कोरोना वायरस (कोविड-19) पर निबंध | Essay on Corona Virus (Covid-19) in Hindi

Essay on Covid-19 | Essay on Corona Virus Striking Mankind | Hindi Essay on Corona Virus & Epidemic | What is Coronavirus, It’s Symptoms and Protection in Hindi

प्रस्तावना | Introduction

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने कोरोना वायरस को महामारी घोषित कर दिया है. कोरोना वायरस बहुत सूक्ष्म लेकिन प्रभावी वायरस है. कोरोना वायरस का स्वरूप मानव के बाल की तुलना में 900 गुना छोटा है, लेकिन कोरोना का संक्रमण विश्वभर में बड़ी तेजी से फ़ैल रहा है. इसके संक्रमण से बुखार, जुकाम, सांस लेने में तकलीफ, नाक बहना और गले में खराश जैसी समस्याएं होती हैं. यह वायरस एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति के संपर्क में आने से फैलता है. इसलिए इसे लेकर बहुत सावधानी बरती जा रही है.

कोरोना वायरस क्या है ? | What is Coronavirus in Hindi?

कोरोना वायरस का संबंध वायरस के ऐसे परिवार से है जिसके संक्रमण से जुकाम, बुखार और सांस लेने में तकलीफ जैसी समस्या हो सकती है. इस वायरस को पहले कभी नहीं देखा गया है. इस वायरस का संक्रमण दिसंबर में चीन के वुहान में शुरू हुआ था. WHO के मुता बिक बुखार, खांसी, सांस लेने में तकलीफ इसके लक्षण हैं. अब तक इस वायरस के इलाज के लिए कोई टीका नहीं बना है. 11 मार्च को वर्ल्ड हेल्थ आर्गेनाइजेशन [World Health Organization (WHO)] ने कोरोना वायरस को एक भयानक महामारी घोषित कर दिया. पुरे दुनिया के वैज्ञानिक कोरोना वायरस से निपटने के लिए वैक्सीन की खोज में जुट गए है लेकिन कोई ख़ास सफलता हाथ नहीं लगी लेकिन खोज अभी जारी है.

कुछ अस्पताल डॉक्टरों से सलाह लेकर व सुरक्षा का ध्यान रखकर एंटीबायोटिक्स दवा का भी परीक्षण कर रहे हैं. लेकिन एंटीबायोटिक्स से कोरोना वायरस का इलाज नही किया जा सकता. मरीज़ के माइल्ड सिम्पटम्स हो तो 2 हफ्ते में ठीक हो सकता है. अगर सिम्पटम्स गंभीर हैं यानी बहुत ज़्यादा सांस लेने में तकलीफ होना इसमें मरीज़ को वेंटीलेटर की ज़रूरत होती है. ऐसे मरीज़ को 6 हफ्ते लग सकते है.

Corona Virus (Covid-19) के लिए अभी तक कोई वैक्सीन नहीं बनी कोरोना वायरस के इलाज के लिए फ्लुइड्स दिए जाते है ताकि मरीज़ को डिहाइड्रेशन न हो जाए. बुखार को काम करने के लिए दवाई दी जाती है. क्लोरोक्विन एक ऐसी दवा है जो मलेरिया में काम आती है अब यह कोरोना वायरस से लड़ने में भारी मात्रा में काम आ रही है. दक्षिण कोरिया में हाल ही  में HIV के इलाज़ में प्रयोग होने वाले दवाई से 54 वर्ष के एक मरीज़ के ठीक होने की खबर मिली है.

कोरोना से मिलते-जुलते वायरस खासनें और छींकने के ज़रिए फैलते हैं. 180  देशों में फैल चुके कोरोना वायरस ‘कोविड 19’ का प्रकोप थमने का नाम नहीं ले रहा है. कोरोना वायरस के बढ़ते ख़तरे को देखते हुए सावधानी बरतने की ज़रूरत है ताकि इसे और अधिक फैलने से रोका जा सके.

Essay on Corona Virus (Covid-19) in Hindi (4)
Essay on Corona Virus (Covid-19) in Hindi

कोरोना की उतपत्ति कहाँ से हुई ? | Where Did Corona Originate in Hindi ?

कोरोना की उत्पत्ति सर्वप्रथम 1930 में एक मुर्गी में हुई थी और इसने मुर्गी के स्वसन प्रणाली को प्रभावित किया था. आगे चलकर 1940 में यह वायरस कई अन्य जानवरों में भी पाया गया. इसके बाद सन् 1960 में कोरोना वायरस एक व्यक्ति में पाया गया जिसे सर्दी की शिकायत थी. इन सब के बाद वर्ष 2019 में इसका विकराल रूप चीन में देखा गया जो अब पूरे विश्व में फ़ैल चूका है.

