स्वास्थ्य और स्वच्छता में ग्रामीण महिलाओं की स्थिति | Health and Hygiene of Tribal Indian Women in Hindi

स्वास्थ्य और स्वच्छता में भारत की ग्रामीण महिलाओं की स्थिति और चुनौतियाँ | Status and Challenges in Health and Hygiene of Tribal Indian Women in Hindi

भारत सरकार ने सार्वजनिक स्वास्थ्य में सुधार करने के उद्देश्य के साथ स्वच्छता कार्यक्रम लागू किया है. अच्छी स्वास्थ्य सुविधाएं महिलाओं के सामान्य रूप से समग्र स्वास्थ्य और विशेष रूप से मासिक धर्म स्वच्छता और स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण घटकों में से एक है. इस मिशन का उद्देश्य सभी पिछड़े और जनजातियों जिले की महिलाओं को समग्र स्वच्छता के प्रति जागरूक करना तथा मासिक धर्म स्वच्छता की प्रचलित कुप्रथाओं को दूर करना हैं.

भारत में आज भी महिलाएं इन मुद्दों पर खुलकर चर्चा नहीं कर पाती हैं. आज भी भारतीय समाज का अधिकांश लोग सांस्कृतिक मान्यताओं के बंधन और मासिक धर्म स्वच्छता के महत्व के बारे में जागरूकता की कमी इन मुद्दों पर सुधार करने में उत्पन्न प्रमुख बाधाओं में से एक हैं. स्वच्छता बेहतर स्वास्थ्य का प्रमुख कारक हैं. साफ़ पीने का पानी कई स्वास्थ्य समस्याओं और बीमारियों की रोकथाम की ओर पहला कदम हैं.

भारत सरकार द्वारा कई कदम उठाए गए जिनमे ग्रामीण क्षेत्रों में प्रत्येक घर के लिए अलग-अलग शौचालयों का निर्माण करना, घर-घर कचरा उठाने का प्रबंधन, सार्वजानिक स्थानों कचरा व गंदगी फ़ैलाने पर दंडात्मक करवाई करना, महिलाओं के लिए सैनिटेशन पैड्स की उपयोगिता को लेकर कार्यक्रम और उनका मुफ्त प्रबंधन आदि शामिल हैं. पिछले कुछ समय में स्वच्छ भारत मिशन और लोगों की जागरूकता के कारण बदलाव के परिणाम दिखने लगे हैं.

आज भी भारत के बहुत से ग्रामीण क्षेत्रों में महिलाओं को मासिक धर्म चक्र के दौरान रुढ़िवादी नियमों का पालन करना पड़ता हैं. इन दिनों में उन्हें अलग कमरे में रखा जाता हैं. घर के भोजन गृह में प्रवेश नहीं दिया जाता है. परन्तु आधुनिक युग की साक्षर महिलाओं के प्रयासों से पीरियड्स के प्रति लोगो का नजरिया बदलने लगा हैं.

स्वच्छता, स्वास्थ्य और स्वस्थ जीवन शैलियों के संबंध में आधुनिक विज्ञान संचार के माध्यम से जनजातीय समुदायों के बीच शैक्षणिक जागरूकता प्रदान करने के लिए अपने पारंपरिक विश्वासों, धर्मों और स्थानीय मुद्दों और आधुनिकीकरण के विचारों को एकीकृत किया जाना चाहिए. डब्ल्यूटीओ ने भारत में किये गए सर्वे की रिपोर्ट में यह कहा गया हैं कि केवल 69% प्राथमिक विद्यालयों में लड़की के लिए शौचालय हैं.

ग्रामीण इलाकों में महिला स्वच्छता की चुनौती (Challenges of Hygiene of Tribal Indian Women)

पिछड़े समुदायों और दूरस्थ इलाकों में स्वच्छता और स्वच्छता शिक्षा की चुनौतियां निम्नानुसार हैं.

  • शिक्षा और जागरूकता की कमी
  • ग्रामीण क्षेत्रों में आज भी प्राथमिक, माध्यमिक और उच्चतर माध्यमिक विद्यालयों, व्यावसायिक प्रशिक्षण संस्थानों और कॉलेजों की कमी हैं.
  • गरीब आर्थिक विकास और स्थानीय निवासियों की वार्षिक आय में कमी.
  • धार्मिक और जाति विवाद अलग-अलग समुदायों, जनजातियों के समूह और समूहों के बीच अंतर और अंतर-धार्मिक संघर्ष और गलतफहमी के साथ सांप्रदायिक रेखाओं के साथ समाज को विखंडित करता है. इन पर किसी भी वैज्ञानिक और तर्कसंगत स्पष्टीकरण पर उनके विश्वास या विश्वास को नुकसान पहुंचाने पर अप्रत्यक्ष प्रभाव पड़ता है.
  • माता-पिता के बीच अपने बच्चों को स्कूलों में भेजने के लिए हर्ष और उत्साह की कमी, भले ही ये सुविधाएं उपलब्ध हों. जिसके कारण उन्हें आधुनिक शिक्षा से अवसरों से दूर होना पड़ता हैं.
  • कई परिवारों में अपने बच्चों को पहली पीढ़ी के स्कूल जाने वाले के रूप में जाना जाता है और इसलिए उन्हें अपनी शिक्षा जारी रखने और आधुनिक जीवन शैलियों को अपने पुराने पारंपरिक तरीकों से अलग करने में काफी चुनौतियां का सामना करना पड़ता हैं.
  • बच्चों को स्कूल जाने से रोकने में पारंपरिक नकारात्मक धर्म और स्थानीय रीति-रिवाज.
  • सरकार और स्थानीय प्रशासन द्वारा प्रदान किए गए अपने मूल अधिकारों और विशेषाधिकारों के बारे में समझने की कमी.
  • खराब बुनियादी ढांचे, कनेक्टिविटी और संचार नेटवर्क के कारण पिछड़े क्षेत्रों और दूरदराज के स्थानों में विकास और प्रगति की कमी.
  • आधुनिक स्वास्थ्य इकाइयों और सुविधाओं की कमी.
  • कुल मिलाकर, खराब आर्थिक विकास के साथ खराब शिक्षा और जागरूकता पिछड़े समुदायों और दूरस्थ ग्रामीण इलाकों में रहने वाले लोगों को धक्का दे रही है.

इसे भी पढ़े :

loading...
Shashank Sharma

Shashank Sharma

शशांक दिल से देशी वेबसाइट के कंटेंट हेड और SEO एक्सपर्ट हैं और कभी कभी इतिहास से जुडी जानकारी पर लिखना पसंद करते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *