समय के सदुपयोग एवं परिश्रम पर भाई को पत्र | Application to Brother Emphasizing on the Use of Time and Hard Work

समय के सदुपयोग और परिश्रम पर बल देते हुए छोटे भाई को पत्र । Application for Brother Emphasizing on the Use of Time and Hard Work in Hindi

जब कभी हम लोग अपने घर पर ना होकर कहीं बाहर होस्टल या विदेश में होते है, तब हम अपने छोटे भाई-बहन के हाल चाल को जानने के लिए उनसे बातचीत करने के लिए जो पत्र का इस्तेमाल करते है. उसको अनौपचारिक पत्र कहते है. हमने आपके लिए जो पत्र लिखा है वह भी एक अनौपचारिक पत्र है, जिसमे एक बड़ा भाई अपने छोटे भाई को समझाते हुए कहता है कि अपने जीवन में समय के मूल को समझों और निरंतर परिश्रम करते रहो जिसका फल तुम्हे भविष्य अवश्य प्राप्त होगा.

अनौपचारिक पत्र

परीक्षा भवन
दिनांक – 12/07/20….
प्रिय भाई शशांक,
शुभाशीर्वाद,
कल ही माँ का पत्र प्राप्त हुआ. यह पढ़कर बहुत दुख हुआ कि इस वर्ष की परीक्षा में तुम्हें बहुत कम अंक प्राप्त हुए है. मुझे यह भी पता चला कि इस वर्ष तुमने पढ़ाई में परिश्रम नहीं किया. इसलिए यह परिणाम प्राप्त हुआ है. प्रिय अनुज जीवन में परिश्रम का बहुत महत्व है. परिश्रम के अभाव में कोई भी कार्य पूरा नहीं होता. परिश्रम ही सफलता की कुंजी . भाग्य के भरोसे रहने वाले लोग बाद में पछाताते है. परिश्रम व्यक्ति को सुखद परिणाम मिलता है. प्रिय भाई, समय इसका सबसे शक्तिशाली शासक है. प्रकृति के सारे क्रिया-कलाप समय के अनुसार सम्पन्न होते हैं. अतः समय के महत्व तथा मूल्य को समझा क्योंकि बिता हुआ समय पुन: वापस नहीं आता. समय के सदुपयोग में ही सफलता का रहस्य छिपा हुआ है.
मुझे पूर्ण आशा एवं विश्वास है कि तुम समय के मूल्य को समझो. भविष्य में परीक्षा की तैयारी करते समय, समय का सदुपयोग करके अपने जीवन को सफलता के शिखर पर ले जाओगे. दादादी जी को मेरी ओर से सदर प्रणाम कहना.
तुम्हारा अग्रज
शिवांश

ध्यान देने योग्य आवश्यक बातें

पत्र प्लेन पेपर पर लिखें : पत्र को हमेशा प्लेन पेपर पर लिखा होना चाहिए, किसी भी प्रकार की अन्य जानकारी पत्र के साथ ना लिखी हुई हो. इसके अलावा पत्र को पूरे पेज पर लिखा होना चाहिए, एक पेज को दो हिस्सों में करके ना लिखे.
गलती ना हो : कई बार छात्र पत्र लिखते समय कई गलतियाँ कर देते हैं. इसीलिए जरुरी हैं कि पत्र में किसी भी प्रकार की शब्दों से जुडी हुई गलतियाँ नहीं होनी चहिए.
विषय की स्पष्टता : पत्र लिखते समय हमारा विषय स्पष्ट होना चाहिए. उसमे समझाने में कोई दिक्कत नहीं होनी चाहिए. हमारे लिखे हुए शब्द सरल एवं स्पष्ट होने चाहिए ऊपर लिखे पत्र में भी आपने पढ़ा होगा कि बड़े भाई ने सरल एवं स्पष्ट शब्दों को लिखा है, जिसको कोई भी उसे पढ़ सकता है.
लेखन की सुन्दरता : पत्र की लेखन कला का भी आवदेन प्राप्तकर्ता के सामने प्रभाव पड़ता हैं. लेखन जिनता सुन्दर और मात्रा की गलतियों के बिना होगा उनता उन्नत रहेगा एवं एक बात का ध्यान रखे की पत्र के अक्षर एक समान लिखे हो कोई अक्षर बड़ा या छोटा नहीं होना चाहिए.

आशा हैं की आपको यह पत्र अच्छा लगा होगा. इसी तरह की और पत्र लेखन प्राप्त करने के लिए हमारी वेबसाइट के Notification को Allow करके हमारी वेबसाइट से जुड़े. इसी प्रकार के अन्य विषय पर यदि आप पत्र चाहते हैं तो नीचे कमेंट बॉक्स में लिखे.

Leave a Comment

error: Content is protected !!