सिंधुताई सपकाल का जीवन परिचय | Sindhutai Sapkal Biography in Hindi

Sindhutai Sapkal (social worker) Biography in Hindi | सिंधुताई सपकाल का जीवन परिचय | Sindhutai Sapkal ka Jeevan Parichay in Hindi

सिंधुताई सपकाल एक भारतीय समाज सुधारक हैं. जिन्हें “अनाथ बच्चों की माँ” के रूप में जाना जाता है. वह विशेष रूप से भारत में अनाथ बच्चों को पालने और उनके भरण पोषण का कार्य करती है. वर्ष 2016 में सिंधुताई को समाज सेवा के कार्यों के लिए डीवाई पाटिल इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी एंड रिसर्च द्वारा साहित्य में डॉक्टरेट की उपाधि से सम्मानित किया था. 

भारतीय महिला के लिए जीवन कभी आसान नहीं रहा है. वह चाहे अमीर या गरीब हो वे इतिहास में निरंकुश समाज के प्रकोप का सामना करती आ रही हैं. सामाजिक पाखंड के संदर्भ में समाज में व्याप्त खामियां कुछ लोगों की मानसिकता के परिणाम हैं जो महिलाओं के जीवन को हर क्षेत्र में दुखी कर रहे हैं. लेकिन, सवाल यह है कि कौन उन्हें अपनी मौजूदा सकल स्थितियों से बाहर लाने जा रहा है. प्रत्येक व्यक्ति अपने स्वयं के उद्धारकर्ता है महाराष्ट्र से सिंधुताई इस बात का उदाहरण हैं. 

बिंदु(Points) जानकारी (Information)
नाम (Name) सिंधुताई सपकाल
जन्म (Date of Birth) 14 नवंबर 1948
जन्म स्थान (Birth Place) महाराष्ट्र के वर्धा जिले में
पिता का नाम (Father Name) अभिमान जी साथे
पति का नाम (Husband Name) श्रीहरी सपकाल
जाति (Caste) ज्ञात नहीं
पेशा (Profession) भारतीय समाज सुधारक
शिक्षा (Education) कक्षा चौथी

सिंधुताई जन्म और शिक्षा (Sindhutai Birth and Education)

समाज सुधारक सिंधुताई का जन्म 14 नवंबर 1948 को महाराष्ट्र के वर्धा जिले में एक मवेशी चराने वाले परिवार में हुआ था. गरीब परिवार में जन्म के कारण उन्हें चिंदी (कपड़े के फटे हुए टुकड़े के लिए मराठी शब्द) के कपडे पहनना पड़ते थे. सिंधुताई के पिताजी का नाम अभिमानजी था. उनके पिता सिंधुताई को शिक्षित करने के इच्छुक थे. सिंधुताई के पिता उन्हें मवेशी चराने के बहाने से स्कूल भेजते थे. आर्थिक रूप से कमजोर होने के कारण अभिमान जी एक पट्टी (स्लेट) का भी खर्च नहीं उठा सकते थे. इसलिए वह एक स्लेट के रूप में ‘भड़डी के पेड़’ के पत्ते का उपयोग करते थे. गरीबी, पारिवारिक जिम्मेदारियों और बाल विवाह के कारण सिन्धुताई को शिक्षा छोडनी पड़ी. वह सिर्फ कक्षा चार तक पड़ी थी. 

सिंधुताई का परिवार और प्रारंभिक जीवन (Sindhutai’s family and early life) 

जब सिंधुताई सिर्फ दस साल की थीं, जब उनकी शादी उनसे 10 साल बड़े व्यक्ति श्रीहरी सपकाल से कर दी गई थी. उनका जीवन चुनौतियों से भरा था. बाल विवाह के चंगुल का शिकार होने के बाद भी युवा सिंधुताई जीवन के प्रति आशावादी थी. बल्कि, संवेदनशील और दुर्व्यवहार के प्रतिकार में मदद करने के लिए उसका उत्साह बढ़ गया. अपने पति के घर में बसने के बाद, वह जमींदारों और वन अधिकारियों द्वारा महिलाओं के शोषण के खिलाफ खड़ी हुई. 

