हिंदू महाकाव्यों में 10 सबसे शक्तिशाली हथियार | 10 Powerful Weapons in Hindu Mythology

प्राचीन हिंदू कहानियों में 10 सबसे महत्वपूर्ण अस्त्र जी जानकारी | Most Powerful Weapons (Astra) according to Hindu Mythology in Hindi

हिंदू धर्म की कहानी अच्छे और बुरे, देवता और असुरों के बीच युद्ध और युद्ध से भरी हुई है. विभिन्न रूपों में भगवान कैसे बुराई पर अच्छाई की विजय के लिए युद्ध करते हैं. विभिन्न कहानियों में विभिन्न प्रकार के शक्तिशाली हथियारों का उपयोग किया जाता है. अकेले महाभारत महाकाव्य में 1000 से अधिक प्रकार के हथियार उपयोग में लाये गए थे. 

हिंदू महाकाव्यों में 10 सबसे शक्तिशाली हथियार (10 Powerful Weapons in Hindu Mythology)

1. त्रिशूल

त्रिशुल एक तीन भुजा वाला हथियार है जिसे स्वयं भगवान शिव ने चलाया है और इसे सबसे शक्तिशाली और विनाशकारी हथियार माना जाता है. स्वयं शिव को छोड़कर किसी भी तरह से इसे रोका या नियंत्रित नहीं किया जा सकता है. त्रिशुल किसी भी अलौकिक हथियारों को अशक्त कर सकता हैं. 

2. सुदर्शन चक्र

सुधर्शन चक्र एक गोल आकर के चक्र (कताई डिस्क) जैसा हथियार है जिसमें भगवान विष्णु की तर्जनी अंगुली पर 108 दाँतेदार किनारों को देखा जाता है. यह भगवान शिव द्वारा विष्णु को उपहार में दिया गया था जो कि सूर्य की किरणों के अंश और शिव के त्रिशूल से बना था. देवताओं के वास्तुकार  विश्वकर्मा द्वारा निर्मित किया गया था. 

3. पाशुपतास्त्र

हिंदू सिद्धांत के अनुसार पशुपतिस्त्र भगवान शिव और भगवान विष्णु के हथियारों के बाद सबसे शक्तिशाली हथियार है. यह सबसे ताकतवर और विनाशकारी हथियार है. महाभारत महाकाव्य में अर्जुन ने इसे भगवान शिव से प्राप्त किया लेकिन कभी भी उपयोग में नहीं आया. 

4. ब्रह्माण्ड अस्त्र

माना जाता है कि ब्रह्माण्ड ब्रह्मा के 4 शीर्षों को प्रकट करते हैं, जो इस पर जारी किए गए सभी शक्तिशाली हथियारों में से अधिकांश को अशक्त कर सकते हैं. यह हथियार ब्रह्मास्त्र को निगल भी सकता है और इसे बेअसर कर सकता है. यह सप्तऋषियों द्वारा बनाए गए किसी भी हथियार का मुकाबला करने के लिए बनाया गया था. विश्वामित्र के सभी दैवीय हथियारों के हमले के बचाव में ब्रह्मऋषि वशिष्ठ ने इसका इस्तेमाल किया. 

5. ब्रह्मशिरा

ब्रह्मशिरा को ब्रह्मास्त्र से 4 गुना अधिक शक्तिशाली हथियार माना जाता है. जब इसका उपयोग किया जाता है, तो यह दशकों तक उस जगह पर मानव सभ्यता जन्म ही नहीं ले पाती है. इंद्रजीत (मेघनाथ) ने रामायण महाकाव्य में इसका इस्तेमाल वानरों का वध करने में किया था. महाभारत में अश्वस्थामा ने इसका इस्तेमाल पांडवों के वंश को खत्म करने के लिए किया था. 

6. नारायणास्त्र

नारायणास्त्र, जब उपयोग किया जाता है, तो लाखों तीर बनाता है और एक डिस्क जैसा हथियार होता है. जिसे बहुत विनाशकारी माना जाता है. यह उन हथियारों में से एक है, जिन्हें भगवान विष्णु से नारायण के रूप में प्राप्त करना था, जिसका उपयोग जीवन में केवल एक बार किया जा सकता है. 

7. भार्गवस्त्र

भार्गवस्त्र कर्ण को दिया जाने वाला परशुराम का एक अस्त्र है. जो इंद्रस्त्र की तुलना में अधिक शक्तिशाली हथियारों का इस्तेमाल करता है. यह पूरे ग्रह को नष्ट कर सकता था. 

8. वज्रायुध

वज्रायुध, वज्र, संक्षेप में इंद्र का हथियार है, जो कि देवों का राजा थे. जिसका निर्माण महर्षि दधिची की अस्थियों से किया गया था. इस अस्त्र का उपयोग का करके ही देवराज इंद्रा ने  वृत्रासुर नामक दैत्य का वध किया था. 

9.  बर्बरीक के तीन बाण

किशोर बाण महाभारत महाकाव्य में बर्बरीक का एक हथियार है जिसे उन्होंने देवी सिद्धिदात्री से वरदान के रूप में प्राप्त किया था. ऐसा माना जाता है कि अगर बर्बरीक ने महाभारत युद्ध में भाग लिया, तो वह कुछ क्षणों अपने तीन बाणों के साथ युद्ध समाप्त कर सकता था.  

10. ब्रह्मास्त्र

ब्रह्मास्त्र हिंदू कहानियों में सबसे लोकप्रिय और ज्ञात हथियार है. इसे परमाणु हथियारों के रूप में शक्तिशाली माना जाता है. यह बहुत विनाशकारी हो सकता है और साथ ही यह रक्षा में अन्य अलौकिक हथियारों का मुकाबला कर सकता है. इसका संचालन अलौकिक मंत्रो के साथ किया जाता था.

Loading...

इसे भी पढ़े :

Leave a Comment

Item added to cart.
0 items - 0.00