वी. टी. भट्टाथिरिपाद का जीवन परिचय | V. T. Bhattathiripad Biography in Hindi

वी. टी. भट्टाथिरिपाद की जीवनी [जन्म, शिक्षा, पुरुस्कार] और प्रसिद्द रचनाएँ | V. T. Bhattathiripad Biography (Birth, Education, Awards) and Famous Book in Hindi

वी. टी. भट्टाथिरिपाद (V. T. Bhattathiripad) सामाजिक आलोचक, नाटककार और एक प्रमुख स्वतंत्रता सेनानी थे जिन्होंने नंबूथिरी समुदाय में मौजूद जातिवाद और रूढ़िवाद को हटाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी.

बिंदु(Points) जानकारी (Information)
नाम (Name) वी. टी. भट्टाथिरिपाद
पूरा नाम (Full Name) वेलीथुरुथी थजथु करुथ पटेरी रमन भट्टाथिरिपद
जन्म (Birth) 26 मार्च 1896
मृत्यु (Death) 12 जनवरी 1982
जन्म स्थान (Birth Place) मेज्हथुर गाँव
कार्यक्षेत्र (Profession) स्वतंत्रता सेनानी और लेखक

वी टी भट्टाथिरिपाद जन्म और शिक्षा (V. T. Bhattathiripad Birth and Education)

वी टी भट्टाथिरिपाद का जन्म 26 मार्च 1896 को केरल के पलक्कड़ के मेज्हथुर गाँव में हुआ था. इनके पिताजी का नाम ठुप्पन भट्टाथिरिपाद था. इनकी माता का नाम श्रीदेवी अन्दर्जनाम था. वे ग्निहोत्री के परिवार से अपने पिता के पक्ष में थे और उनकी मां की तरफ से आदि शंकर की वंशावली थी.

उन्होंने ब्राह्मण समाज में विधवा विवाह को प्रोत्साहित किया और “विशेष रूप से नंबूदिरी समुदाय और बड़े पैमाने पर समाज” के रूढ़िवादी प्रथाओं में सुधार करने की कोशिश की. उन्होंने ब्राह्मण समाज में पहली मिश्रित दौड़ शादी का आयोजन किया.

इन्होने ही केरल प्रगतिशील थियेटर आंदोलन किया था. इन्होने अपने रंगमंच के साथियों के साथ जगह-जगह समाज सुधारक नाटक का आयोजन किये और समाज में व्याप्त रूढ़िवादिता और कुरीतियों को समाप्त करने का प्रयास किया. वर्ष 1929 में इन्होने अपना पहला नाटक लिखा था जिसका नाम अदुक्कलायिलिनम अरुंगठेक्कु हैं. यह नाटक मलयालम भाषा का पहला नाटक था. यह नाटक जातिवाद पर बुराइयों पर एक वज्र के बल की भांति प्रहार था.

वी टी भट्टाथिरिपद कॉलेज (V. T. Bhattathiripad College)

अपने विशिष्ट कार्यों के कारण केरल सरकार द्वारा वर्ष 1982 में श्रीकृष्णपुरम, पलक्कड़ जिले में इनके नाम पर एक महाविद्यालय बनाया गया.

वी टी भट्टाथिरिपाद अवार्ड (V. T. Bhattathiripad Awards)

वर्ष 1972 में इन्हें केरल साहित्य अकादमी पुरस्कार जीता था.

वी टी भट्टाथिरिपाद द्वारा लिखित पुस्तकें (V. T. Bhattathiripad Books)

  1. कन्नीरुम किनावुम (Kanneerum Kinavum: My Tears, My Dreams)
  2. कन्नीरुम किनावुम (KANNEERUM KINAVUM)
  3. वी टी युदे संपूर्ण कृतिकाल (V T Yude Sampoorna Kruthikal)
  4. अदुक्कालाय्ल्निन्नु अरंगाठेक्को (ADUKKALAYILNINNU ARANGATHEKKU)
  5. वी टी युदे कथाकाल (V T Yude Kathakal)

वी टी भट्टाथिरिपाद मृत्यु (V. T. Bhattathiripad Death)

इनकी मृत्यु 12 जनवरी 1982 को 85 वर्ष की उम्र में हुई थी.

इसे भी पढ़े :

Ujjawal Dagdhi

Ujjawal Dagdhi

उज्जवल दग्दी दिल से देशी वेबसाइट के मुख्य लेखकों में से एक हैं. इन्हें धार्मिक, इतिहास और सेहत से जुडी बातें लिखने का शौक हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *