चंद्रशेखर वेंकट रमन का जीवन परिचय | Chandrasekhar Venkata Raman Biography in Hindi

चंद्रशेखर वेंकट रमन (सी.वी.रमन) कौन थे, उनकी जीवनी, खोज, शिक्षा और पुरूस्कार | Chandrasekhar Venkata Raman (C.V. Raman) biography, discovery, education and awards in Hindi

चंद्रशेखर वेंकट रमन (Chandrasekhar Venkata Raman) भारतीय भौतिक विज्ञानी, जिन्होंने भौतिकी के लिए नोबेल पुरस्कार जीतने वाले पहले भारतीय बनकर अपनी मातृभूमि को गौरवान्वित किया. बचपन में वह कुशाग्र बुद्धि के थे और अन्य छात्रों की तुलना में बहुत कम उम्र में अपनी मैट्रिक की परीक्षा पास की. गणित और भौतिकी के एक व्याख्याता के बेटे के रूप में, युवा रमन को शुरू से ही शैक्षणिक माहौल से अवगत कराया गया था. अपने शैक्षणिक दिनों में एक टॉपर थे और वह अनुसंधान में गहरी रुचि रखते थे. वास्तव में जब वह छात्र थे तब भी से उन्होंने प्रकाशिकी और ध्वनिकी पर अपना शोध कार्य शुरू कर दिया.

उन्होंने डिप्टी अकाउंटेंट जनरल के रूप में अपना करियर शुरू किया, फिर भी वे अनुसंधान से दूर नहीं रह पाए, अक्सर भौतिकी के क्षेत्र में नई चीजों की खोज के लिए पूरी रात लगे रहते. इस रहस्य को उजागर करना चाहते थे कि पानी एक रंगहीन तरल हैं परन्तु आंखों को नीला क्यों दिखाई देता है. इस प्रकार प्रकाश के प्रकीर्णन पर प्रयोगों की एक श्रृंखला शुरू हुई जिसके परिणामस्वरूप अंततः रमन प्रभाव के रूप में जाना जाने लगा जिसके लिए उन्होंने भौतिकी में नोबेल पुरस्कार जीता.

बिंदु (Point) जानकारी (Information)
नाम (Name) सी.वी. रमन
पूरा नाम (Full Name) चंद्रशेखर वेंकट रमन
जन्म दिनांक(Date of Birth) 7 नवम्बर 1888
जन्म स्थान (Birth Place) तिरुचिरापल्ली
पेशा (Profession) वैज्ञानिक
खोज (Discovery) रमन प्रभाव
पिता का नाम (Father Name) आर. चंद्रशेखर अय्यर
माता का नाम (Mother Name) पार्वती अम्मल
पत्नी का नाम (Wife Name) लोकसुंदरी अम्मल

चंद्रशेखर वेंकट रमन का जन्म और प्रारंभिक जीवन (Chandrasekhar Venkata Raman Birth and Early Life)

उनका जन्म तिरुचिरापल्ली के एक छोटे से गाँव के पास आर. चंद्रशेखर अय्यर और पार्वती अम्मल के यहाँ हुआ था. उनके पिता विशाखापत्तनम एक स्कूल शिक्षकथे बाद में एक कॉलेज में गणित और भौतिकी के व्याख्याता बन गए.

रमन ने विशाखापत्तनम में सेंट अलॉयसियस एंग्लो-इंडियन हाई स्कूल में पढ़ाई की. वह एक होनहार छात्र थे और जब वह सिर्फ 11 साल का थे तब उसने मैट्रिक की परीक्षा पास की. 13 साल की उम्र में उसने छात्रवृत्ति के साथ अपनी एफ.ए. परीक्षा (आज की इंटरमीडिएट परीक्षा के बराबर) उत्तीर्ण की.

उन्होंने 1902 में मद्रास के प्रेसीडेंसी कॉलेज में दाखिला लिया और बी.ए. भौतिकी में 1904 में उन्होंने परीक्षा में टॉप किया और स्वर्ण पदक जीता. तीन साल बाद उन्होंने 1907 में एम. ए. की उपाधि प्राप्त की.

Chandrasekhar Venkata Raman Biography in Hindi

चंद्रशेखर वेंकट रमन का करियर (Chandrasekhar Venkata Raman Career)

उन्हें विज्ञान में गहरी दिलचस्पी थी लेकिन वे अपने पिता के आग्रह पर फाइनेंशियल सिविल सर्विस (FCS) परीक्षा में शामिल हुए. उन्होंने परीक्षा में टॉप किया और 1907 में कलकत्ता में भारतीय वित्त विभाग में सहायक महालेखाकार के रूप में शामिल होने गए. फिर भी उनका दिल वैज्ञानिक अनुसंधान में था और उन्होंने अपने खाली समय के दौरान इंडियन एसोसिएशन फॉर कल्टिवेशन ऑफ साइंसेज में शोध करना शुरू किया. उनकी नौकरी बहुत व्यस्त थी, फिर भी वे विज्ञान के प्रति इतने समर्पित थे कि वे अक्सर अनुसंधान में रातें बिताते थे.