वह नहीं जानती थी कि इस लड़ाई के बाद उसका जीवन और मुश्किल हो जायेगा. जब वह बीस वर्ष की उम्र में गर्भवती हुई, तो एक क्रोधित जमींदार ने बेवफाई (यह बच्चा किसी और का हैं) की घृणित अफवाह फैला दी, जिसके कारण अंततः सिंधुताई की उसके समुदाय से बाहर निकाल दिया गया. 

उसके पति ने उसे ऐसी गंभीर हालत में बुरी तरह से डांटा और घर से निकाल दिया. उसी रात सिंधुताई बेहद निराश और हतप्रभ महसूस कर रही थी, उसने अपनी बेटी को गौशाला में जन्म दिया. वह किसी तरह अपने पैतृक घर तक पहुँचने के लिए संघर्ष करती रही, लेकिन उसे अपनी माँ से भी ऐसी ही अस्वीकृति का सामना करना पड़ा. सिंधुताई ने अपने जरूरतों को पूरा करने के लिए सड़कों और रेलवे स्टेशनों पर भीख मांगने का सहारा लिया. उसका जीवन अपने और अपनी बेटी के अस्तित्व के लिए किसी संघर्ष से कम नहीं था. 

जीवित रहने के लिए संघर्ष की अपनी यात्रा में, सिंधुताई महाराष्ट्र के चिकलदरा में आ गई. जहां एक बाघ संरक्षण परियोजना की गई, जिसके परिणामस्वरूप 24 आदिवासी गांवों को खाली कराया गया. उसने असहाय आदिवासी लोगों की इस गंभीर स्थिति के खिलाफ आवाज उठाने का फैसला किया. उनके लगातार प्रयासों को वन मंत्री ने मान्यता दी, जिन्होंने आदिवासी ग्रामीणों के लिए प्रासंगिक वैकल्पिक पुनर्वास व्यवस्था बनाने का आदेश दिया. 

इन जैसी स्थितियों ने सिंधुताई को जीवन की कठोर वास्तविकताओं जैसे कि गाली, गरीबी और बेघरों से परिचित कराया. इस समय के दौरान वह अनाथ बच्चों और असहाय महिलाओं की संख्या से घिर गईं और समाज में बस गईं. सिंधुताई ने इन बच्चों को गोद लिया और उनकी भूख मिटाने के लिए अथक परिश्रम किया. अपनी बेटी के प्रति खुद को आंशिक होने से बचाने के लिए सिंधुताई ने अपनी बेटी को अपने गोद लिए हुए बच्चों की खातिर पुणे में एक ट्रस्ट में भेज दिया.

कई सालों तक कड़ी मेहनत करने के बाद सिंधुताई ने चिकलदरा में अपना पहला आश्रम बनाया. उसने अपने आश्रमों के लिए धन जुटाने के लिए कई शहरों और गांवों का दौरा किया. अब तक, उन्होंने 1200 बच्चों को गोद लिया है, जो प्यार से उन्हें ‘माई’ कहकर बुलाते हैं. उनमें से कई अब सम्मानित स्थानों पर डॉक्टर और वकील के रूप में काम कर रहे हैं. 

सिंधुताई एक आदर्श के रूप में (Sindhutai As A Ideal)

सिंधुताई सपकाल की जीवन गाथा सभी अद्भुत भाग्य और दृढ़ संकल्प के बारे में है. उसने उल्लेखनीय रूप से प्रदर्शित किया है कि कैसे कठिनाइयाँ आपमें सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन कर सकती हैं. स्वतंत्र भारत में पैदा होने के बाद भी, उन्होंने भारतीय समाज में मौजूद सामाजिक अत्याचारों का शिकार किया था. अपने जीवन से सबक लेते हुए, उन्होंने महाराष्ट्र में अनाथ बच्चों के लिए छह अनाथालय बनाए, उन्हें भोजन, शिक्षा और आश्रय प्रदान किया. उनके द्वारा चलाए जा रहे संगठनों ने असहाय और बेघर महिलाओं की भी सहायता की.