कोरोना वायरस कहाँ से आया है ? | Where Did the Corona Virus Come From ?

समाचार की पुष्टि से यह वायरस चीन के वुहान शहर से फैला. कहा जाता है, चीन के वुहान शहर के समुद्री – खाद्य बाज़ार यानी पशु मार्किट से निकलकर चीन के कई राज्यों में फैला और देखते ही देखते इसने लाखो लोगों की ज़िन्दगी से खेलना शुरू कर दिया. इस वायरस ने 180 देशों को अपनी चपेट में ले लिया है. दिसंबर (2019) में चीन ने पहले 61 वर्षीय आदमी के मौत की जानकारी दी थी.

इस वायरस ने अब तक 3 लाख से ज़्यादा लोगों की जान ली है. 7 जनवरी को चीन ने वर्ल्ड हेल्थ आर्गेनाइजेशन [World Health Organization (WHO)] को एक नए वायरस Coronavirus (COVID-19) के बारे में जानकारी दी थी.

कोरोना की भयावह स्थिति क्या है ? | What is The Dreaded Condition of Corona in Hindi ?

कोरोना से अब तक पूरे विश्व में लाखों लोग प्रभावित हो चुके हैं और लाखो जानें भी जा चुकी हैं. दुनिया के 180 देश इसके चपेट में बुरी तरह आ चुके हैं और वहां रोजाना कई जानें जा रही हैं. कोरोना ने पूरे विश्व के अर्थव्यस्था को झकझोर कर रख दिया है और भारत भी इस वायरस की चपेट में आ चुका हैं. पूरे विश्व में इस विनाशकारी महामारी ने तबाही मचा रखी है. अफ़सोस की बात तो यह है की इतने उन्नति के बावजूद, अब तक इसकी कोई दवा नहीं मिल पायी है. यह पाया गया है की जिसकी रोग प्रतिरोधक क्षमता अच्छी होती है, वो कोरोना को आसानी से हरा सकता है. इस लिये अपने खान पान पर विशेष ध्यान दें. इसके अलावा भी कुछ और बचाव हैं, जिनका पालन सबको करना चाहिए.

क्या हैं कोरोना वायरस के लक्षण ? | What are The Symptoms of Corona Virus in Hindi ?

  • बुखार
  • गले में खराश
  • सर्दी और खासी
  • शारीर में थकान
  • मांसपेशियों में जकड़न
  • सांस लेने में दिक्कत (सबसे प्रमुख)

कोविड-19 / कोरोना वायरस में पहले बुख़ार होता है. इसके बाद सूखी खांसी होती है और फिर अंत में यह फेफड़ों को कमजोर कर देता है जिससे मरीज़ को सांस लेने में मुश्किल होती है. यह शरीर के दूसरे अंगों को नाकाम कर देता है जिससे मरीज़ की मौत हो जाती है.

इन लक्षणों का हमेशा मतलब यह नहीं है कि आपको कोरोना वायरस का संक्रमण है. कोरोना वायरस के गंभीर मामलों में मौत भी हो सकती है. बुजुर्ग या जिन लोगों को पहले से अस्थमा, मधुमेह या दिल से जुडी कोई बीमारी है उनके मामले में ख़तरा अधिक गंभीर हो सकता है. फ्लू आदि वायरस में भी इसी तरह के लक्षण पाए जाते हैं.

Essay on Corona Virus (Covid-19) in Hindi (2)
Essay on Corona Virus (Covid-19) in Hindi

क्या कोरोनावायरस से मृत्यु निश्चित होती है ? | Does Coronavirus Cause Death in Hindi ?

नहीं, जरूरी नहीं की आपको यदि कोरोना है तो अब बचने की कोई उम्मीद नहीं है. जितनी जल्दी आपको यह ज्ञात होता है की आप इस वायरस से ग्रसित है उतना ही अधिक लाभदायक होगा. अपने नजदीकी अस्पताल जरुर जाएँ, क्योंकी इसका उपचार घर पर मुमकिन नहीं है और बाकी परिवार वाले भी संक्रमित हो सकते हैं. जितने केस आ रहे हैं उनमे से कई पूरी तरह ठीक भी हो चुके हैं. सबसे अहम् बात यह है की अपने खान-पान पर ध्यान दें और अपनी रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत करें, इससे बचने का यही मात्र उपाय है. इसके साथ ही जो बचाव के उपाय बताये गए हैं इनका सख्ती से पालन करें.

यदि कोरोना वायरस का संक्रमण हो जाए तब क्या कर्रे ? | What To Do If The Corona Virus Infection Occurs?

