कलावंती फोर्ट का ऐतिहासिक महत्व और जानकारी | History of Kalavanti Fort in Hindi

कलावंती फोर्ट अथवा प्रभलगढ़ का इतिहास और रोचक जानकारी हिंदी में | Kalavanti Fort or prabalgad History, Beutiuful Location in Hindi

महाराष्ट्र के पनवेल और माथेराण के बीच स्थित प्रबलगढ़ किला कलावंती नाम से पुरे विश्व में प्रसिद्द है, यह किला 2300 फीट ऊँची खड़ी पहाड़ी पर है जो भारत के सबसे ख़तरनाक किलों में शुमार है.

history of kalavanti fort1

इस किले पर चढ़ने के लिए चट्टानों को काटकर सीढियाँ तैयार की गयी है. सीढियों पर सहारे के लिए कोई विशेष रस्सी या रेलिंग नहीं है, जरा भी सावधानी हटी और दुर्घटना के प्रबल पुरे संयोग बन जाते है. चुक होने पर सीधे 2300 फीट की खाई में गिरते है. शाम होते ही यहाँ सन्नाटा छा जाता है बिजली पानी की कोई विशेष सुविधा नहीं है. कठिन रास्ता होने के कारण यहाँ बहुत कम लोग आते है और जो भी आते है वे लोग सूर्यास्त से पहले घर की और प्रस्थान कर लेते है.

history of kalavanti fort2

पहले यह किला मुरंजन और प्रभागढ़ नाम से भी जाना जाता था बाद में छत्रपति शिवाजी महाराज के समय में इसे बदल कर रानी कलावंती के नाम पर इस किले का नाम रखा. इस किले से देखने पर चंदेरी, करनाल, इर्शल और माथेरान किले भी साफ़ दिखाई देते है. मुंबई शहर का कुछ इलाका भी इस पर से दिखाई देता है.

history of kalavanti fort3

इस किले पर चढ़ाई के लिए अक्टुम्बर से मई का महिना उपयुक्त होता है. बारिश के दिनों में चढ़ाई करना बहुत खतरनाक हो सकता है.

इसे भी पढ़े :

कलावंती दुर्ग पर बना एक विडियो

Loading...
Item added to cart.
0 items - 0.00