अपने अनाथालयों को चलाने के लिए सिंधुताई ने पैसों के लिए कभी किसी के सामने हाथ नहीं फैलाया बल्कि उसने सार्वजनिक मंचों पर प्रेरक भाषण दिए और समाज के वंचितों और उपेक्षित वर्गों की मदद के लिए सार्वजनिक समर्थन मांगा. अपने एक अविश्वसनीय भाषण में सिन्धुताई ने अन्य लोगों को प्रेरणा प्रदान करने के लिए हर जगह अपनी कहानी प्रसारित करने के लिए जनता से अपनी इच्छा व्यक्त की. उनकी लोकप्रियता ने कभी भी उसके व्यक्तित्व पर काबू नहीं पाया. उसकी खुशी उसके बच्चों के साथ होने, उनके सपनों को साकार करने और उन्हें जीवन में बसाने के बारे में है. 

सिंधुताई द्वारा संचालित संगठन (Organization Run by Sindhutai)

  1. सनमती बाल निकेतन, भेलहेकर वस्ती, हडपसर,
  2. पुणेममता बाल सदन, कुंभारवलन, सासवद
  3. माई का आश्रम चिखलदरा, अमरावती
  4. अभिमान बाल भवन, वर्धा
  5. गंगाधरबाबा छत्रालय, गुहा
  6. सिंधु ‘महिला अधार, बालसंगोपन शिक्षण संस्थान, पुणे

उपलब्धियां और पुरस्कार (Achievements and Awards)

  • सिंधुताई सपकाल को अपने सामाजिक कार्यों के लिए 750 से अधिक पुरस्कारों से सम्मानित किया गया है.
  • 2017 – महिला दिवस पर 8 मार्च 2018 को सिंधुताई सपकाल को भारत के राष्ट्रपति से नारी शक्ति पुरस्कार से सम्मानित किया गया. यह महिलाओं के लिए समर्पित सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार है. 
  • 2016 – सोशल वर्कर ऑफ द ईयर अवार्ड वॉकहार्ट फाउंडेशन 
  • 2015 – अहमदिया मुस्लिम शांति पुरस्कार वर्ष 
  • 2014 – बसव सेवा संघ, पुणे से सम्मानित बासवासा पुरासकार 
  • 2013 – मदर टेरेसा अवार्ड्स फॉर सोशल जस्टिस 
  • 2013 – प्रतिष्ठित माँ के लिए राष्ट्रीय पुरस्कार 
  • 2012 – सीएनएन-आईबीएन और रिलायंस फाउंडेशन द्वारा दिए गए रियल हीरोज अवार्ड्स 
  • 2012 – कॉलेज ऑफ़ इंजीनियरिंग, पुणे द्वारा दिया गया COEP गौरव पुरस्कार
  • 2010 – महाराष्ट्र सरकार द्वारा सामाजिक कार्यकर्ताओं को महिलाओं और बाल कल्याण के क्षेत्र में अहिल्याबाई होल्कर पुरस्कार 
  • 2008 – दैनिक मराठी समाचार पत्र लोकसत्ता द्वारा दी गई वीमेन ऑफ द ईयर अवार्ड
  • 1996 – दत्ताक माता पुष्कर, गैर-लाभकारी संगठन द्वारा दिया गया – सुनीता कलानिकेतन ट्रस्ट (स्वर्गीय सुनीता त्र्यंबक कुलकर्णी की यादों में), ताल – श्रीरामपुर जिला अहमदनगर महाराष्ट्र पुणे 
  • 1992 – अग्रणी सामाजिक योगदानकर्ता पुरस्कार 
  • सह्याद्री हिरकानी अवार्ड (मराठी: सह्यद्रीच हिरकानी पुरस्कार)
  • राजाई पुरस्कार (मराठी: राजाई पुरस्कार)
  • शिवलीला गौरव पुरस्कार (मराठी: शिवलीला महिला गौरव पुरस्कार)

सिंधुताई के जीवन पर फिल्म (Film Based on Sindhutai’s Life)

अनंत महादेवन की 2010 की मराठी फिल्म “मी सिंधुताई सपकाल” सिंधुताई सपकाल की सच्ची कहानी से प्रेरित एक बायोपिक है. इस फिल्म को 54 वें लंदन फिल्म फेस्टिवल में वर्ल्ड प्रीमियर के लिए चुना गया था. 

इसे भी पढ़े :

  1. रुबिका लियाकत (टीवी एंकर) का जीवन परिचय 
  2. किरण बेदी का जीवन परिचय  
  3. माधुरी दीक्षित की जीवन परिचय  
Loading...

Leave a Comment

Item added to cart.
0 items - 0.00