इस समय कोरोना वायरस का कोई इलाज नहीं है लेकिन इसमें बीमारी के लक्षण को कम करने की दवाइयाँ दी जा सकती हैं. कोरोना से बचाव करने में ही समझदारी है, क्यों की यह एक संक्रामक रोग है जो बहुत ही तेजी से एक दूसरे में फैलता है. यह देखा गया है की जिसकी रोग प्रतिरोधक क्षमता अच्छी होती है, वो कोरोना को आसानी से हरा सकता है. इस लिये अपने खान पान पर विशेष ध्यान दें. इसके अलावा और भी कुछ बचाव हैं, जिनका पालन सबको करना चाहिए.

  • एक कोरोना संक्रमित व्यक्ति अपने आस-पास के सभी लोगो को संक्रमित कर सकता है.
  • कोरोना वायरस मनुष्य के शरीर में बिना कोई लक्षण दिखाए 14 दिनों तक एक्टिव रह सकता है.
  • जब तक आप ठीक न हो जाएं, तब तक आप दूसरों से अलग रहें. इसे ही (Quarantine) कहते है.
  • कोरोना वायरस के इलाज़ के लिए पुरे विश्व भर में वैक्सीन विकसित करने पर काम चल रहा है.
  • कुछ अस्पताल डॉक्टरों से सलाह लेकर व सुरक्षा का ध्यान रखकर एंटीबायोटिक्स दवा का भी परीक्षण कर रहे हैं.

कोरोना वायरस से बचाव के उपाय क्या हैं ? | What are The Measures To Prevent Corona Virus in Hindi ?

कोरोना एक जानलेवा बीमारी है, जो कभी भी और किसी को भी हो सकता है, स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय ने कोरोना वायरस से बचने के लिए दिशा-निर्देश जारी किए हैं.

  • हाथों को साबुन से कम से कम 20 सेकंड तक धोना चाहिए.
  • अल्‍कोहल आधारित हैंड रब/सैनिटाइजर का इस्‍तेमाल करना चाहिए.
  • खांसते और छीकते समय नाक और मुंह को रूमाल या टिश्‍यू पेपर से ढकना चाहिए.
  • जिन व्‍यक्तियों में कोल्‍ड और फ्लू के लक्षण हों, उनसे 1 मीटर की दूरी बनाकर रखना चाहिए.

कोरोना वायरस से बचाव में कौन से मास्क पहने ? | Which Masks to Wear To Protect Against Corona Virus in Hindi ?

अगर आप स्वस्थ हैं तो आपको मास्क की जरूरत बिलकुल नहीं है. कोरोना के मामले दिन प्रति दिन पूरी दुनिया में बढ़ते जा रहे हैं.

अगर आप किसी कोरोना वायरस से संक्रमित व्यक्ति की देखभाल कर रहे हैं, तो आपको मास्क अवश्य पहनना होगा.

जिन लोगों में बुखार, खासी या सांस में तकलीफ के लक्षण है, उन्हें हमेशा मास्क पहनना चाहिए और तुरंत डॉक्टर से परामर्श लेना चाहिए.

Essay on Corona Virus (Covid-19) in Hindi (3)
Essay on Corona Virus (Covid-19) in Hindi

मास्क पहनने का सही तरीका क्या है ? | What is The Correct Way To Wear A Mask in Hindi ?

  • हर रोज मास्क को बदलना चाहिए.
  • मास्क पर बार-बार हाथ नहीं लगाना चाहिए.
  • अगर हाथ लग जाए तो तुरंत हाथ धोना चाहिए.
  • मास्क को ऐसे पहनना चाहिए कि आपकी नाक व मुंह का हिस्सा उससे पूरी तरह से ढंका रहे.
  • मास्क उतारते वक्त भी मास्क को पीछे की और से ही निकालना चाहिए, मास्क को छूना नही चाहिए.

कोरोना के खतरे को किस प्रकार से कम किया जा सकता है ? | How Can The Risk of Corona Be Reduced in Hindi ?

कोरोना एक प्राण घातक रोग है और इससे बचाव ही इसकी दवा है, यह एक ऐसी बीमारी है जो सीधे तौर पर आपके स्वशन तंत्र को प्रभावित करती है.

  • अपने हाथों को अच्छी तरह से बार-बार धोना चाहिए.
  • बच्चों में भी बार-बार हाथ धोने की आदत डालना चाहिए.
  • खांसते या छींकते समय अपना मुंह को ढंक लेना चाहिए.
  • बार बार हाथों से आंखों, नाक और मुंह को नही छूना चाहिए.
  • हमेशा घर से बाहर निकलते वक़्त मुँह पर मास्क पहनकर निकले.
  • भारत हर संभव कोशिश कर रहा है ताकि इस महामारी से छुटकारा मिल जाए.
  • सामाजिक दुरी (Social Distance) इस समय सभी देशो को एक बेहतर उपाए लग रहा है.
  • इस समय संकट की घड़ी में सभी देशों ने लोकडाउन (LockDown) करने का एलान किया है जो बिलकुल सही है.
  • इस बीमारी को दुनिया से ख़तम करने की जंग में एक बहुमूल्य योगदान अपना भी दे.

