राघवन चूड़ामणि का जीवन परिचय | R. Chudamani Biography in Hindi

तमिल भाषा के मशहूर कवि राघवन चूड़ामणि बरल की जीवनी और मुख्य कृतियाँ | Famous Tamil Poet R. Chudamani Biography in Hindi

राघवन चूड़ामणि एक भारतीय तमिल लेखिका है. जिन्होंने अंग्रेजी भाषा में भी बहुत से लघु कथाएं लिखी हैं इनकी चूड़ामणि राघवन एक प्रसिद्ध लघु कथा है. इसी लघु कथा के कारण बहुत जगह ये चूड़ामणि नाम से प्रसिद्ध है.

बिंदु(Points) जानकारी (Information)
नाम (Name) राघवन चूड़ामणि
जन्म (Birth) 10 जनवरी 1931
मृत्यु (Death) 13 सितम्बर 2010
जन्म स्थान (Birth Place) चेन्नई
कार्यक्षेत्र (Profession) तमिल लेखिका
सम्मान (Award) कलैगनार एम॰ करूणानिधि अवार्ड

राघवन चूड़ामणि का जीवन परिचय (R. Chudamani Biography)

राघवन चूड़ामणि का जन्म 10 जनवरी 1931 को चेन्नई में हुआ था. वे बचपन से ही शारीरिक रूप से दिव्यांग(विकलांग) थी. परिवार में इनकी तीन बहने और एक भाई था. शारीरिक रूप से दिव्यांग होने के कारण वे स्कूल नहीं जा पाती थी. जिसके कारण इन्होंने घर पर ही अपनी बहन पद्मा द्वारा शिक्षा प्राप्त की और अपने नियमित प्रयासों से इन्होंने पेंटिंग करना भी सीखा. राघवन चूड़ामणि का बचपन से ही झुकाव तमिल साहित्य और भाषा सीखने की ओर था. वे “कोनाष्टई” पुस्तक से अधिक प्रभावित थी. इन्हें अपनी कलात्मक माँ कनकवल्ली द्वारा बहुत प्रोत्साहन मिला. राघवन चूड़ामणि ने सिर्फ 20 वर्ष की उम्र में अपनी पहली लघु कथा कावेरी वर्ष 1957 में प्रकाशित की. वर्ष 1964 में इन्होंने अपना पहला उपन्यास मनाठुक्कू इनियावल(Manathukku Iniyaval) प्रकाशित किया. जिसके लिए इन्हें नारायण स्वामी अय्यर मेमोरियल अवॉर्ड कलाईमगल द्वारा सम्मानित किया गया था.

वर्ष 1961 में इनके कई लघु कथाओं और उपन्यासों के भागो को रंगमंच के द्वारा नाटको के माध्यम से प्रस्तुत किया जाने लगा. इनकी कई कहानियों को दूसरी अन्य भाषाओँ में भी अनुवाद किया गया. वर्ष 1961 में इन्हें अनंदा विकतन अवार्ड (Ananda Vikatan award) अपने उपन्यास इरुवर कन्दनर (Iruvar Kandanar) के लिए दिया गया. वर्ष 1966 में इन्हें साहित्य के क्षेत्र में किये अपने उत्कृष्ट कार्यों के लिए इन्हें तमिलनाडु सरकार द्वारा सम्मानित किया गया.

वर्ष 1992 में इन्हें लिल्ली देवासिगामिनी अवार्ड (Lilly Devasigamani Award) प्रदान किया गया.

वर्ष 2002 के चेन्नई पुस्तक मेले में कलैगनार एम॰ करूणानिधि अवार्ड से पुरुस्कृत किया गया.

राघवन चूड़ामणि की मृत्यु(R. Chudamani Death)

राघवन चूड़ामणि की मृत्यु 13 सितम्बर 2010 को 79 वर्ष की उम्र में हुई.

Loading...

इसे भी पढ़े :

Leave a Comment