NFT क्या है? जाने इसका महत्व | NFT Token meaning & it’s importance in hindi

NFT क्या है ? और क्या है इसका महत्व, जाने विस्तार से |
What is NFT Token and it’s importance, meaning, platforms, full form in hindi.

आज हम उस वातावरण में है जो काफी हद तक टेक्नोलॉजी पर निर्भर करता है और क्यों न हो, आखिर कोई टेक्नोलॉजी आपका काम आसान और सरल बना दे तो आप उस टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल क्यूँ नहीं करेंगे. आज हर व्यक्ति टेक्नोलॉजी के द्वारा अपना काम कर रहा है. टेक्नोलॉजी आपकी चीजो पर से निर्भता खत्म कर रही है. इसीलिए आज टेक्नोलॉजी का क्रेज़ बढ़ता जा रहा है, हर दिन कोई नई टेक्नोलॉजी मार्केट में आती है. ऐसी ही एक टेक्नोलॉजी बहुत प्रचलित हो रही है जिसका नाम है NFT (non-Fungible-Token).

यदि आप आज किसी भी सोशल मीडिया प्लेटफोर्म जैसे Facebook, Twitter, Instagram या फिर YouTube, LinkedIn से जुड़े है तो, आपने NFT के बारे में तो सुना ही होगा . NFT एक ऐसी टेक्नोलॉजी जो डिजिटल दुनिया की नई जनरेशन है और आजकल ये बहुत प्रचलित है, पर अभी भी इसे लेकर लोगो के मन में बहुत सवाल है. इसीलिए हम आपके लिए ये लेख लाएं है जिसमे हमने आपके सभी सवालो को कवर करने की कोशिश की है, तो चलिए जानते है क्या है ये NFT ?

NFT क्या है ?

एनएफटी (NFT) यानि “नॉन-फंजिबल टोकन” इसे एक करके समझते है, Fungible यानि स्थान लेना या प्रतिस्थापन और नॉन-फंजिबल मतलब जिसका प्रतिस्थापन नही किया जा सकता, आसान भाषा में जिसे बदला नही जा सकता या उसके जेसा कोई नहीं. अब इसमे टोकन जोड़ दे तो ये पूरी एक टेक्निकल टर्म बन जाता है, जो ब्लॉक चैन पर आधारित है. चलिए एक उदहारण से समझते है

  • “एक पेंटिंग है जिसे किसी कलाकार ने बनाया है और वह उसे इन्टरनेट पर अपलोड करता है जैसे ही वह पेंटिंग या इमेज इन्टरनेट पर आती है वह पब्लिक प्रोपर्टी बन जाती है जिसे कोई भी डाउनलोड कर अपना अधिकार जमा सकता है, बस यही से NFT की कहानी शुरू होती है.
  • अब यदि कोई व्यक्ति अपनी कला पर NFT लेले यानि नॉन-फंजिबल बना ले तो उसे डिजिटली एक टोकन मिलेगा जो उसे ये अधिकार देगा कि उस image पर सिर्फ उसका अधिकार होगा फिर चाहे उसकी जीतनी चाहे प्रतियाँ बन जाए पर उस चित्र का असली अधिकार उसी के पास होगा और वह समय-समय पर उस पेंटिंग की वैल्यू डिजिटली बढ़ा सकता है और वह जब चाहे वह टोकन किसी ओर को बेच भी सकता है”.
  • खरीददार जब उस चित्र को यानि उसके डिजिटल टोकन को आगे बेचेगा तब बेचीं गई कीमत का 10 प्रतिशत रोयल्टी उसके असली मालिक यानि जिसने उसे सबसे पहले बनाया था उसे जाएगा. यानि आपकी सम्पत्ति जीतनी बार बिकेगी आपको उतनी बार फायदा होगा और उसकी कीमत बढ़ती ही जाएगी. अब इसे टेक्निकल भाषा में समझते है.
  "नॉन-फंजिबल टोकन (NFT) एक तरह का डिजिटल संपत्ति या अधिकार होता है, इसे आप एक निजी डेटा भी कह सकते है, जिसका आदान-प्रदान ब्लॉकचैन पर आधारित होता है और ये भी क्रिप्टोकरेंसी की तरह ब्लॉकचैन की नई टेक्नोलॉजी है. चूँकि क्रिप्टोकरेंसी भी ब्लॉकचैन पर काम करती है इसलिए NFT को डिजिटली क्रिप्टोकरेंसी के द्वारा ही ख़रीदा या बेचा जा सकता है. NFT एक डिजिटल संपत्ति या टोकन होते है जिसे आप या कोई भी खरीद या बेच सकता है". 

Crypto को अमीर बनने की Quick स्कीम की तरह न देखें : Ashish Arora

अब कोई भी कलाकार अपने हुनर को NFT में मोनेटाइज कर यानि उसका डिजिटल वर्ज़न बनाकर उसे बेच सकता है. अब कोई भी असली चीज जैसे, धुन, गाना, शब्द, चित्र, गेम या कुछ भी ऐसा जिसे आपने बनाया हो और किसी ने नहीं और उसके जैसा और कोई न हो. उसका डिजिटल वर्ज़न टोकन के रूप में बदल कर आप उसका लाभ उठा सकते है.