कोरोना वायरस के संक्रमण को फैलने से कैसे रोकें ? | How To Prevent The Spread Of Corona Virus Infection in Hindi ?

संक्रमण की स्थिति में खुद को दूसरों से अलग कर लें और नजदीकी अस्पताल में सूचित करें.

  • जरूरी न हो तो बाहर न जाये.
  • सार्वजनिक वाहनों से यात्रा न करें.
  • सार्वजनिक स्थानों पर जाने से बचें.
  • घर में ज्यादा बाहरी लोगो को न बुलाएं.
  • घर का सामान आदि किसी बाहरी व्यक्ति से न मंगाएं.
  • आस पास के सभी सदस्यों से नियमित दुरी बनाकर रखें.
  • ऑफ़िस, स्कूल व सार्वजनिक स्थानों पर बिलकुल न जाएं.
  • अगर आप ज्यादा लोगों के साथ रह रहे हैं, तो ज़्यादा सतर्क रहें.
  • 14 दिनों तक लगातार ऐसा करें ताकि संक्रमण का ख़तरा कम हो सके.

यदि आप विदेश या संक्रमित इलाक़े से आए हैं या किसी संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में रहे हैं तो आपको अकेले रहने की सलाह दी जाती है. अत: घर पर रहें.

क्या कोरोना वायरस सार्स (SARS) वायरस का ही एक रूप है? | Is Corona Virus a Form of SARS Virus in Hindi ?

लगभग 18 साल पहले सार्स (SARS) वायरस से भी ऐसा ही खतरा बना था. 2002-03 में सार्स (SARS) की वजह से पुरे विश्वभर में 700 से ज्यादा लोगों की मौत हुई थी. पूरी दुनिया में हजारों की संख्या में लोग इससे संक्रमित हुए थे. इसका असर आर्थिक गतिविधियों पर भी पड़ा था.

Essay on Corona Virus (Covid-19) in Hindi (1)
Essay on Corona Virus (Covid-19) in Hindi

उपसंहार | Conclusion

विश्व स्वास्थ्य संगठन [World Health Organization (WHO)], पब्लिक हेल्थ इंग्लैंड [Public Health England (PHE)] और नेशनल हेल्थ सर्विस [National Health Service (NHS)] से प्राप्त दिशा-निर्देश के आधार पर हम आपको कोरोना वायरस से बचाव के तरीके बता रहे हैं. कोरोना जैसे वायरस शरीर के बाहर अत्यधिक लम्बे समय तक ज़िंदा नहीं रह सकते. कोरोना वायरस को लेकर लोगों में एक अलग ही डर देखने को मिल रहा है. मेडिकल स्टोर्स में मास्क और सैनेटाइजर की कमी हो गई है, क्योंकि लोग तेजी से इन्हें खरीदने के लिए दौड़ रहे हैं.

एयरपोर्ट पर यात्रियों की स्क्रीनिंग व लैब में लोगों की जांच आदि सरकार ने कोरोना वायरस से निपटने की कई तरह की तैयारी की है. इसके अलावा किसी भी तरह की अफवाह बचें, आपकी व आपके परिवारजनों की सुरक्षा के लिए कुछ निर्देश जारी किए हैं जिससे कोरोना वायरस के प्रभाव को कुछ हद तक कम किया जा सकता है. कोरोना वायरस ने पुरे विश्व के शक्तिशाली देशों को घुटनो पर लाकर रख दिया है. सारे देश मिलकर कोरोना वायरस से मुक्ति पाने में जुटे है और डॉक्टर्स, नर्सेज एकजुट होकर लड़ रहे है. उनकी जितनी भी सराहना की जाए कम है. प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने कोरोना वायरस से लड़ने के लिए कठोर कदम उठाये है जो हमारे देश की भलाई के लिए है और हम सभी को एक भारतीय होने के नाते इस कठोर समय में उनका सहयोग करना चाहिए. ताकि हमारा भारत देश रोगमुक्त हो सके. कोरोना वायरस के खिलाफ यह लड़ाई तब तक जारी रहेगी जब तक हम इस वायरस को जड़ से ख़त्म न कर दें. इस लिये बताइ गई सावधानी अवश्य बरतें और सतर्क रहें.

Essay on Corona Virus (Covid-19) in Hindi

कोरोना वायरस पर ये लेख हमारी दिल से देशी टीम के गहन शौध पर आधारित है यदि आपको इससे सम्बंधित कोई भी सवाल या आपके पास कोई अन्य जानकारी हो जो महवपूर्ण हो, कृपया उसे कमेंट बॉक्स में हमारे साथ जरुर साँझा करे.

Loading...

Leave a Comment