महाराणा प्रताप के चेतक का समाधि स्थल | Chetak Samadhi Sthal in Hindi

Maharana Pratap Horse Chetak Samadhi Sthal in Hindi | हल्दीघाटी के मैदान में बना हैं महाराणा प्रताप के चेतक का समाधि स्थल

महाराणा प्रताप का प्रसिध्द नीलवर्ण घोडा चेतक उनका अत्यंत प्रिय घोड़ा था. महाराणा प्रताप के समक्ष अरबी नस्ल के तीन घोड़े एक अरब व्यापारी लेकर आया जिनके नाम चेतक, त्राटक एवं अटक थे. प्रताप ने घोड़ो का परिक्षण किया जिसमे चेतक और त्राटक सफल हुए. महाराणा ने चेतक को अपने पास रख लिया और त्राटक छोटे भाई को दे दिया.

maharana-pratap-brave-horse-chetak

महाराणा प्रताप का घोडा चेतक इतना शौर्यवान था कि दुश्मन के हाथियों को भ्रमित करने के लिए उसके सिर पर हाथी की सूंड लगाई जाती थी. चेतक ने हल्दीघाटी (1576) के युद्ध में अपने शौर्य और पराक्रम द्वारा अपने स्वामिभक्त होने का परिचय दिया था. युद्ध में घायल होने पर भी महाराणा प्रताप को निकाल ले जाने का काम चेतक ने किया वह 26 फिट का एक दरिया पार कर अंत में वीरगति को प्राप्त होता है.

maharana-pratap-brave-horse-chetak1

चेतक इतना साहसी घोडा था कि अपनी एक टांग टूटने पर भी वह दरिया पार कर गया था. युद्ध के स्थान पर हल्दीघाटी में आज भी चेतक की समाधि बनी हुई है, जहां महाराणा प्रताप ने छोटे भाई शक्ति सिंह के साथ में चेतक का दाह-संस्कार किया था. उस जगह खोड़ी इमली नामक एक पेड़ है तथा उसी स्थान पर चेतक का मंदिर है जो आज भी मानव के प्रति जानवरों की स्वामिभक्ति की एक मिसाल देता है.

maharana-pratap-brave-horse-chetak2

इसे भी पढ़े :

दिल से देशी

राष्ट्र सर्वोपरि