इलायची खाने के स्वास्थ्यवर्धक लाभ | Cardamom Benefits on Health in Hindi

इलायची खाने के स्वास्थ्यवर्धक लाभ, फायदे, वानस्पतिक नाम, औषधीय गुण | Health benefits of cardamom, botanical names, medicinal properties in Hindi

इलायची (Cardamom) मसाले को एक तीव्र लेकिन मनभावन गंध द्वारा पहचाना जा सकता है. इलायची भारतीय और मध्य पूर्वी व्यंजनों का एक लोकप्रिय हिस्सा हैं. इलायची दूधिया मिठाइयों और सुगंधित चावल के व्यंजनों के लिए महत्वपूर्ण घटक है. इलायची का वानस्पतिक नाम एलेटेरिआ कार्डामोमम (Elettaria Cardamomum) है और इसे हिंदी में इलायची, कन्नड़ में इलाकी, मलयालम में इलाक्काई, तेलुगु में येलाकुलु और सिंधी में फोटा के नाम से भी जाना जाता है.

क्या आप जानते हैं कि ग्वाटेमाला दुनिया में इलायची का सबसे बड़ा उत्पादक है, हालांकि इसे देशी नहीं माना जाता है. भारत दूसरे सबसे बड़े उत्पादक के रूप में पीछे चल रहा है. हम जिस इलायची का उपयोग करते हैं, वह वास्तव में एक बीज की फली है. प्रत्येक बीज की फली में एक कर्कश, सूखा बाहरी आवरण होता है जिसमें छोटे गहरे भूरे या काले रंग के बीज होते हैं, इलायची की सुगंध का मुख्य स्रोत हैं. इलायची की दो मुख्य किस्में हैं – हरी और काली.

हरी इलायची अधिक स्वाद के साथ छोटी होती है जबकि काली अधिक बड़ी होती है और इसमें हल्का स्वाद होता है. इसके कारण हरी इलायची मिठाइयों और डेसर्ट के लिए पसंद की जाती है, जबकि दोनों का उपयोग दिलकश व्यंजनों में किया जाता है.

केसर और वेनिला के बाद, इलायची दुनिया का सबसे महंगा मसाला है. जिसमें हरे रंग काले रंग की तुलना में थोड़ा अधिक महंगा है. खाना पकाने के अलावा इलायची का उपयोग क्रीम, साबुन और इत्र जैसे व्यक्तिगत उत्पादों को बनाने में भी किया जाता है. इलायची के बीजों से निकाले गए आवश्यक तेल का उपयोग उन दवाओं को बनाने के लिए किया जाता है जिनका उपयोग पारंपरिक चिकित्सा में किया जाता है जैसे कि आयुर्वेद के साथ-साथ कोरियाई और चीनी दवा.

इलायची के स्वास्थ्य लाभ (Cardamom Benefits on Health)

  1. एड्स पाचन
  2. इलायची के सबसे प्रसिद्ध स्वास्थ्य लाभों में से एक यह है कि यह पाचन में मदद करता है. हमारे पाचन ग्रंथियों को सक्रिय करने, पाचन एंजाइमों को सक्रिय करने के लिए सुगंध ही महत्वपूर्ण है. इलायची में रसायन होते हैं जो पाचन तंत्र के माध्यम से भोजन को धक्का देने में मदद करते हैं, चय-अपचय को बढ़ावा देते हैं और वजन कम करते हैं.

  3. मतली और पेट की परेशानी से राहत दिलाता है
  4. सुस्त पाचन में सुधार के अलावा, इलायची पेट की अन्य परेशानियों जैसे मतली और अल्सर में भी मदद कर सकती है. इलायची सहित मसालों का मिश्रण रोगियों में दवा-संबंधी मतली को काफी हद तक कम करने के लिए पाया गया है. इलायची का अर्क पेट के अल्सर को ठीक करने के लिए उपयोग किया जाता हैं.

  5. सांसों की बदबू को रोकता है
  6. इलायची में सिनेोल (एंटीमाइक्रोबियल गुणों वाला एक यौगिक) होता है, जो सांस खराब करने वाले बैक्टीरिया से लड़ता है. इसके कारण इलायची का इस्तेमाल अक्सर मीठा पान बनाने में किया जाता है. यहां तक ​​कि विश्व प्रसिद्ध च्यूइंग गम कंपनी Wrigley ने भी अपने उत्पादों में इलायची का इस्तेमाल किया है.

  7. डेंटल हेल्थ में सुधार
  8. यह सिर्फ मुंह की दुर्गन्ध ही दूर नहीं करती हैं बल्कि यह समग्र दंत स्वास्थ्य में भी सुधार कर सकती है. यह रोगाणुरोधी गुण कैविटी के लिए जिम्मेदार बैक्टीरिया से लड़कर मुंह को साफ रखने में मदद करता है. अध्ययनों से पता चला है कि इलायची का अर्क मुंह के बैक्टीरिया को 54% तक कम कर सकता है.

  9. ब्लड प्रेशर कम करता है
  10. रक्तचाप को नियंत्रित करने की अपनी क्षमता के लिए इलायची को हृदय-स्वस्थ मसाले के रूप में जाना जाता है. अध्ययनों से पता चला है कि एक दिन में सिर्फ 1.5 ग्राम पिसी हुई इलायची का सेवन उच्च रक्तचाप के रोगियों के लिए महत्वपूर्ण साबित हो सकता है. माना जाता है कि इलायची में मौजूद एंटीऑक्सिडेंट इस लाभ के लिए जिम्मेदार होते हैं.

  11. सूजन से लड़ता है
  12. सूजन शरीर पर कई प्रतिकूल प्रभाव डाल सकती है, खासकर जब उम्र बढ़ने के साथ. इलायची में ऐसे यौगिक होते हैं जो कोशिकाओं को क्षति से बचाकर सूजन से लड़ने में मदद कर सकते हैं.

इसे भी पढ़े :

Leave a Comment

error: Content is protected !!