पुस्तकालय पर निबंध | Essay on Library in Hindi

पुस्तकालय पर निबंध (महत्व, लाभ और प्रकार) | Essay on Library (Impoertance, Benefits and Types) in Hindi | Pustakalaya Par Nibandh

पुस्तकालय का अर्थ होता है ‘पुस्तकों का घर’. जहां पुस्तकों को रखा जाता हो या संग्रह किया जाता है. अतः पुस्तकों के उन सभी संग्रहालयों को पुस्तकालय कहा जा सकता है जहाँ पुस्तकों का उपयोग पठन-पाठन के लिए किया जाता है. पुस्तकों को ज्ञान प्राप्ति का सर्वश्रेष्ठ माध्यम माना गया है. पुस्तकें ज्ञान राशि भंडार को अपने में संचित किए रहती है. ज्ञान ही ईश्वर है तथा सत्य एवं आनंद है.

पुस्तकालय का महत्व (Importance of Library in Hindi)

पुस्तकालय सरस्वती देवी की आराधना का मंदिर है. यहां आराधना करके आराधक वीणापानी सरस्वती का प्रत्यक्ष दर्शन करता है. यह ज्ञान प्राप्ति में सहायक होता है. इसी कारण व्यक्ति, समाज तथा राष्ट्र तीनों के लिए महत्वपूर्ण है. पुस्तकें ज्ञान प्राप्ति का सर्वोत्तम साधन है. इनसे मनुष्य के ज्ञान का विकास होता है तथा उनका दृष्टिकोण व्यापक होता है. उनकी बुद्धि और विचार क्षमता में वृद्धि होती है. एक ज्ञानी व्यक्ति ही समाज एवं राष्ट्र के साथ साथ मानवता का कल्याण कर सकता है जो प्रत्येक व्यक्ति के लिए महत्वपूर्ण है.

एक व्यक्ति अपनी रुचि एवं आवश्यकता के अनुसार पुस्तक खरीद नहीं सकता. कोई भी व्यक्ति आर्थिक रूप से इतना सशक्त नहीं होता कि वह मनचाही पुस्तक खरीद सके. अनेक बार पैसा जुटा लेने पर पुस्तके प्राप्त नहीं होती है क्योंकि उनमें से कुछ का प्रकाशन बंद हो चुका होता है और उनकी प्रतियां भी दुर्लभ हो जाती है. पुस्तकालय में जिज्ञासु अपनी आवश्यकता एवं प्रयोजन के अनुसार सभी पुस्तकों को प्राप्त कर लेता है तथा उनका अध्ययन करता है. अतः ज्ञान प्राप्ति के क्षेत्र में पुस्तकालय का महत्व अत्यधिक है.

पुस्तकालयों के प्रकार (Types of Library)

पुस्तकालय के विभिन्न प्रकार होते हैं जैसे

  1. व्यक्तिगत पुस्तकालय
  2. विद्यालय एवं महाविद्यालय के पुस्तकालय
  3. सार्वजनिक पुस्तकालय
  4. सरकारी पुस्तकालय

व्यक्तिगत पुस्तकालय के अंतर्गत पुस्तकों के वे संग्रहालय आते हैं जिनमें कोई व्यक्ति अपनी विशेष रुचि एवं आवश्यकता के अनुसार पुस्तकों का संग्रह करता है. विद्यालय तथा महाविद्यालय के अंतर्गत वे पुस्तकालय आते हैं जिनमें छात्रों और शिक्षकों के पठन पाठन हेतु पुस्तकों का संग्रह किया जाता है. कोई भी व्यक्ति सदस्य बन कर इसका उपयोग कर सकता है. सरकारी पुस्तकालयों का प्रयोग राज्य कर्मचारी एवं सरकारी अनुमति प्राप्त व्यक्तियों द्वारा किया जाता है.

पुस्तकालय से लाभ (Benefits of Library)

पुस्तकालय ज्ञान का भंडार होता है. इससे अनेक लाभ है, जिनमें से कुछ निम्नलिखित हैं.

ज्ञान की प्राप्ति (Knowledge Gain)

शिक्षा का वास्तविक अर्थ मनुष्य के ज्ञान का विकास करना है. यह ज्ञान मनुष्य की रुचि के अनुसार विभिन्न विषयों से संबंधित होता है. विद्यालय तथा महाविद्यालय में दी जाने वाली शिक्षा की परिसीमा संकुचित होती है. पाठ्यक्रम को पढ़कर कोई विद्यार्थी पास तो हो सकता है किंतु उससे उस विषय का समुचित ज्ञान प्राप्त नहीं होता. विषयगत ज्ञान के वास्तविक स्वरुप को प्राप्त करने के लिए उस विषय से संबंधित ज्ञान प्राप्त करने के लिए अन्य पुस्तकों का अध्ययन करने के लिए पुस्तकालय की आवश्यकता होती है. अतः पुस्तकालय ज्ञान की प्राप्ति में अमूल्य योगदान प्रदान करते हैं.

मनोरंजन का स्वस्थ साधन (Library as a Entertainment)

प्रत्येक मनुष्य के लिए मनोरंजन आवश्यक होता है तथा मनोरंजन के लिए पुस्तकों से अच्छा कोई साधन नहीं है. यह मनोरंजन के साथ-साथ संसार के अन्य विषयों की जानकारी भी बढ़ाती है. इससे हमारे विचारों में व्यापकता आती है. मानसिक योग्यता का विकास होता है. पुस्तकालय में आप अपनी रुचि के अनुसार पुस्तकों का अध्ययन कर सकते हैं. इसी कारण या मनोरंजन का एक स्वस्थ एवं सस्ता साधन है.

दुर्लभ पक्षियों की प्राप्ति के साधन

किसी भी विषय पर शोध एवं अनुसंधानात्मक कार्यों के लिए पुस्तकालय में संग्रहित पुस्तकों से व्यक्ति उन दुर्लभ शक्तियों को प्राप्त कर सकता है जिनकी जानकारी उसे अन्य किसी प्रकार से नहीं हो सकती. किसी भी विषय से संबंधित यह पुस्तकें पुस्तकालय में मिल जाती है जो प्रायः दुर्लभ हो जाती है.

पठन-पाठन में सहयोगी (Beneficial for both Student and Teachers)

पुस्तकालय छात्र और कक्षा अध्यापक दोनों के पठन-पाठन में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है. शिक्षक छात्र दोनों ही अपने बौद्धिक शक्तियों एवं व्यक्तिगत ज्ञान के विस्तार की दृष्टि से इसमें संग्रहित पुस्तकों से लाभान्वित होते हैं.

उपसंहार (Conclusion)

पुस्तकालय ज्ञान का भंडार है जो हमें ज्ञान प्रदान करता है. ज्ञान की प्राप्ति से ही मनुष्य वास्तविक अर्थों में मनुष्य बनता है. ऐसे ही मनुष्य से समाज या राष्ट्र का कल्याण होता है. अतः पुस्तकालय हमारे लिए अत्यंत महत्वपूर्ण और आवश्यक है. हर सरकार तथा स्वयंसेवी सामाजिक संस्थाओं को संपूर्ण देश में अधिक से अधिक पुस्तकालयों की स्थापना करनी चाहिए.

इसे भी पढ़े :

1 thought on “पुस्तकालय पर निबंध | Essay on Library in Hindi”

Leave a Comment

error: Content is protected !!