गीता गोपीनाथ का जीवन परिचय | Gita Gopinath Biography In Hindi

गीता गोपीनाथ का जीवन परिचय
Gita Gopinath Biography, Age, Career, Qualification, Family (Husband, Father), IMF Salary, Net Worth, In Hindi

आधुनिकता की दौर में जहां आज कंधे से कंधा मिलाकर काम  करने की बात की जा रही है वहां आज भारतीय बेटियों ने फतह हासिल कर अपनी एक अलग पहचान बनाई है। जिसमें से एक नाम गीता गोपीनाथ का भी है जिन्होंने यह साबित कर दिया है कि यदि महिलाओं को भी अवसर मिले तो वे देश का नाम ऊंचा  करने की क्षमता रखती है।

गीता गोपीनाथ का जीवन परिचय | Gita Gopinath Biography In Hindi

बिंदु (Points)जानकारी (Information)
नाम (Name)गीता गोपीनाथ
जन्म (Date of Birth)8 दिसंबर 1971
आयु (Age)60 वर्ष (2021 तक)
जन्म स्थान (Birth Place)मैसूर, कर्नाटक
पिता का नाम (Father Name)टी.वी. गोपीनाथ
माता का नाम (Mother Name)विजयालक्ष्मी गोपीनाथ
पति का नाम (Husband Name)इकबाल धालीवाल
पेशा (Occupation )भारतीय अमेरिकी अर्थशास्त्री
बच्चे (Children)ज्ञात नहीं
वेतन (Salary)लगभग USD $1-$5 M
Net Worthज्ञात नहीं
भाई-बहन (Siblings)ज्ञात नहीं
अवार्ड (Award)यंग ग्लोबल लीडर

गीता गोपीनाथ का जन्म 8 दिसंबर 1971 में भारत के मैसूर नामक स्थान में हुआ । उनके पिता का नाम टी.वी. गोपीनाथ एवं माता का नाम विजयालक्ष्मी गोपीनाथ है। उनके पिता केरल के कन्नूर जिले में किसान और उद्यमी है।

 शिक्षा संस्थान | Gita Gopinath Education & Career

गीता जी ने अपनी उच्च माध्यमिक शिक्षा निर्मला कान्वेंट हायर सेकेंडरी स्कूल से प्राप्त की । वर्ष 1992 में उन्होंने स्नातक की शिक्षा लेडी श्रीराम कॉलेज, दिल्ली विश्वविद्यालय से प्राप्त की। वर्ष 1994 में उन्होंने अर्थशास्त्र में परास्नातक की शिक्षा दिल्ली विश्वविद्यालय से प्राप्त की।

  •  वर्ष 1996 में उन्होंने अर्थशास्त्र में परास्नातक की शिक्षा वाशिंगटन विश्वविद्यालय से प्राप्त की।
  • इसके बाद वर्ष 2001 में उन्होंने अर्थशास्त्र में PhD की डिग्री प्रिंसटन विश्वविद्यालय से प्राप्त की।

 कार्य क्षेत्र में पदों की नियुक्ति:-

  • वर्ष 2001 से वर्ष 2005 तक गीता गोपीनाथ शिकागो यूनिवर्सिटी में असिस्टेंट प्रोफेसर  रह चुकी है।
  • वर्ष 2005 में गीता गोपीनाथ जी को हार्वर्ड यूनिवर्सिटी में असिस्टेंट प्रोफेसर के रूप में नियुक्त किया गया था।
  • वर्ष 2010 में उन्हें हार्वर्ड यूनिवर्सिटी में प्रोफेसर के पद पर नियुक्त किया गया ।
  • इसके बाद उन्हें वर्ष 2015 में  इंटरनेशनल स्टडीज एंड इकोनॉमिक्स के प्रोफेसर पद के लिए नियुक्त किया गया ।
  • 21 जुलाई 2016 में इन्हें केरल के मुख्यमंत्री के वित्तीय सलाहकार के रूप में नियुक्त किया गया।
  • वर्ष 2018 में इन्हें IMF इंटरनेशनल मॉनेटरी फंड के मुख्य अर्थशास्त्री के रूप में नियुक्त किया गया ।
  • गीता गोपीनाथ IMF के पद पर नियुक्ति पाने वाली द्वितीय भारतीय है । इसके पूर्व रघुराम राजन भी IFM के प्रमुख अर्थशास्त्री रह चुके हैं।
  • गीता गोपीनाथ अमेरिकन इकोनामिक रिव्यू के संपादक और नेशनल ब्यूरो ऑफ इकोनॉमिक्स रिसर्च (NBER) में इंटरनेशनल फाइनेंस एंड माइक्रो इकोनॉमिक्स की सह निर्देशक भी रह चुकी है।
  • अतः इन्हें इकोनामिक एडवाइजर और IMF रिसर्च डिपार्टमेंट के डायरेक्टर पद के लिए भी नियुक्त किया गया है।

 उपलब्धियां (Gita Gopinath Achievements)

  • गीता गोपीनाथ को वर्ष 2011 में वर्ल्ड इकोनामिक फोरम द्वारा यंग ग्लोबल लीडर के सम्मान से नवाजा गया ।
  • इन्हें भारत सरकार की ओर से प्रवासी भारतीय सम्मान मिला।
  • अतः इन्हें अमेरिका की नागरिकता और ओवरसीज भारतीय नागरिकता प्राप्त है।
  • वर्ष 2014 के IMF में इनका नाम 45 वर्ष से कम उम्र वाले विश्व के टॉप 25 इकोनॉमिस्ट की सूची में दर्ज किया है।
  • वर्ष 2019 में फॉरेन पॉलिसी ने गीता गोपीनाथ को टॉप ग्लोबल थिंकर  की सूची में शामिल  किया।

वैवाहिक जीवन | Gita Gopinath Marriage Life

 गीता गोपीनाथ ने वर्ष 1999 में इकबाल धालीवाल से विवाह किया । इकबाल धालीवाल जो वर्ष 1996 में IAS की परीक्षा में उत्तीर्ण हुए थे। इन दोनों का एक पुत्र है जिनका नाम राहुल है।

 गीता गोपीनाथ द्वारा लिखे गए लेख:-

उन्होंने व्यापार, निवेश, अंतरराष्ट्रीय वित्तीय सरकार मुद्रा नीति, कर्ज और उभरते बाजार की समस्याओं पर 40 रिसर्च लेख लिखे हैं।

 वर्तमान गतिविधि:-

 एक इंटरव्यू के दौरान गीता गोपीनाथ में GDP पर अपना बयान देते हुए वैश्विक आर्थिक विकास में गिरावट के लिए भारत को जिम्मेदार बताया है एवं  ग्लोबल ग्रोथ के अनुसार 80% गिरावट के लिए भारत को जिम्मेदार बताया है।   

 गीता गोपीनाथ ने मोदी सरकार के विवादित कृषि कानूनों की तारीफ करते हुए यह बताया है कि केंद्र सरकार की ओर से बनाए गए कानूनों से किसानों की आय में बढ़ोतरी होगी और उन्होंने इस बात पर भी टिप्पणी की है जिसमे कमजोर किसानों को सामाजिक सुरक्षा देने की बात कही है।

इसे भी पढ़े :

Leave a Comment

error: Content is protected !!