मिशन शक्ति क्या हैं उद्देश्य और महत्व | Mission Shakti Objectives and signification in Hindi

मिशन शक्ति के उद्देश्य और महत्व से जुडी जानकारियां | Mission Shakti Objectives, signification, Anti-satellite (ASAT) System in Hindi

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को ओडिशा के एपीजे अब्दुल कलाम द्वीप (या व्हीलर द्वीप) लॉन्च कॉम्प्लेक्स से एक एंटी-सैटेलाइट हथियार के भारत के परीक्षण के मिशन शक्ति की सफलता की घोषणा करने के लिए राष्ट्र को संबोधित किया. भारत ने डॉ.पी.जे अब्दुल कलाम द्वीप से एंटी-सैटेलाइट सिस्टम (ए-सैट) का परीक्षण किया है, जिसे पहले ओडिशा के तट से दूर एक द्वीप व्हीलर द्वीप के रूप में जाना जाता था. इस परीक्षण को मिशन शक्ति नाम दिया गया.

बिंदु(Points) जानकारी (Information)
नाम (Name) मिशन शक्ति
तारीख (Date) 27 मार्च 2019
किसके द्वारा घोषणा की गई (Announced by whom) प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा
उद्देश्य (Objective) एंटी-सैटेलाइट सिस्टम का परीक्षण
अन्य देश जिनके पास तकनीक हैं (Other countries which have technology) अमेरिका, चीन और रूस

मिशन शक्ति (Mission Shakti)

भारत ने लो अर्थ ऑर्बिट (300 किमी की ऊंचाई) में एक जीवित उपग्रह को सफलतापूर्वक नष्ट कर दिया. इस परीक्षण के साथ भारत अब अमेरिका, रूस और चीन के बाद चार देशों की लीग में शामिल हो गया जिनके पास ऐसी तकनीक है.

एंटी-सैटेलाइट (A-SAT) सिस्टम (Anti-Satellite System)

यह देश की सुरक्षा के साथ छेड़छाड़ करने पर उपग्रहों पर हमला करने के लिए मिसाइल आधारित प्रणाली है. यह 2 तरह का होता है- जमीन से या विमानों से लॉन्च करने पर आधारित होता है.
डिफेंस रिसर्च एंड डेवलपमेंट ऑर्गनाइजेशन (DRDO) ने पूरी तरह से स्वदेशी तौर पर एंटी-सैटेलाइट (ASAT) को विकसित किया है.

मिशन शक्ति का महत्व (Mission Shakti Significance)

बड़ी संख्या में महत्वपूर्ण प्रयोग अब उपग्रह आधारित हैं. इनमें नेविगेशन सिस्टम, संचार नेटवर्क, प्रसारण, बैंकिंग प्रणाली, शेयर बाजार, मौसम पूर्वानुमान, आपदा प्रबंधन, भूमि और महासागर मानचित्रण और निगरानी उपकरण और सैन्य अनुप्रयोग शामिल हैं.

एक उपग्रह को नष्ट करने से ये अनुप्रयोग बेकार हो जाएंगे. यह मानव जीवन के लिए कोई खतरा पैदा किए बिना, दुश्मन के बुनियादी ढांचे को पंगु बना सकता है. इसका उद्देश्य अंतरिक्ष परिसंपत्तियों और भारत की समग्र सुरक्षा की सुरक्षा करने की क्षमता को मजबूत करना था.

मिशन शक्ति पर अंतर्राष्ट्रीय प्रतिक्रियाएं (International Reaction on Mission Shakti )

  1. चीन ने कहा है कि उसे उम्मीद है कि सभी देश बाहरी अंतरिक्ष में शांति और शांति बनाए रखेंगे.
  2. पाकिस्तान ने कहा है कि अंतरिक्ष मानव जाति की साझी विरासत है और हर देश की ज़िम्मेदारी है कि वह उन कार्यों से बचें जिनसे इस क्षेत्र का सैन्यीकरण हो सके
  3. अमेरिका ने कहा है कि वह अंतरिक्ष में सुरक्षा और सुरक्षा पर सहयोग सहित भारत के साथ अंतरिक्ष और वैज्ञानिक और तकनीकी सहयोग में साझा हितों को आगे बढ़ाने के लिए जारी रहेगा. हालांकि इसने अंतरिक्ष मलबे के मुद्दे पर चिंता व्यक्त की.

मिशन शक्ति पर भारत का रुख (India’s Stand on Mission Shakti)

विदेश मंत्रालय ने कहा है कि भारत आउटर स्पेस के हथियारकरण के खिलाफ है और अंतरिक्ष आधारित संपत्तियों की सुरक्षा और सुरक्षा को मजबूत करने के अंतरराष्ट्रीय प्रयासों का समर्थन करता है. भारत ने हमेशा कहा है कि अंतरिक्ष का उपयोग केवल शांतिपूर्ण उद्देश्यों के लिए किया जाना चाहिए.

बाह्य अंतरिक्ष की अंतर्राष्ट्रीय संधियाँ (International treaties on Outer Space)

संयुक्त राष्ट्र संघ बाह्य अंतरिक्ष संधि 1967 : यह बाहरी अंतरिक्ष में केवल सामूहिक विनाश के हथियारों को प्रतिबंधित करता है, न कि सामान्य हथियारों को. भारत ने 1982 में इसकी पुष्टि की.

संयुक्त राष्ट्र संघ ट्रांसपेरेंसी और कॉन्फिडेंस बिल्डिंग मेजर मीजर्स (टीसीबीएम) : इसमें संयुक्त राष्ट्र संघ रजिस्टर में अंतरिक्ष वस्तुओं का पंजीकृत करना, पूर्व-लॉन्च सूचनाएं आदि शामिल हैं. भारत इन विवरणों को संयुक्त राष्ट्र के साथ साझा कर रहा है.

इंटर-एजेंसी स्पेस डेब्रिस कोआर्डिनेशन कमेटी(IADC) : मानव निर्मित और प्राकृतिक मलबे के मुद्दों से संबंधित गतिविधियों पर विश्वव्यापी समन्वय के लिए एक अंतरराष्ट्रीय सरकारी मंच है. भारत, अंतरिक्ष मलबे प्रबंधन के संबंध में IADC की सभी गतिविधियों में भाग लेता है.

भारत बाहरी अंतरिक्ष में हथियारों के अप्रसार पर संयुक्त राष्ट्र संघ के प्रस्ताव का समर्थन करता हैं.

इसे भी पढ़ें:

Leave a Comment

error: Content is protected !!