शौर्य डोभाल का जीवन परिचय | Shaurya Doval Biography in Hindi

शौर्य डोभाल की जीवनी, परिवार, पत्नी, करियर, विवाद | Shaurya Doval Biography, Family, Wife, Career, Controversies in Hindi

अजित डोभाल के पुत्र शौर्य डोभाल एक निजी पेशेवर और सार्वजनिक नीति विचारक हैं. वह भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) से भी जुड़े हैं. वह इंडिया फाउंडेशन का नेतृत्व करते हैं, जो नई दिल्ली में एक थिंक टैंक है. आधिकारिक तौर पर निर्मला सीतारमण और सुरेश प्रभाकर प्रभु जैसे लोगों के साथ वह इसके बोर्ड ऑफ गवर्नर्स में शामिल है. वह मशाल इनवेस्टमेंट मैनेजमेंट, एक वैश्विक प्रमुख निवेश प्रबंधन मंच में एक भागीदार भी हैं. 

बिंदु(Points) जानकारी (Information)
नाम (Name) शौर्य डोभाल
जन्म (Date of Birth) 26 अप्रैल 1974
जन्म स्थान (Birth Place) नई दिल्ली
पिता का नाम (Fathers Name)अजित डोभाल
पत्नी का नाम (Wife Name)अनु डोभाल
पेशा (Profession) नीति विचारक
जाति (Caste) ब्राह्मण
शिक्षा (Education) बीए ऑनर्स और चार्टर्ड एकाउंटेंट

प्रारंभिक जीवन और शिक्षा (Shaurya Doval Early Life and Education)

शौर्य डोभाल का जन्म 26 अप्रैल 1974 नई दिल्ली में हुआ था. उनका परिवार मूल रूप से पौड़ी गढ़वाल, उत्तराखंड से है. वह भारत के वर्तमान राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल अधिकारी के बेटे हैं, जो वर्तमान में भारत के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार हैं. शौर्य डोभाल ने दिल्ली विश्वविद्यालय के हिंदू कॉलेज से बीए ऑनर्स में स्नातक किया है. वह इंस्टीट्यूट ऑफ चार्टर्ड अकाउंटेंट्स ऑफ इंडिया से एक योग्य सीए (चार्टर्ड एकाउंटेंट) हैं और लंदन बिजनेस स्कूल और शिकागो बूथ से एमबीए भी किया हैं.

वर्ष 2015 में शौर्य डोभाल एक आइजनहावर फेलो (eisenhower fellow) थे, जहां उनकी फेलोशिप ने संयुक्त राज्य अमेरिका में सार्वजनिक नीति की खोज की थी. उन्होंने यह भी ध्यान दिया कि अमेरिकी थिंक-टैंक कैसे कार्य करते हैं और वे अमेरिकी नीति और जनमत को आकार देने में कैसे योगदान करते हैं. 

शौर्य डोभाल का पेशेवर करियर (Shaurya Doval Professional Career)

शौर्य डोभाल का ढाई दशक से अधिक का निवेश बैंकिंग करियर है, जिसके दौरान उन्होंने आर्थर एंडरसन, मॉर्गन स्टेनली और जीई कैपिटल जैसी कंपनियों के लिए न्यूयॉर्क, लंदन और नई दिल्ली में काम किया. 2007 में उन्होंने ZeusCaps नाम से एक वैश्विक प्रमुख निवेश प्रबंधन मंच शुरू किया जिसे बाद में टोर्च निवेश प्रबंधन (Torch Investment Management) का नाम दिया गया.

टोर्च निवेश प्रबंधन वैश्विक निवेशों के एक निजी इक्विटी पोर्टफोलियो का प्रबंधन करता है और यह सिंगापुर से बाहर आधारित है. वह ग्रेटर पैसिफिक कैपिटल की अंतरराष्ट्रीय नेतृत्व टीम का भी हिस्सा हैं, जो एक निजी इक्विटी फर्म है, जो लंदन से बाहर है.

अपने बैंकिंग करियर का पीछा करते हुए, शौर्य इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट फॉर स्ट्रैटेजिक स्टडीज लंदन का भी हिस्सा थे. वर्ष 2009 में वह एक टीम का हिस्सा थे जिसने भारत की नींव के निर्माण और विकास में मदद की थी. एक थिंक टैंक का मतलब महत्वपूर्ण राष्ट्रीय और सांस्कृतिक मुद्दों पर चर्चा और बहस करना था.

2015 में, शौर्य ने आइजनहावर फैलोशिप (eisenhower fellowship) कार्यक्रम में भाग लिया, जहां उन्होंने संयुक्त राज्य अमेरिका में सार्वजनिक नीति विकास की खोज पर अपनी संगति पर ध्यान केंद्रित किया. 

2017 में शौर्य ने अपने मूल स्थान उत्तराखंड से सक्रिय राजनीति में प्रवेश करने का संकेत दिया था. शौर्य ने 16-17 दिसंबर, 2017 की बैठक में उत्तराखंड भाजपा की कार्यकारिणी समिति के सदस्य के रूप में भाग लिया. उत्तराखंड के भाजपा अध्यक्ष अजय भट्ट ने कहा, “मैंने उन्हें (शौर्य डोभाल) को कार्यकारी समिति के विशेष आमंत्रित सदस्य के रूप में बैठक में आमंत्रित किया था. वह आठ-नौ सदस्यों के एक सलाहकार समूह का हिस्सा है. जब भी मैं दिल्ली में होता हूं, उनसे मिलता हूं और उत्तराखंड में विभिन्न मुद्दों खासकर पर अर्थव्यवस्था से संबंधित विषय पर उनकी सलाह लेता हूं.

शौर्य ने बुलंद उत्तराखंड के विचार की अवधारणा की और कई सामुदायिक आधारित परियोजनाओं की शुरुआत की. जून 2018 में ‘बुलंद उत्तराखंड’ अभियान के तहत, उन्होंने परियोजना ‘बेमिसाल गढ़वाल’ शुरू की. जिसका उद्देश्य क्षेत्र में कृषि, स्वास्थ्य और खेती पर ध्यान देने के साथ समुदाय के लोगों के जीवन की गुणवत्ता को विकसित करना हैं.

शौर्य डोभाल से जुड़े विवाद (Shaurya Doval Controversies)

द वायर प्रिंट मीडिया ने द इंडिया फाउंडेशन में शौर्य डोभाल के नेतृत्व और सरकार में उनके पिता की भागीदारी के बीच हितों के टकराव की चिंताओं को उठाया. जिसके बाद शौर्य डोभाल ने दावों का खंडन किया और बाद में प्रकाशन के खिलाफ मानहानि का मुकदमा भी दायर किया था. 

शौर्य डोभाल को प्राप्त पुरस्कार और मान्यता (Shaurya Doval Awards and Recognition)

इंडियन पावर सेक्टर में योगदान के लिए शौर्य डोभाल को उद्योग रतन अवार्ड (2012) दिया गया. 

आइजनहावर फेलो 2015 (Eisenhower Fellow (2015)

इसे भी पढ़े :

  1. अमित शाह का जीवन परिचय  
  2. बेयर ग्रिल्स का जीवन परिचय 
  3. अजीत डोभाल (राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार) की जीवनी  
Loading...

Leave a Comment

Item added to cart.
0 items - 0.00