स्वच्छ भारत अभियान पर मित्र को पत्र | Application to friend For Swachh Bharat Abhiyan in Hindi

स्वच्छ भारत अभियान में अपने कार्यों और छोटी-मोटी बाधाओं से अवगत कराते हुए मित्र को पत्र | Application to a friend informing about our work in Swachh Bharat Abhiyan in Hindi

जिस तरह हम अपने घरवालों के लिए पत्र लिखते है उस प्रकार ही हम अपने मित्र के हाल-चाल पूछने के लिए पत्र लिखते है उसको अनौपचारिक पत्र कहते है. इस पत्र में भी एक बालक अपने मित्र को उसके द्वारा स्वच्छ भारत अभियान के कार्यों के बारे में बताता है और उससे मिलने का उत्साह दिखता है.

अनौपचारिक पत्र

रविन्द्रनाथ
वार्ड -22,अग्रसेन कॉलोनी
बालाघाट (म.प्र.)
दिनांक- 11-01-20
प्रिय सुन्दरलाल,
नमस्कार
आशा है, आप आनन्दपूर्वक होंगे
मैं भी आनन्द में हूँ. आजकल में स्वच्छता अभियान में लगा हुआ हूँ. हमारे पच्चीस मित्रों ने मिलकर एक स्वच्छता समिति का निर्माण किया है. हम अपने मुहल्ले की सफाई व्यवस्था का प्रबंधन करते हमने सबसे पहले कूड़ा डालने के लिए कूड़ादान रखवाए हैं. प्रिय मित्र, वास्टम में उचित व्यवस्था न होने के कारण ही आदतें बिगड़ती गई जिन्हें सुधारने के लिए अब प्रयास किये जा रहे हैं.
स्वच्छता अभियान निरंतर चलने वाला काम है. इसमें बाधाएँ बहुत है. बहुत लोगों ने पहले हमारा मजाक उड़ाया. घरवालों ने भी टीका और कुछ लोगों ने अपने घर के आसपास कूड़ादान रखने से रोका. परन्तु हमारे संकल्प से मुहल्ला साफ दिखता है तो सबको अच्छा लगता है. सुन्दरलाल अबकी बार घर आओगे तो तुम्हें हमारे मुहल्ले में अन्तर नजर आएगा. मैं तुम्हारी प्रतीक्षा 
में रहूँगा.
तुम्हारा
रवीन्द्रनाथ

ध्यान देने योग्य आवश्यक बातें

पत्र प्लेन पेपर पर लिखें : पत्र को हमेशा प्लेन पेपर पर लिखा होना चाहिए, किसी भी प्रकार की अन्य जानकारी पत्र के साथ ना लिखी हुई हो. इसके अलावा पत्र को पूरे पेज पर लिखा होना चाहिए, एक पेज को दो हिस्सों में करके ना लिखे.
गलती ना हो : कई बार छात्र पत्र लिखते समय कई गलतियाँ कर देते हैं. इसीलिए जरुरी हैं कि पत्र में किसी भी प्रकार की शब्दों से जुडी हुई गलतियाँ नहीं होनी चहिए.
विषय की स्पष्टता : पत्र लिखते समय हमारा विषय स्पष्ट होना चाहिए. उसमे समझाने में कोई दिक्कत नहीं होनी चाहिए. हमारे लिखे हुए शब्द सरल एवं स्पष्ट होने चाहिए ऊपर लिखे पत्र में भी आपने पढ़ा होगा कि एक बालक अपने मित्र को स्वच्छ भारत अभियान के बारे में सरल भाषा का प्सेरयोग करके अवगत करता है.
लेखन की सुन्दरता : पत्र की लेखन कला का भी आवदेन प्राप्तकर्ता के सामने प्रभाव पड़ता हैं. लेखन जिनता सुन्दर और मात्रा की गलतियों के बिना होगा उनता उन्नत रहेगा एवं एक बात का ध्यान रखे की पत्र के अक्षर एक समान लिखे हो कोई अक्षर बड़ा या छोटा नहीं होना चाहिए.

आशा हैं की आपको यह पत्र अच्छा लगा होगा. इसी तरह की और पत्र लेखन प्राप्त करने के लिए हमारी वेबसाइट के Notification को Allow करके हमारी वेबसाइट से जुड़े. इसी प्रकार के अन्य विषय पर यदि आप पत्र चाहते हैं तो नीचे कमेंट बॉक्स में लिखे.

Leave a Comment

error: Content is protected !!