लीवर स्वस्थ और साफ़ रखने के उपाय | Remedies to keep liver healthy in Hindi

लीवर को स्वस्थ और साफ़ रखने के लिए सर्वोतम 5 औषधीय और आयुर्वेदिक उपाय | 5 Medicinal and Ayurvedic Ways to Keep Liver Healthy in Hindi

लीवर (यक्रित) एक महत्वपूर्ण अंग है. यह रस धातु को रक्ता धतू (रक्त) में परिवर्तित करता है. यह पित्त (रंजक पित्त) भी पैदा करता है और रक्त से अमा को खत्म करने वाले तत्वों का सफाया करता है. गलत आहार और जीवन शैली लीवर के ऊतकों को नुकसान पहुंचाती है और पीलिया, फैटी लीवर और हेपेटाइटिस जैसी बीमारियों की ओर ले जाती है. अपने लीवर को स्वस्थ रखने के लिए अपने जीवन में इन पांच सरल आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों को शामिल करें.

कुटकी

यह स्वाद में कडवी जड़ी बूटी और प्रकृति में ठंडी है और लीवर और पित्ताशय की थैली की सफाई पर प्रभाव पड़ता है. आयुर्वेद में कुटकी भूख में सुधार और पीलिया या पित्त विकारों के इलाज के लिए निर्धारित है. जड़ी बूटी त्वचा विकारों में और चयापचय में सुधार करने में फायदेमंद है.

हल्दी

यह जड़ी बूटी यकृत कार्यों का समर्थन करती है और रक्त को साफ करती है. यह रस को रक्त में बदलने की प्रक्रिया में भी मदद करती है. यह शरीर से विषाक्त पदार्थों के उन्मूलन को भी बढ़ावा देता है. ज्यादातर मामलों में आपको किसी अतिरिक्त हल्दी को लेने की आवश्यकता नहीं है यदि आप पहले से ही इसे अपने भोजन में उपयोग करते हैं.

गुडूची

गुडूची अपने डिटॉक्सीफाइंग और रक्त शोधन गुणों के लिए जानी जाती है. लीवर की समस्याओं के लिए तैयार आयुर्वेदिक हर्बल दवाओं में गुडूची होती है. जड़ी-बूटी ने कमला (पीलिया), हेपेटाइटिस और फैटी लिवर के उपचार में भी लाभदायक है. आयुर्वेदिक चिकित्सक के मार्गदर्शन में गुडूची का सेवन करना चाहिए.

त्रिफला

आंवला, बिभीतकी और हर्ताकी का मिश्रण चयापचय और आंत्र आंदोलनों को नियमित करने में मदद करता है. यह शरीर को ठंडा करता है और शरीर के सभी त्रिदोषों को संतुलित करता है. त्रिफला चूर्ण रोज रात को सोने से पहले किसी के भी द्वारा लिया जा सकता है.

एलोवेरा

एलोवेरा का जूस लिवर (हेपेटॉक्सिसिटी) से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालता है और अच्छे मल त्याग को बढ़ावा देता है. पाचन तंत्र को सुखदायक करने के अलावा, एलोवेरा तनाव से भी लड़ता है और प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करता है.

इसे भी पढ़े :

Loading...

Leave a Comment