव लड़ने से मना कर दिया हो, लेकिन वह खुद को भारतीय जनता पार्टी का समर्थक बताते हैं.

परेश रावल को प्राप्त पुरस्कार (Paresh Rawal’s Awards)

मनोरंजन उद्योग में उनके योगदान के लिए 2014 में, उन्हें भारत सरकार द्वारा भारत के चौथे सबसे बड़े नागरिक पुरस्कार पद्म श्री से सम्मानित किया गया था.

राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार

1994: जीता: वो छोकरी और सर के लिए सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेता का राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार

फिल्मफेयर अवार्ड्स

  • 1993: जीता: सर के लिए फिल्मफेयर सर्वश्रेष्ठ खलनायक पुरस्कार
  • 1995: नामांकित: फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ खलनायक पुरस्कार
  • 1996: नामांकित: फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेता पुरस्कार- राजा
  • 2001: जीता: हेरा फेरी के लिए फिल्मफेयर सर्वश्रेष्ठ हास्य अभिनेता का पुरस्कार
  • 2003: जीता: आवारा पागल दीवाना के लिए फिल्मफेयर सर्वश्रेष्ठ हास्य अभिनेता का पुरस्कार

स्टार स्क्रीन अवार्ड्स

  • 1996: जीता: राजा के लिए स्टार स्क्रीन अवार्ड सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेता
  • 2001: जीता: हेरा फेरी के लिए सर्वश्रेष्ठ हास्य अभिनेता का स्टार स्क्रीन अवार्ड
  • 2003: जीता: आवारा पागल दीवाना के लिए सर्वश्रेष्ठ हास्य कलाकार के लिए स्टार स्क्रीन अवार्ड

IIFA अवार्ड्स

  • 2001: जीता: हेरा फेरी के लिए आईफा सर्वश्रेष्ठ हास्य अभिनेता का पुरस्कार

ज़ी सिने अवार्ड्स

  • 2001: हेरा फेरी के लिए कॉमिक रोल में सर्वश्रेष्ठ अभिनेता का ज़ी सिने अवार्ड
  • 2003: आवारा पागल दीवाना के लिए कॉमिक रोल में सर्वश्रेष्ठ अभिनेता के लिए जी सिने अवार्ड
  • 2010: नॉमिनेटेड-ज़ी सिने अवार्ड्स बेस्ट कॉमेडियन एट आतिथी तुम कब जाओगे
  • 2010: नामांकित-ज़ी सिने अवार्ड्स में सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री को आक्रोश के लिए एक नकारात्मक भूमिका

अप्सरा अवार्ड्स

  • 2012: नामांकित: रेडी फॉर कॉमिक रोल में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन के लिए अप्सरा अवार्ड
Loading...

इसे भी पढ़े :

Leave a Comment

Item added to cart.
0 items - 0.00