लेखक परिचय दास का जीवन परिचय | Parichay Das (Writer) Biography in Hindi

लेखक परिचय दास का जीवन परिचय
Parichay Das (Writer) Biography, Poems, Awards, Rachnaye, Awards
, Books in Hindi

परिचय दास एक भारतीय लेखक, निबंधकार, कवि और समकालीन भोजपुरी कविता के संपादक हैं. वह भोजपुरी, मैथिली और हिंदी में लिखते हैं. परिचय दास जी का जन्म 1 मार्च 1964 को मऊ जिले के रामपुर कांधी गाँव, उत्तर प्रदेश, में हुआ था. इनके पिता का नाम रवींद्र नाथ श्रीवास्तव है. परिचय दास दिल्ली सरकार के सचिव, हिंदी अकादमी, मैथिली के सचिव और दिल्ली सरकार के भोजपुरी अकादमी के सचिव थे.

Parichay Das (Writer) Biography in Hindi

लेखक परिचय दास का जीवन परिचय | Parichay Das (Writer) Biography in Hindi

बिंदु (Points)जानकारी (Information)
नाम (Name)परिचय दास
जन्म (Date of Birth)1 मार्च 1964
आयु 56 वर्ष (2020 तक)
जन्म स्थान (Birth Place)रामपुर कांधी गाँव, उत्तर प्रदेश
पिता का नाम (Father Name)रवींद्र नाथ श्रीवास्तव
माता का नाम (Mother Name)ज्ञात नहीं
पत्नी का नाम (Wife Name)ज्ञात नहीं
पेशा (Occupation )लेखक, कवि
लेखन शेली भोजपुरी, मैथिली
अवार्ड (Award)भोजपुरी कीर्ति सम्मान

परिचय दास का साहित्यिक सफ़र

उन्होंने 2012 में केंद्रीय साहित्य अकादमी के प्रतिनिधि के रूप में काठमांडू में भोजपुरी पर एक लेक्चर दिया. उन्होंने 2011 में दिल्ली में सार्क (SAARC) साहित्य सम्मेलन में अपनी कविताओं का वाचन किया.

परिचय दास मैथिली-भोजपुरी अकादमी और दिल्ली सरकार के हिंदी अकादमी के सचिव के रूप में कार्य कर चुके हैं. उन्होंने अकादमियों की पत्रिकाओं और इंद्रप्रस्थ भारती के संपादक के रूप में भी काम किया है. उन्होंने भोजपुरी भाषा में एक महत्वपूर्ण रचनात्मक साहित्यिक पुस्तक का संपादन किया, जो भिखारी ठाकुर पर आधारित है. भिखारी ठाकुर एक प्रसिद्ध अभिनेता और नाटककार थे. इन्होने 25 से अधिक सांस्कृतिक पैकेजों का संपादन किया है: मणिपुरी नृत्य, कुचिपुड़ी नृत्य, भारत का संगीत वाद्ययंत्र (2 वॉल्यूम), भारत की वास्तुकला, कपड़ा डिजाइन (2 वॉल्यूम), भारत में पारंपरिक रंगमंच

संपादित पत्रिकाएँ

  • इंद्रप्रस्थ भारती, हिंदी अकादमी, दिल्ली द्वारा प्रकाशित एक हिंदी साहित्यिक और सांस्कृतिक पत्रिका है,
  • श्रोतवासिनी – सीसीआरटी, भारत सरकार द्वारा प्रकाशित एक साहित्यिक-सांस्कृतिक पत्रिका
  • संस्कृति – सीसीआरटी, भारत सरकार द्वारा प्रकाशित साहित्यिक-सांस्कृतिक पत्रिका
  • प्रदन्या – एक सामाजिक-सांस्कृतिक, राजनीतिक पत्रिका
  • परिछन – मैथिली-भोजपुरी अकादमी, दिल्ली द्वारा प्रकाशित एक साहित्यिक पत्रिका

प्रमुख प्रकाशित कृतियाँ –

कविता संग्रह-

‘संसद भवन की छत पर खड़ा हो के’, ‘एक नया विन्यास’, ‘युगपत समीकरण में’, ‘पृथ्वी से रस ले के’, ‘चारुता’, ‘आकांक्षा से अधिक सत्वर’, ‘धूसर कविता’, ‘कविता चतुर्थी’, ‘अनुपस्थित दिनांक’, ‘मद्धिम आंच में’, ‘लिपि-अलीपी’, ‘स्वप्न’,

सीताकांत महापात्र की रचनात्मकता पर संपादित पुस्तकें | Parichay Das Books

‘मनुष्यता की भाषा का मर्म’ और ‘स्वप्न संपर्क स्मृति’

अन्य- भारत की पारम्परिक नाट्य शैलियाँ (दो खण्डों में) तथा ‘भारत के पर्व (दो खण्डों में)

परिचय दास सम्मान एवं पुरस्कार | Parichay Das Awards

उन्होंने 30 से अधिक पुस्तकों का संपादन किया है. उन्हें 2012 में भारतीय अनुवाद परिषद (ट्रांसलेटर एसोसिएशन ऑफ इंडिया) द्वारा सृजन एवं अनुवाद (लेखन और अनुवाद) के लिए द्वि-वागीश सम्मान मिला था.

उन्हें भोजपुरी कीर्ति सम्मान, भारतीय दलित साहित्य सम्मान, श्याम नारायण पांडेय सम्मान, संपादक की पसंद पुरस्कार, रोटरी क्लब अवार्ड, माटी के लाल सम्मान और दामोदर दास चतुर्वेदी भाषा-साहित्य सम्मान प्राप्त हुआ है.

लेक्चर / कविता वाचन –

  • वैश्वीकरण और साहित्य पर लेक्चर, गोरखपुर विश्वविद्यालय (मार्च, 2014)
  • साहित्य अकादमी दिल्ली में कविता पाठ (2012)
  • अध्यक्ष, भारतीय कविता उत्सव, मातृभूमि फाउंडेशन, दिल्ली (2012)
  • भारतीय उपन्यासों पर व्याख्यान, कमला नेहरू कॉलेज, दिल्ली विश्वविद्यालय (2012)

काठमांडू (साहित्य अकादमी प्रतिनिधि) में भोजपुरी साहित्य और भाषा पर लेक्चर (2012) –

  • भूमंडलीकरण और संस्कृति – साहित्य (अक्टूबर, 2007, इंडियन बिजनेस एकेडमी, ग्रेटर नोएडा)
  • भूमंडलीकरण, विश्वबंधुत्व और साहित्य-संस्कृति (दिसंबर, 2007, इंडियन बिजनेस एकेडमी, ग्रेटर नोएडा)
  • साहित्य और संस्कृति (केन्द्रीय सचिवालय हिंदी समिति)

इसके अलावा दिल्ली में 50 अन्य लेक्चर

आयोजन और गतिविधियाँ: सांस्कृतिक कार्यक्रम

  • हिंदी और मैथिली-भोजपुरी अकादमी, दिल्ली के लिए 100 से अधिक सांस्कृतिक गतिविधियों (साहित्य, कला, संस्कृति, नाटक, नृत्य आदि) का आयोजन.
  • संस्कृति और विकास
  • हिंदी: समकालीन दृश्य

इसे भी पढ़े :

Loading...

Leave a Comment