भले ही एसोसिएशन में उपलब्ध सुविधाएं बहुत सीमित थीं, लेकिन इसने रमन के भोतिकी के प्रति लगाव को कभी कम नहीं होने दिया. इस समय के दौरान, उनका शोध मूल रूप से कंपन और ध्वनिकी के क्षेत्रों में था. 1917 में, उन्हें कलकत्ता विश्वविद्यालय में भौतिकी के पहले प्रोफेसर के रूप में शामिल होने का अवसर मिला. रमन ने इस पद को संभालने के लिए अपने सरकारी पद से खुशी-खुशी इस्तीफा दे दिया, हालांकि नई नौकरी ने पिछले वेतन की तुलना में बहुत कम भुगतान किया.

1919 में उन्हें विज्ञान के लिए इंडियन एसोसिएशन ऑफ द कल्टिवेशन ऑफ़ साइंस का मानद सचिव बनाया गया था. 1933 तक उनके पास एक यह पद था. वह बहुत लोकप्रिय थे और उनके आस-पास कई छात्र इकट्ठा हुए थे, जो विज्ञान के बारे में उनके ज्ञान से आकर्षित थे.

1920 के दशक के उत्तरार्ध के दौरान उन्होंने मोनोक्रोमैटिक प्रकाश के व्यवहार को देखते हुए प्रकाश के प्रकीर्णन पर प्रयोग किया, जो पारदर्शी सामग्री में प्रवेश कर एक स्पेक्ट्रोग्राफ पर गिर गया. इसने 1928 में वैज्ञानिकों की एक बैठक में प्रस्तुत ‘रमन इफेक्ट’ के नाम से जानी जाने वाली खोज का नेतृत्व किया.

उन्हें भारतीय विज्ञान संस्थान (IISc) बैंगलोर द्वारा इसका निदेशक बनने के लिए आमंत्रित किया गया था. उन्होंने 1933 में इस पद को स्वीकार किया, इस पद को धारण करने वाले पहले भारतीय बने. उन्होंने 1937 तक निदेशक के रूप में कार्य किया, हालांकि वे 1948 तक भौतिकी विभाग के प्रमुख के रूप में बने रहे.

1948 में उन्होंने भौतिकी के विभिन्न क्षेत्रों में वैज्ञानिक अनुसंधान करने के लिए बैंगलोर में रमन रिसर्च इंस्टीट्यूट (RRI) की स्थापना की. उन्होंने अपनी मृत्यु तक संस्थान में अपने शोध को जारी रखा.

सी वी रमन की खोज (C.V. Raman Discovery)

वह ‘रमन इफेक्ट’ की खोज के लिए जाने जाते है, या एक फोटॉन के इनलेस्टिक बिखरने के लिए. उन्होंने प्रयोग के माध्यम से दिखाया कि जब प्रकाश एक पारदर्शी पदार्थ का पता लगाता है, तो कुछ विक्षेपित प्रकाश तरंगदैर्ध्य में बदल जाते हैं. यह 20 वीं शताब्दी के शुरुआती भौतिकी में एक जमीनी खोज थी.

Chandrasekhar Venkata Raman Biography in Hindi

पुरस्कार और उपलब्धियां (Awards and Achievements)

उन्होंने 1930 में भौतिकी का नोबेल पुरस्कार “प्रकाश के प्रकीर्णन पर अपने काम के लिए और रमन प्रभाव की खोज के लिए” जीता, विज्ञान में नोबेल पुरस्कार जीतने वाले पहले भारतीय बने.

1954 में विज्ञान के क्षेत्र में उनके अमूल्य योगदान के लिए उन्हें भारत के सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार, भारत रत्न से सम्मानित किया गया.

चंद्रशेखर वेंकट रमन का व्यक्तिगत जीवन (Chandrasekhar Venkata Raman Personal Life)

उन्होंने 1907 में लोकसुंदरी अम्मल से शादी की और उनके दो बेटे थे- चंद्रशेखर और राधाकृष्णन. उन्होंने एक लंबा और उत्पादक जीवन जीया और बहुत अंत तक सक्रिय रहे. 1970 में 82 वर्ष की आयु में उनका निधन हो गया. यह महान वैज्ञानिक एक अन्य उत्कृष्ट वैज्ञानिक और नोबेल पुरस्कार विजेता, सुब्रह्मण्यन चंद्रशेखर के पैतृक चाचा थे.

Loading...

इसे भी पढ़े :

Leave a Comment