रूबेला के लक्षण, कारण और उपचार | Rubella Symptoms, Reason and Treatment in Hindi

रूबेला (जर्मन खसरा) के लक्षण, फ़ैलाने के कारण, रोकथाम और उपचार की जानकारी | Symptoms, Reason, Prevention and Treatment of Rubella in Hindi

रूबेला जिसे जर्मन खसरा या तीन-दिन का खसरा भी कहा जाता है, एक संक्रामक वायरल संक्रमण है. जिसे इसके विशिष्ट लाल चकत्ते द्वारा जाना जाता है. रूबेला और खसरा (रुबेला) समान नहीं है. हालांकि दो बीमारियां लाल चकत्ते सहित कुछ विशेषताओं को साझा करती हैं. हालांकि रूबेला खसरा की तुलना में एक अलग वायरस के कारण होता है और यह संक्रामक है.

खसरा-कण्ठमाला-रूबेला (MMR) वैक्सीन आमतौर पर बच्चों को स्कूल की उम्र से पहले दो बार दिया जाता है. रूबेला को रोकने में अत्यधिक प्रभावी है. वैक्सीन के व्यापक उपयोग के कारण रोग नियंत्रण और रोकथाम केंद्र माता-पिता को यह सुनिश्चित करने के लिए सावधान करते हैं कि उनके बच्चों को फिर से उभरने से बचाने के लिए टीका लगाया जाता है.

रूबेला के लक्षण (Rubella Symptoms)

विशेषकर बच्चों में रूबेला के लक्षण अक्सर इतने हल्के होते हैं कि उनकी पहचान करना मुश्किल होता है. यदि लक्षण होते हैं तो वे आमतौर पर वायरस के संपर्क में आने के दो से तीन सप्ताह बाद दिखाई देते हैं. वे आमतौर पर एक से पांच दिनों तक रहते हैं और इसमें निम्नलिखित बातें शामिल है.

लक्षण:

  • 102 F (38.9 C) या कम का हल्का बुखार
  • सिरदर्द
  • रूखी या बहती नाक
  • संक्रमित लाल आँखें
  • गुलाबी दाने जो चेहरे पर शुरू होते है और फिर बाहों और पैरों तक फैल जाता है.
  • विशेष रूप से युवा महिलाओं में जोड़ो के दर्द की समस्या आती हैं.

गर्भवती महिलाओं के लिए सावधानियाँ (Precaution for Pregnant Woman)

यदि आपको लगता हैं कि आपको ऊपर दिए गए निम्न लक्षण दिखाई दे रहे हैं इस इस परिस्थिति में तुरंत डॉक्टर से संपर्क करे. देर होने पर यह संक्रमण बच्चे के लिए खतरनाक साबित हो सकता हैं.

यदि आप गर्भवती होने पर विचार कर रही हैं, तो यह सुनिश्चित करने के लिए अपने टीकाकरण रिकॉर्ड की जाँच करें कि आपको अपना एमएमआर टीका प्राप्त हुआ है. यदि आप गर्भवती हैं और आप रूबेला को अनुबंधित करती हैं. विशेष रूप से आपके पहले त्रैमासिक के दौरान, वायरस विकासशील भ्रूण में मृत्यु या गंभीर जन्म दोष पैदा कर सकता है. गर्भावस्था के दौरान रूबेला जन्मजात बहरापन का सबसे आम कारण है. गर्भावस्था से पहले रूबेला से बचाव करना सबसे अच्छा है.

यदि आप गर्भवती हैं, तो आपको रूबेला के लिए प्रतिरक्षा के लिए एक नियमित जांच करवानी होगी. लेकिन अगर आपको कभी वैक्सीन नहीं मिली है और आपको लगता है कि आप रूबेला के संपर्क में आ गए हैं, तो तुरंत अपने डॉक्टर से संपर्क करें. एक रक्त परीक्षण यह पुष्टि कर सकता है कि आप पहले से ही प्रतिरक्षा में हैं.

फैलने के कारण (Reason of Spreading)

रूबेला का कारण एक वायरस है जो व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में संक्रमित हो जाता है. यह तब फैल सकता है जब कोई संक्रमित व्यक्ति खांसता या छींकता है, या यह किसी संक्रमित व्यक्ति के श्वसन स्राव जैसे कि बलगम के सीधे संपर्क में आने से फैल सकता है. यह रक्तप्रवाह के माध्यम से गर्भवती महिलाओं से उनके अजन्मे बच्चों तक भी पहुँच जाता है.

रूबेला से पीड़ित व्यक्ति को इस रोग की शुरुआत रैशे से होती हैं. और इस रोग का प्रभाव रैशे पूरी तरह समाप्त हो जाने के एक-दो सप्ताह तक रहता हैं. यह बीमारी अभी भी दुनिया के कई हिस्सों में आम है. रूबेला एक हल्का संक्रमण है. एक बार रूबेला हो जाने पर शरीर में इसके प्रति प्रतिरक्षा आ जाती हैं. रूबेला के साथ कुछ महिलाओं को उंगलियों, कलाई और घुटनों में गठिया का अनुभव होता है, जो आमतौर पर लगभग एक महीने तक रहता है. दुर्लभ मामलों में, रूबेला से कान में संक्रमण (ओटिटिस मीडिया) या मस्तिष्क की सूजन (एन्सेफलाइटिस) हो सकती है. जिसके कारण निम्नलिखित बीमारी होने की सम्भावना बढ़ जाती हैं.

  1. मोतियाबिंद
  2. बहरापन
  3. जन्मजात हृदय दोष
  4. अन्य अंगों में दोष
  5. बौद्धिक विकलांग

रोकथाम और उपचार (Rubella Prevention & Treatment)

रूबेला वैक्सीन आमतौर पर एक संयुक्त खसरा-कण्ठमाला-रूबेला टीका के रूप में दिया जाता है, जिसमें प्रत्येक वैक्सीन का सबसे सुरक्षित और सबसे प्रभावी रूप होता है. डॉक्टरों का सुझाव है कि बच्चों को 12 से 15 महीने की उम्र के बीच और फिर 4 से 6 साल की उम्र के बीच स्कूल में प्रवेश करने से पहले एमएमआर वैक्सीन मिलती है. यह विशेष रूप से महत्वपूर्ण है कि लड़कियों को भविष्य के गर्भधारण के दौरान रूबेला से बचाव के लिए वैक्सीन प्राप्त हो.

आमतौर पर शिशुओं को जन्म के बाद छह से आठ महीने तक रूबेला से बचाया जाता है. इस वैक्सीन को जन्म के 6 महीने बाद में ही दी जानी चाहिए लेकिन जिन बच्चों को जल्द टीका लगाया जाता है उन्हें बाद में अनुशंसित उम्र में टीकाकरण कराने की आवश्यकता होती है.

Loading...

यह भी देखे :

Leave a Comment