नवरात्रि पर माता के हिंदी भजन | Top Navratri Songs (Bhajan) Lyrics in Hindi

नवरात्रि पर माता के हिंदी भजन | Top Navratri Songs (Bhajan) Lyrics in Hindi

नवरात्रि का त्यौहार आते ही लोगों के मन में उमंग की लहर दौड़ने लगती है. नवरात्रि एक ऐसा पर्व हैं जिसमे माँ दुर्गा की पूजा अर्चना की जाती, कई प्रकार के भोजन, मिठाइयाँ इत्यादि बनाकर माँ को प्रसाद लगाया जाता है. नवरात्र का अर्थ है नौ रातों का समूह जिसमें माँ दुर्गा के अलग-अलग रूपों की आराधना नौ दिन की जाती है. सीता हरण के दौरान रामचन्द्रजी ने समुद्र किनारे माँ दुर्गा की प्रतिमा को रखकर माँ दुर्गा की नौ रूपों की पूजा की थी फिर इसके बाद लंका की ओर प्रस्थान किया था.

इन नौ दिनों में हर कोई अपने-अपने तरीके से माँ दुर्गा की आराधना करता है. लेकिन सब का उद्देश्य बस एक ही होता है माता की कृपा और आशीर्वाद प्राप्त करना. इस दौरान लोग नौ दिनों तक माता की चौकी रखते हैं, घर-घर में भजन गए जाते हैं. इसलिए आज हम आपके लिए कुछ चुनिन्दा माँ के भजन शब्दों सहित लेकर आये हैं जिन्हें सुनकर आप अपनी सभी चिंताओ से मुक्त हो जायेंगे.

Navratri Songs(Bhajan) Lyrics in Hindi

भजन – 1

भेजा है बुलावा तूने शेरावालिये

ओ मैया तेरे दरवार ओ मैया तेरे दीदार को मैं आऊंगा

कभी न फिर न जाऊंगा

भेजा है बुलावा तूने शेरावालिये – 2

शेरावालिये नि माता जोता वालिये

रे सांचिये जोता वालिये लाटा वालिये

तेरे ही दर के हैं हम तो भिखारी  

जाएँ कहाँ ये दर छोड़ के हाँ छोड़ के

ओह्ह्ह तेरे ही संग बाँधी भक्तों ने डोरी

सारे जहाँ से नाता तोड़ के हाँ तोड़ के

सेरावालिये नि माता जोता वालिये

पहाड़ो बालिय नि माता लाटा वालिये

भेजा है बुलावा तूने शेरावालिये – 2

शेरावालिये नि माता जोता वालिये

नि सांचिये जोता वालिये लाटा वालिये

फूलो में तेरी ही खुश्वू है मैया चंदा में तेरी ही चांदनी हाँ चांदनी

तेरी ही नूर से है नैनों की जोतियाँ सूरज में तेरी ही रोशनी हाँ रोशनी

शेरावालिये नि माता जोता वालिये

पहाड़ा वालिये नि माता लाटा वालिये

भेजा है बुलावा तूने शेरावालिये – 2

ओह मैया तेरे दरवार को माँ तेरे दरवार को हम आयेंगे हाँ आयेंगे

भजन-2

चलो बुलावा आया है, माता ने बुलाया है

ऊँचे पर्वत पर रानी माँ ने दरवार लगया है

चलो बुलावा आया है, माता ने बुलाया है

सारे जग में एक ठिकाना, सारे गम के मारो का

रास्ता देख रही है माता, अपने आँख के तारों का

मस्त हवाओं का एक झोका, यह संदेशा लाया है  

चलो बुलावा आया है, माता ने बुलाया है

जय माता दी, जय माता दी

जय माता दी कहते जाओ आने जाने वालो को  

चलते जाओ तुम मत देखो अपने पीछे वालो को

जिसने जितना दर्द सहा है उतना चैन भी पाया है

चलो बुलावा आया है, माता ने बुलाया है

ऊँचे पर्वत पर रानी माँ ने दरवार लगाया है   

जय माता दी, जय माता दी

वैष्णो देवी के मंदिर में, लोग मुरादें पाते हैं  

रोते रोते आते हैं, हँसते-हँसते जाते हैं  

में भी मांग के देखूं जिसने जो माँगा वो पाया है

चलो बुलावा आया है माता ने बुलाया है – 2

जय माता दी, जय माता दी

मैं तो भी एक माँ हूँ, माता माँ ही माँ को पहचाने

बेटे का दुःख क्या होता है और कोई क्या जाने

उसका खून मैं देखूं कैसे जिसको दूध पिलाया है

चलो बुलावा आया है माता ने बुलाया है – 2

भजन-3

भोर भई दिन चढ़ गया मेरी अम्बे

भोर भई दिन चढ़ गया मेरी अम्बे,
हो रही जय जय कार मंदिर विच आरती जय माँ .
हे दरबारा वाली आरती जय माँ .
ओ पहाड़ा वाली आरती जय माँ ॥

काहे दी मैया तेरी आरती बनावा,
काहे दी पावां विच बाती,
मंदिर विच आरती जय माँ .
सुहे चोलेयाँ वाली आरती जय माँ .
हे माँ पहाड़ा वाली आरती जय माँ ॥

सर्व सोने दी आरती बनावा,
अगर कपूर पावां बाती,
मंदिर विच आरती जय माँ .
हे माँ पिंडी रानी आरती जय माँ .
हे पहाड़ा वाली आरती जय माँ ॥

कौन सुहागन दिवा बालेया मेरी मैया,
कौन जागेगा सारी रात,
मंदिर विच आरती जय माँ .
सच्चिया ज्योतां वाली आरती जय माँ .
हे पहाड़ा वाली आरती जय माँ ॥

सर्व सुहागिन दिवा बलिया मेरी अम्बे,
ज्योत जागेगी सारी रात,
मंदिर विच आरती जय माँ .
हे माँ त्रिकुटा रानी आरती जय माँ .
हे पहाड़ा वाली आरती जय माँ ॥

जुग जुग जीवे तेरा जम्मुए दा राजा,
जिस तेरा भवन बनाया,
मंदिर विच आरती जय माँ .
हे मेरी अम्बे रानी आरती जय माँ .
हे पहाड़ा वाली आरती जय माँ ॥

सिमर चरण तेरा ध्यानु यश गावे,
जो ध्यावे सो, यो फल पावे,
रख बाणे दी लाज,
मंदिर विच आरती जय माँ .
सोहनेया मंदिरां वाली आरती जय माँ ॥

भजन – 4

बड़ा प्यारा सजा है तेरा द्वार भवानी

बड़ा प्यारा सजा है तेरा द्वार भवानी,
भक्तों की लगी है कतार भवानी.

ऊँचे पर्वत भवन निराला,
आ के शीश निवावे संसार, भवानी,
प्यारा सजा है तेरा द्वार भवानी.

जगमग जगमग ज्योत जगे है,
तेरे चरणों में गंगा की धार, भवानी,
तेरे भक्तों की लगी है कतार, भवानी.

लाल चुनरिया लाल लाल चूड़ा,
गले लाल फूलों के सोहे हार, भवानी,
प्यारा सजा है तेरा द्वार, भवानी.

सावन महीना मैया झूला झूले,
देखो रूप कंजको का धार भवानी,
प्यारा सजा है द्वार भवानी.

पल में भरती झोली खाली,
तेरे खुले दया के भण्डार, भवानी,
तेरे भक्तों की लगी है कतार, भवानी.

लक्खा को है तेरा सहारा माँ,
करदे अपने सरल का बेडा पार, भवानी,
प्यारा सजा है तेरा द्वार भवानी.

भजन-5

मेरी अँखियों के सामने ही रहना

मेरी अँखियों के सामने ही रहना,
माँ शेरों वाली जगदम्बे .

हम तो चाकर मैया तेरे दरबार के,
भूखे हैं हम तो मैया बस तेरे प्यार के.

विनती हमारी भी अब करो मंज़ूर माँ,
चरणों से हमको कभी करना ना दूर माँ.

मुझे जान के अपना बालक सब भूल तू मेरी भुला देना,
शेरों वाली जगदम्बे आँचल में मुझे छिपा लेना.

तुम हो शिव जी की शक्ति मैया शेरों वाली,
तुम हो दुर्गा हो अम्बे मैया तुम हो काली.
बन के अमृत की धार सदा बहना,
ओ शेरों वाली जगदम्बे.

तेरे बालक को कभी माँ सबर आए,
जहाँ देखूं माँ तू ही तू नज़र आये.
मुझे इसके सिवा कुछ ना कहना,
ओ शेरों वाली जगदम्बे.

देदो शर्मा को भक्ति का दान मैया जी,
लक्खा गाता रहे तेरा गुणगान मैया जी.
है भजन तेरा भक्तों का गहना,
ओ शेरों वाली जगदम्बे.

ये कुछ चुनिन्दा भजन (Navratri Songs (Bhajan) Lyrics) हैं जिन्हें आप नवरात्रि के दौरान अपने घर में गा सकते हैं. इन भजनों के माध्यम से ही हम अपनी भक्ति को माँ के समक्ष समर्पित करते हैं. आने वाली इस नवरात्रि पर आप इन भजनों को स्वयं गायें व दूसरों को भी बताएं.

इसे भी पढ़े :

Leave a Comment

error: Content is protected !!