NFT इतना ख़ास क्यों है ?

अब जब आप NFT की मदद से किसी भी चीज का डिजिटल वर्ज़न बना सकते है तो मन में सवाल ये आता है कि “ये कितना सुरक्षित है ?” क्योंकि जब किसी भी चीज का डिजिटल वर्जन इन्टरनेट पर है तो, हो सकता है उसकी प्रतियाँ भी इन्टरनेट पर हो. यही चीज NFT को खास बनाती है क्योंकि NFT यूनीक होते हैं, और उन्हें एक यूनिक कोड में असाईन किया जाता है.

आप ये कह सकते है कि जैसे आपकी 2 फिंगर के प्रिंट्स एक जैसे नहीं हो सकते वैसे हि 2 NFT कोड एक जैसे नहीं हो सकते. प्रत्येक NFT को एक यूनीक ID मिलति है. इससे नकली NFT बिकने की संभावना कम हो जाती है और ठहरी बात सुरक्षा की तो, जब भी आप कोई एनएफटी लेते है तो आपको ब्लॉकचेन से संग्रहित सुरक्षित सर्टिफिकेट दिया जाता है. यही चीज इसे इतना खास बनाती है औऱ इसीलिये NFT को इतनी प्रसिद्धि मिल रही है जो लगातार चर्चा का विषय बना हुआ है.

आज NFT इतना वायरल क्यों है ?

ऐसा कुछ नहीं है कि NFT अभी हाल ही मे मार्केट मैं आया है, आपको जानकर हैरानी होगी कि NFT 2014 से हमारे बीच में है, पर पिछले कुछ दिनों मे एनएफटी ने लोगो का ध्यान अपनी तरफ़ खींचा है, उसका कारण है एक मीम (Joke) का 38 लाख रुपये में बिकना. जी हाँ, एक मीम जो काफी दिनों से वायरल हो रहा था इसलिये उसको बनाने वाले ने NFT की मदद से उसका डिजिटल वर्जन बना लिया और उसे बेच दिया जिसकी डिजिटली किमत 38 लाख रुपये लगाई गई.

  • इसके अलावा पत्थर की एक पेंटिंग NFT से 75 लाख मे बिकी है.
  • Beeple नाम के एक आर्टिस्ट ने अपना JPEG Image 512 करोड़ में बेचा.
  • जबकि Twitter के CEO जैक डॉर्सी का पहला ट्वीट का NFT से 20 करोड़ में बिका, जिसे उन्होंने 21 मार्च, 2006 को किया था और यह ट्वीट 2021 मैं 22 मार्च को एनएफटी के वर्जन मे बिक गया.

आज NFT का इतना महत्व क्यों है ?

आज NFT को इतनी महत्वता इसीलिए दी जा रही है क्योंकि ये किसी भी व्यक्ति की संपत्ति के अधिकार को उसी व्यक्ति तक सीमित रखता है जिसने उसे बनाया है. यानि उस चीज का मालिकाना हक़ एक ही व्यक्ति के अधिकार में होता है. चूँकि ये टोकन ब्लॉकचैन टेक्नोलॉजी पर काम करता है इसलिए इन डिजिटल असेस्ट्स को कोई एक व्यक्ति ही होल्ड और एक्सेस कर सकता है. ये किसी भी कलाकार के लिए वरदान की तरह है जो अपने क्रिएशन को लोगो के बिच डिजिटली लाना चाहता है और उसकी सही कीमत चाहता है. अब कोई भी कलाकार अपनी कला को डिजिटल वर्जन में बदलकर NFT के जरिये बेचकर अच्छी कीमत हासिल कर सकता है और यदि उसकी कला आगे बिकती है तो उसका फायदा उसके असली मालिक को भी मिलता है, जिससे उसकी कला की कीमत बढ़ेगी.

अपने क्रिएशन पर NFT कैसे ले ?

जब आप सारी बात समझ गए है तो अब आपके दिमाग में ये सवाल आएगा कि, अपने क्रिएशन पर NFT कैसे लें ? इसका जवाब भी हम आपको जरूर देंगे, पर हमारे अगले लेख में जिसे हम वहां विस्तार से ये समझाएंगे कि NFT कहा से ले, कौन-कौन से प्लेटफॉर्म है जहाँ ये सर्विस दी जा रही है और आपके लिए कौनसा बेहतर प्लेटफॉर्म है ? ये सभी सवाल हम आपको कुछ ही दिनों में एक और लेख के माध्यम से देंगे, इसलिए हमारी वेबसाइट को विजिट करते रहे.

आपको हमारा ये लेख कैसा लगा हमें कमेंट बॉक्स में जरूर बताए और यदि इससे संबंधी कोई सवाल भी हो तो भी हमें कमेंट करके बताए।

इसे भी पढ़े:

Leave a Comment

error: Content is protected !!