रोगनाशक मंत्र : रोगों को दूर करने के लिए मंत्र | Rog Dur Karne Ka Mantra in Hindi

हर तरह के रोग जैसे बुखार, असाध, कैंसर और अन्य बीमारी को दूर करने का मंत्र | bimari bhagane ka mantra | mantra shakti se rog nivaran in Hindi

मंत्र का अर्थ है पवित्र उच्चारण, संख्यात्मक ध्वनि या संस्कृत में मनोवैज्ञानिक और आध्यात्मिक शक्ति होने के लिए कुछ लोगों द्वारा माना जाने वाला पद. मंत्र के शब्दांशों के इन शक्तिशाली ध्वनि कंपन के विशिष्ट समूह का मानसिक, शारीरिक और मानसिक चेतना पर प्रभाव पड़ता है.

इन मंत्रों का जाप विश्वास और अनुशासन के साथ करने से हमारे शरीर के साथ-साथ हमारे दिमाग को भी ठीक करने में मदद मिलती है. ऐसी कई घटनाएं हुई हैं कि विभिन्न मंत्रों का जाप करने से विभिन्न रोगों के कई लोगों को रहस्यमय तरीके से ठीक किया गया है. कुछ शक्तिशाली मंत्र भी हैं जिनका उपयोग इलाज के दौरान रोगों से मुक्त होने के लिए किया जाता हैं.

बस्मायुधाये विद्महे, रक्त नेत्राय धीमहि
तन्नो ज्वरहर प्रचोदयात्

ऊँ हौं जूं सः ऊँ भूर्भुवः स्वः ऊँ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम्,
उर्वारुकमिव बंधनान्मृत्योर्मुक्षीय माघ्मृतात्।। ऊँ स्वः भुवः भूः ऊँ सः जूं हौं ऊँ ।।

रोगानशेषानपहंसि तुष्टा रुष्ट तू कमान सकलनभीष्टान्

ॐ नमो भगवते आंजनेयाय महाबलाय स्वाहा

ॐ सर्वबाधा विर्निमुक्तो धनधान्यसुतान्वित:।
मनुष्यो मत्प्रसादेन भविष्यति न संशय:।

श्रीकृष्ण बलभद्रश्च, प्रद्युम्न अनिरुद्धक:।
तस्य स्मरण मात्रेण, ज्वरो याति दशो दिश:।।

इसे भी पढ़े :

Loading...

Leave a Comment