ध्रुव जुरेल का जीवन परिचय | Dhruv Jurel Biography in Hindi

ध्रुव जुरेल की जीवनी, जन्म, परिवार |
Dhruv Jurel Biography, Age, Career, Family, Education, Net Worth , Caste, Parents in Hindi

ध्रुव जुरेल भारतीय अंडर-19 टीम के खिलाडी है, जो कि घरेलू टीम उत्तरप्रदेश के लिए खेलते है. वह दाएं हाथ के बल्लेबाज और विकेटकीपर है. वह जब अंडर-19 में विकेटकीपिंग कर रहे थे, तब उन्होंने अपनी विकेटकीपिंग से सभी देखने वालो को एम.एस धोनी की याद दिला दी थी. उन्होंने 2017 में ऐसा कमाल दिखाया है, जो बड़े-बड़े क्रिकेटर के लिए भी मुश्किल है.

ध्रुव ने हिंदुस्तान कॉलेज में दिल्ली, मध्यप्रदेश और आगरा के बीच में हुई टी-20 सीरिज में हिस्सा लिया और एक मैच के दौरान उन्होंने 21 गेंदों पर 100 रन जड़े. इस टूर्नामेंट में वह मैन ऑफ़ द सीरिज भी रहे थे. वह अंडर-19 क्रिकेट वर्ल्ड कप के उप-कप्तान थे और युवा एशिया कप में अंडर-19 टीम के कप्तान बनाये गए थे. उनको आईपीएल 2022 में राजस्थान रॉयल ने 20 लाख के बेस प्राइस पर अपनी टीम में शामिल किया.

जन्म और परिचय

ध्रुव जुरेल का जन्म 21 जनवरी 2001 को उत्तरप्रदेश के आगरा में हुआ था. उनके पिता नेमी चंद जुरैल इंडियन आर्मी में है और वह कारगिल युद्ध जीतने वाले हमारे देश के गौरवशाली जवान है. उनकी माँ एक गृहिणी है और परिवार में एक बड़ी बहन भी है. उनकी बड़ी बहन हमेशा उनको क्रिकेट खेलने में प्रोसाहित करती थी जबकि दूसरी तरफ उनके पिता चाहते थे, कि ध्रुव नेशनल डिफेंस एकेडमी जाए और देश के आर्मी ऑफिसर बने. ध्रुव ने पिता के विरुद्ध क्रिकेट को अपने करियर के रूप में चुना.

पूरा नामध्रुवचंद जुरेल
जन्म21 जनवरी 2001
जन्म स्थानआगरा, उत्तरप्रदेश भारत
उम्र (2022 में)21 साल
बल्लेबाजी के शैलीदाएं हाथ से
घरेलू टीमउत्तरप्रदेश क्रिकेट टीम
पिता का नामनेमी चंद जुरैल
माँ का नामज्ञात नहीं
बहन का नामज्ञात नहीं
कोच का नामपरवेंद्र यादव
अंतरराष्ट्रीय टीमभारतीय अंडर-19
आईपीएल टीमराजस्थान रॉयल (2022 में)
आईपीएल प्राइस20 लाख रूपए (2022 में)
ऊंचाई5’ 6” फीट
वजन65 किलो
आँखों का रंगगहरा भूरा
बालो का रंगकाला

क्रिकेट करियर

ध्रुव को बचपन से अपने पिता की तरह आर्मी में जाना चाहते थे, लेकिन जब वह 10 साल के थे तब उन्होंने आर्मी कैंप पर कुछ लोगों को क्रिकेट खेलते हुए पहली बार देखा. इसके बाद से ही ध्रूव का झुकाव क्रिकेट की और बढ़ने लगा. उनको क्रिकेट का ऐसा शौक चड़ा कि वह सिर्फ क्रिकेटर ही बनाना चाहते थे. वह सिर्फ 12 साल की उम्र में काफी लम्बे-लम्बे शोर्ट मार लिया करते थे और उन्होंने कई सारे मैंचो में अपने बल्लेबाजी और विकेटकीपिंग से लोगो के दिलो में अपनी जगह और एक पहचान बनाई.

उन्होंने साल 2014 में अंडर-17 स्कूल नेशनल क्रिकेट चैपियनशिप, टी-20 में सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाज का ख़िताब मिला था, उस दौरान ध्रुव ने छ: मैंचो में चार शतक और दो अर्ध शतक के साथ 600 से भी ज्यादा रन बनाए. उनको जीवन में अब तक की सबसे बड़ी सफलता अंडर-19 टीम का कप्तान बनने पर मिली, तब उनके परिवार में ख़ुशी का माहौल था और रिश्तेदार, आस पास के लोग के साथ-साथ संयुक्त सचिव तपेश शर्मा पूर्व रणजी खिलाड़ी सर्वेश भटनागर ने भी उनको बधाई दी है.

उनके कप्तान बनने पर कोच परवेंद्र यादव ने बताया कि, “आगरा के खिलाडी ध्रुव का कप्तान के लिए चयन आगरा क्रिकेट टीम के लिए एक बड़ी उपलब्धि है”. उनकी तारीफ में कमेंटेटर नरेंद्र शर्मा का कहना है कि, “ध्रुव ने कई बार अपनी टीम को मैच जीताने में अहम योगदान दिया है.” उन्होंने अपना टी-20 डेब्यू 2020-21 सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी में 10 जनवरी 2021 में किया था और अपना फर्स्ट क्लास डेब्यू 2021-22 रणजी ट्रॉफी में 17 फरवरी 2022 में खेला था.

फॉर्मेट मैचरनचौके छक्के
टी-20 22801
फर्स्ट क्लास 4156250

Leave a Comment