हरसिंगार (पारिजात) के फायदे | Harsingar (Parijat) Ke Fayde in Hindi

हरसिंगार या पारिजात के इस्तेमाल से सेहत को होने वाले फायदे | Harsingar (Parijat) Ke Fayde | Benefits of Night-Flowering Jasmine in Hindi

हरसिंगार जिसे नाइट जैस्मिन या पारिजात के नाम से भी जाना जाता है. यह कई लाभदायक गुणों से भरा हुआ है. यह एक छोटा पेड़ या एक झाड़ी है जो करीब 33 फीट लंबा होता है. इसके फूल बहुत लुभावने दिखते हैं, जिसमें एक नारंगी-लाल केंद्र होता है.यह फूल पश्चिम बंगाल, भारत और थाईलैंड में ज्यादा पाया जाता है.

हरसिंगार भारत के प्रसिद्ध फूलो में से एक है, जो दशकों से कई स्वास्थ्य समस्याओं के इलाज करने में मदद करता है. आयुर्वेद में यह एक जड़ी बूटी के रूप में काम करता है. इस फूल की एक अद्भुत खुशबू होती है जो आध्यात्मिक गतिविधियों में उपयोग की जाती है. इसके अलावा पारिजात कई बीमारियों के इलाज में सहायता करता है, जिनमें शामिल हैं.

हरसिंगार के फायदे (Harsingar ke Fayde)

1. दर्द और सूजन को कम करने में

 कई समस्या जैसे गठिया, तनाव, मांसपेशियों में तनाव, दर्द, जलन और सूजन में हरसिंगार लाभकारी होता है.इसके साथ यह सिरदर्द दूर करने में भी मदद करता है. इसके लिए दो मिलीलीटर नारियल तेल और पारिजात की चार से पांच बूंदों को एक साथ मिलाए और इसे गर्म करें. अब इस तेल का इस्तेमाल सूजन पर धीरे धीरे करे. 

2. घाव ठीक करने में

इसके इस्तेमाल घाव ठीक करने में भी किया जाता है. इसके लिए आप हरसिंगार के आवश्यक तेल की दो बूंदों को एक मिलीलीटर नारियल के तेल के साथ मिलाएँ और फिर इसे किसी भी खुले घाव या चोट पर लगाए. यह घावों को सेप्टिक बनाता है.

इसके अलावा इस मिश्रण का उपयोग त्वचा के मुद्दों जैसे पिंपल्स, ब्लैकहेड्स, चकत्ते और त्वचा की एलर्जी को भी दूर करने के लिए भी किया जा सकता है.

3. मलेरिया को ठीक करने में-

हरसिंगार मलेरिया का कारण बनने वाले परजीवियों को हटाने में मदद करता है.इसके पत्तो का इस्तेमाल करने से बुखार बार-बार नहीं आता है.

4. चिकनगुनिया और डेंगू ठीक करने में

जब एक व्यक्ति चिकनगुनिया और डेंगू रोगों से पीड़ित होता है, तो उसके प्लेटलेट्स गिर जाते है. ऐसी स्थिति में प्लेटलेट्स बढ़ाने के लिए दवा की जरूरत पड़ती है परन्तु यदि हम हरसिंगार के पत्तो का इस्तेमाल करेंगे तो यह इन बीमारियों को ठीक करने में ज़रुर मदद करेगा.

उपचार के लाभ हैं

5. जूँ, गंजापन, रूसी को ठीक करने में –

हरसिंगार का इस्तमाल बालो की कई समस्या को दूर करने में भी किया है. यदि आप इसके पत्तो को पानी में उबालकर इस पानी से अपने बालो को धोते है तो इससे आपके बाल मजबूत, काले और चमकदार होते है, इसके अलावा यह रुसी ठीक करने में भी मदद करता है.

6. पुराना बुखार दूर करने में

यह कई पुराने से पुराने बुखार को भगाने में मदद करता है. इसके लिए आपको 7-8 हरसिंगार के कोमल पत्तों के रस में 5 से 10 मि.ली. अदरक का रस व शहद मिलाकर सुबह और शाम दोनों वक़्त लेना है, यह उपाय सिर्फ 3 दिनों में बुखार को दूर कर देगा.

7. जलन व सूखी खाँसी भगाने में

 इसके पत्तों के रस में मिश्री मिला के पिलाने जलन जैसी समस्या दूर होती है और इसी रस में शहद मिलाकर पीने से सूखी खाँसी भी दूर होती है.

8. गैस को रोकने में

शरीर में अतिरिक्त गैस आपके स्वास्थ्य के लिए अच्छा नहीं होती है क्योंकि इससे फिर चक्कर आने लगते है और पेट भी दर्द होता है. इसलिए शरीर में गैस की मात्रा कम करने के लिए आप इसका उपयोग कर सकते है.

9. दाद के लिए

आपको यदि दाद जैसी समस्या है तो उसके लिए हरसिंगार के पत्तों का इस्तेमाल करे. इसके लिए इन पत्तों का पेस्ट बना ले और जहाँ आपको दाद की समस्या है इस पेस्ट को लगाए इससे आपका दाद ठीक होने लगेगा.

इन प्रमुख स्वास्थ्य लाभ के अलावा हरसिंगार शरीर को रोगों के खिलाफ प्रतिरोधी बनाने, जिगर को प्रभावित करने वाली बीमारियों को रोकने में, मन को अपने शामक प्रभाव से शांत करने, कब्ज, अस्थमा, अपच का इलाज का इलाज करने में भी सहायक होता है. नाइट चमेली एक शक्तिशाली जीवाणुरोधी और एंटीवायरल जड़ी बूटी है.

एंटी-बैक्टीरियल और एंटीवायरल गुणों की बात होने पर डॉक्टर भी इस जड़ी-बूटी की राय हैं. यह विभिन्न प्रकार के रोगों को दूर करता है.यह न केवल बैक्टीरिया के खिलाफ लड़ता है, बल्कि यह सेमलिकी फॉरेस्ट वायरस और कार्डियोवायरस के खिलाफ लड़ने में भी मदद करता है.

Loading...

इसे भी पढ़े :

Leave a Comment