सैनिटाइजर और इससे जुड़ी जानकारी | What is Sanitiser and its Uses, Precautions in Hindi

सैनिटाइजर और इससे जुड़ी पूरी जानकारी
What is Sanitiser and its Uses, Precautions in Hindi

कोरोना महामारी से जूझ रहे पूरे विश्व को मास्क और सैनिटाइजर इस्तेमाल करने की सलाह दी जा रही है. पर किसी भी चीज़ के इस्तेमाल से पहले हमें उसके बारे में जान लेना चाहिए. तो आइए आज जानते हैं कि सैनिटाइजर क्या है और उसका उपयोग कैसे करें और उपयोग करते वक़्त क्या क्या सावधानियां रखें. सबसे पहले जानते हैं कि आखिर सैनिटाइजर है क्या.

सैनिटाइजर क्या है | What is Sanitiser in Hindi

सैनिटाइजर एक अंग्रेजी शब्द है. सैनिटाइजर का हिंदी में अर्थ होता है प्रक्षालक. सैनिटाइजर शब्द अंग्रेजी के शब्द सैनिटाइज(sanitise) से बना है जिनका हिंदी में अर्थ होता है स्वच्छ. अगर सरल भाषा का उपयोग करें तो सैनिटाइजर वह पदार्थ है जो हमारे हाथों या शरीर के अंगों को स्वच्छ करने का काम करता है.

सैनिटाइजर भी साबुन या हैंडवाश का एक प्रकार ही है, पर साबुन या हैंडवाश को साफ करने के लिए पानी से धोना पड़ता है जहां सैनिटाइजर में आपको यह करने की जरूरत नहीं है. सैनिटाइजर हमारे हांथों से कीटाणुओं को मारता है.

सैनिटाइजर हमारी संक्रमण से रक्षा करता है. शोध के आधार पर देखें तो सैनिटाइजर साबुन से ज्यादा प्रभावशाली होता है.सैनिटाइजर लेते वक्त हमें हमेशा इस बात का ध्यान रखना चाइये की हम वह सैनिटाइजर लें जिसमे अल्कोहल की मात्रा 60 % हो। सैनिटाइजर का इस्तेमाल करना बहुत आसान है. इसके उपयोग के लिए आप हाथों में थोड़ा सा सैनिटाइजर लें और उसे पूरे हाथों में मल लें. कुछ सैनिटाइजर हमे ठंडक भी देते हैं.

कोरोना महामारी के इस समय मे मास्क और सैनिटाइजर को अनिवार्य कर दिया गया है. किसी भी सार्वजनिक स्थान पर आपको मास्क या सैनिटाइजर रखना अनिवार्य है. आइये अब देखते हैं कि सैनिटाइजर इस्तेमाल करते वक़्त किन बातों का ध्यान रखना बहुत जरूरी है.

सैनिटाइजर से जुड़ी सावधानियां | Sanitiser and its Awareness

  1. जब भी हम सेनिटाइजर को किसी बोतल से निकालते हैं उसके तुरन्त बाद बोतल बंद कर देना चाहिए वरना अल्कोहल होने से वह उड़ सकता है. सेनिटाइजर में 60% और उससे अधिक अल्कोहल होती है. अल्कोहल हवा से अभिक्रिया करके वाष्पीकृत हो जाती है. यह एक रासायनिक अभिक्रिया होती है.
  2. सेनिटाइजर का प्रयोग करते समय ध्यान रखें कि यह आंखों में नहीं जाना चाहिए. ऐसा होने पर आंखों को पानी से धोएं या ज़रूरत पड़ने पर डॉक्टर को दिखाएं. सेनिटाइजर एक अल्कोहल से बना पदार्थ है जो कि बाहरी भागों के लिए बनाया गया है अगर यह किसी अंदरूनी भाग के सम्पर्क में आता है तो मांसपेशियों के फैलने और सिकुड़ने में सहायक हो सकता है जिससे अत्यधिक क्षति हो सकती है.
  3. सेनिटाइजर किसी भी तरह मुँह के अंदर नहीं जाना चाहिए. इसमें अल्कोहल की मात्रा बहुत अधिक होने के कारण यह आपके लीवर को नुकसान पहुंचा सकता है और आपकी जान भी जा सकती है.
  4. सेनिटाइजर की बोतल को सेनिटाइजर लेने के बाद थोड़ा सा सेनिटाइजर से ही साफ कर दें. ऐसा करने पर आपकी बोतल भी कीटाणुओं से मुक्त हो जाएगी अन्यथा अगली बार आप सामान्य रूप से बोतल जब भी पकड़ेंगे आपके हाथ में कीटाणु अपने आप लग जाएंगे जो कि आपकी बोतल पर पहले से मौजूद थे.
  5. सेनिटाइजर लेने के बाद हाथ में चिकनाई आ जाने से बोतल हाथ से फिसल सकती है इसीलिए बोतल को या तो ज़ोर से पकड़ें या किसी स्थान पर रख दें. ऐसा होने पर आपकी बोतल आपके हाथ से खिसक सकती है जिससे आपका सेनिटाइजर फैल सकता है.
  6. सेनिटाइजर उपयोग करने के तुरंत बाद किसी गैस या जलती हुई चीज़ के सम्पर्क में न आएं. अल्कोहल जो कि सेनिटाइजर का मुख्य तत्व है एक ज्वलनशील पदार्थ की श्रेणी में आता है एवं अल्कोहल आग के सम्पर्क में आने पर बहुत जल्दी आग पकड़ता है. ऐसे में अगर आपने हाथ में सेनिटाइजर लगाया होगा और आप आग के सम्पर्क में आ जाएंगे तो आपके हाथ अपने आप आग पकड़ लेंगे. हाथ जलने के साथ-साथ दुर्घटना और भी बड़ी हो सकती है अगर उस समय आपके पास आपकी सेनिटाइजर की बोतल है. इससे आपके कपड़े भी आग के हवाले हो सकते हैं.

सेनिटाइजर का उपयोग कैसे करें | How to Use Sanitiser in Hindi

सेनिटाइजर एक अल्कोहल बेस्ड प्रोडक्ट है, इसको कई बड़ी कंपनियां बनाती हैं साथ ही साथ प्रत्येक राज्य की सरकार भी अपने अस्पतालों के लिए इसका निर्माण करती है. इसकी कीमत उत्पादन में तो कम होती है लेकिन बाजार में आते आते इसकी कीमत काफी ज्यादा हो जाती है.

  • इसके उपयोग हेतु आपको किसी भी कंपनी का सेनिटाइजर जिसमें अल्कोहल की मात्रा कम से कम 60% हो लेना है.
  • इसकी बोतल का ढक्कन खोलते हुए आपको ऊनी हथेलियों पर इसकी कुछ मात्रा गिरानी है.
  • फिर आपको दोनों हाथों को अच्छे से रगड़ना है. उंगलियों के बीच भी इसकी कुछ मात्रा को रगड़िये.
  • हथेलियों के पीछे की ओर और अगर आप चाहें तो कलाई के कुछ ऊपर तक भी इसे अच्छे से रगड़ सकते हैं. जिससे आपके हाथ पर मौजूद सभी प्रकार के कीटाणु मर जाएंगे और आप कीटाणुओं के कारण बीमार होने से बच सकते हैं.

सेनिटाइजर मानव जाति को विज्ञान की एक बहुत ही अच्छी देन है. हम कीटाणुओं को देख नहीं पाते वे इतने सूक्ष्म होते हैं, तो हमें सामान्य आंखों से तो अपने हाथ साफ दिखते हैं परन्तु उनमें कई कीटाणु विषाणु मौजूद होते हैं. जो हमारे शरीर के सम्पर्क में आने पर या शरीर के अंदर जाने पर हमें गम्भीर रूप से बीमार कर सकते हैं. ऐसा होने पर व्यक्ति की जान भी जा सकती है. सेनिटाइजर का उपयोग करने पर हम अपने शरीर, विशेषतः हाथ पर मौजूद सभी प्रकार के विषाणु और कीटाणु मार सकते हैं. जो कि हमारे जीवन के लिए रक्षक के समान कार्य करेगा. अतः सेनिटाइजर एक बहुउपयोगी पदार्थ है जो घरों में आवश्यक रूप से उपयोग में लाना चाहिए और कहीं भी बाहर कुछ खाने के पहले सबसे पहले सेनिटाइजर का उपयोग करके अपने हाथ साफ कर लेने चाहिए.

तो आशा है आपको हमारी पोस्ट (What is Sanitiser in Hindi) पड़कर अच्छा लगा होगा. आज आपने सेनिटाइजर के बारे में सारी जानकारी पड़ ली होगी और सेनिटाइजर का उपयोग कैसे करें यह भी समझ लिया होगा. साथ ही साथ सेनिटाइजर का उपयोग करते समय कौन कौन सी सावधानियां ध्यान में रखना चाहिए, ये भी आपने पढ़ा होगा. उम्मीद करते हैं, आप सारी सावधानियां समझ गए होंगे और आगामी समय में सेनिटाइजर उपयोग करते समय इन सभी बातों का विशेष ध्यान रखेंगे.

Loading...

Leave a Comment