पल्लवन किसे कहते हैं? परिभाषा, इसके नियम और उदाहरण

पल्लवन किसे कहते हैं? अर्थ, परिभाषा, इसके नियम, उदाहरण सहित |
Pallavan Meaning, Definition, Rules and Example in Hindi

पल्लवन का अर्थ, परिभाषा | Pallavan Meaning, Definition in hindi

पल्लवन शब्द का शाब्दिक अर्थ है - विस्तार.  अर्थात कोई दिया हुआ निर्धारित विषय जैसे की लोकोक्ति, उक्ति, सूक्ति, वाक्य, कहावत आदि के भावों को समझना व विस्तार देना ‘पल्लवन’ कहलाता है. 

इसमें किसी विषय को विस्तारपूर्वक बताया जाता है ताकि उस सूत्र-वाक्य में छिपे हुए गहरे भाव को सरलता से सामने प्रस्तुत किया जा सके. ‘पल्लवन’ संक्षेपण का विपरीतार्थक शब्द है.  संत, महात्मा, विद्वान आदि संक्षिप्त और प्रतीक संबंधी शब्दों का प्रयोग करते हुए ऐसी जटिल बात कह देते हैं जो उनके लिए तो सरल होती है पर सामान्य व्यक्ति के लिए इसके भावों को समझने में कठिनाई होती है. अर्थात इसलिए ऐसे वाक्यों को पल्लवन की सहायता से स्पष्ट किया जाता है.

पल्लवन के कुछ नियम | Rules For Pallavan

  • पल्लवन के लिए मूल अवतरण के उक्ति, वाक्य, सूक्ति, लोकोक्ति तथा कहावत को ध्यानपूर्वक पढ़े ताकि मूल के सम्पूर्ण भाव अच्छी तरह समझ में आ जाए.
  • मूल विचार अथवा भाव के नीचे दबे अन्य विचारों को समझने का प्रयत्न करें.
  • प्रधान और अप्रधान विचारों को समझ लेने के बाद एक-एक कर सभी स्थापित विचारों को एक-एक अनुच्छेद में लिखना आरंभ कीजिए ताकि कोई भी भाव तथा विचार छूटने न पाए.
  • अर्थ तथा विचार का विस्तार करते समय उसकी दृढ़ता में जहाँ-तहाँ ऊपर से कुछ उदाहरण और वास्तविक घटना भी दिये जा सकते हैं.
  • पल्लवन के लेखन में प्रसंग के विरुद्ध बातों का अनावश्यक विस्तार या वर्णन बिलकुल भी नहीं होना चाहिए.
  • पल्लवन में लेखक को प्रधान और अप्रधान भाव या विचार की टीका – टिप्पणी और विवेचना नहीं करनी चाहिए. इसमें मूल लेखक के मनोभावों का ही विस्तार और तत्वसंधान होना चाहिए.
  • भाव और भाषा की प्रकाशन में पूरी सरलता, मौलिकता और स्पष्टता होनी चाहिए एवं वाक्य छोटे-छोटे और भाषा अत्यन्त सरल होनी चाहिए.
  • पल्लवन(Pallavan) की रचना हर परिस्थिति में अन्यपुरुष में होना चाहिए.
  • पल्लवन व्यास शैली की होनी चाहिए ना की समास शैली में. अर्थात इसमें बातों को विस्तार से लिखने का अभ्यास किया जाना चाहिए.

शैली किसे कहते हैं ?

विचारों तथा भावों का उचित संग्रह कर उस विषय की अभिव्यक्ति को सुंदर एवं प्रभावपूर्ण प्रस्तुत करना ही शैली कहलाता है. 
  • व्यास शैली – व्यास शैली में पहले भाव को विस्तार से लिखा जाता है तथा अंत में उसको सूत्र रूप में संग्रह कर दिया जाता है. सरल भाषा में कहे तो किसी प्रशिक्षक के भांति विस्तारपूर्वक बात समझाई जाती है और पाठक के सामने प्रस्तुत किया जाता है.
  • समास शैली– यह शैली में सहज, कठिन, दुरूह, संधि व समास पदों से सम्मिलित भाषा का प्रयोग किया जाता है. मिश्र वाक्यों से युक्त जटिल भाषा में पहले महत्त्वपूर्ण व सूत्र रूप में बात कहकर उसका विस्तार किया जाता है.

पल्लवन के कुछ उदाहरण | Pallavan Example

  1. मूल कथन – “दय नहीं वह पत्थर है, जिसमें स्वदेश का प्यार नहीं.”

पल्लवन – हर एक व्यक्ति अपनी जन्मभूमि और अपने देश से उसी प्रकार स्नेह रखता है जिस प्रकार वह माता – पिता के प्रति श्रद्धा तथा स्नेह रखता है. हर एक व्यक्ति के हृदय में अपने देश के प्रति अपनापन की भावना रहती है. इसे ही देशप्रेम या देशभक्ति कहा जाता है. जो व्यक्ति अपने देश से प्रेम नहीं करता है वह पत्थर दिल का होता है क्योंकि उसमें अपनेपन की भावना का कमी रहता है. 

2. मूल कथन – “कर्ता से बढ़कर कर्म का स्मारक दूसरा नहीं.”

पल्लवन – किसी कर्म का सबसे बड़ा स्मारक उस काम या कर्म को करने वाला अर्थात कर्ता होता है. जब हम किसी काम की प्रशंसा करते हैं तो हमारी नज़र उस कार्य को करने वाले की ओर जाती है. जब हमें उसी प्रकार के कार्य करने का अच्छा अवसर मिलता होता है तो पथप्रदर्शन के लिए उसके कर्ता की ओर ध्यान चला जाता है अर्थात वह कर्ता हमारा आदर्श बन जाता है. कर्मों द्वारा ही समाज में कर्ता की स्थिति बहुत मजबूत और प्रभावित बनती है. अतः इसलिए कर्म का स्मारक कर्ता के सिवाय कोई दूसरा नहीं हो सकता है.

3. मूल कथन – “नर और नारी जनमते और मरते हैं, परन्तु राष्ट्र सदा अमर रहता है.”

पल्लवन – संसार में अगणित नर तथा नारियों का जन्म प्रत्येक क्षण होता रहता है और हर क्षण मृत्यु भी होती है. मनुष्य के साथ जीना – मरना सदा लगा रहता है. यह निश्चित है की जन्म होता है तो मृत्यु भी होगी. परंतु राष्ट्र हमेशा अमर है इसकी आत्मा भी. राष्ट्र मनुष्य की तरह जीता या मरता नहीं है. व्यक्तियों के मरने से राष्ट्र नहीं मरता. जब तक राष्ट्र की अंतरंग एकता बहुत मजबूत रहती है उसपर कोई भी बाहरी शक्ति उँगली उठाने की हिम्मत नहीं कर सकता उसका अमरत्व बना रहता है. अतः नर-नारी के जनम – मरण पर भी राष्ट्र अमर है बल्कि राष्ट्र की जो संस्कृति और राष्ट्रीयता है वह सारे राष्ट्र के नागरिकों के धर्म परिवर्तन तक कर लेने पर वही रहती है बदलती नहीं.

इसे भी पढ़े :

Leave a Comment